Wednesday, December 1, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनबॉलीवुड में गैंगबाजी के कारण ज्यादातर तमिल फिल्मों में करता हूँ काम: 'दिल बेचारा'...

बॉलीवुड में गैंगबाजी के कारण ज्यादातर तमिल फिल्मों में करता हूँ काम: ‘दिल बेचारा’ के म्यूजिक डायरेक्टर AR रहमान

"मैं डार्क फिल्में करता हूँ, क्योंकि एक पूरा ग्रुप मेरे खिलाफ काम कर रहा है बिना ये सोचे समझे कि वो मेरा नुकसान ही कर रहे हैं। लोग चाहते हैं कि मैं उनके लिए काम करूँ लेकिन साथ ही वो लोग भी हैं जो नहीं चाहते कि मुझे काम मिले......"

म्यूजिक निर्देशक एवं गायक ए आर रहमान (A R Rahman) ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में इस बात का खुलासा किया है कि क्यों वे हिन्दी फिल्मों की जगह ज्यादातर तमिल फिल्मों के लिए संगीत तैयार करते हैं। बता दें, एआर रहमान ने सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी रिलीज हुई फिल्म ‘दिल बेचारा’ में संगीत दिया है।

रेडियो मिर्ची को दिए एक इंटरव्यू में रहमान ने कहा, “मैं अच्छी फिल्मों को मना नहीं करता, लेकिन मुझे लगता है कि कोई गैंग है जो गलतफहमी के चलते गलत खबरें फैला रहा है। मुकेश छाबड़ा मेरे पास आए थे और मैंने उन्हें दो दिन में गाना तैयार करके दिया।”

उन्होंने मुझसे कहा- सर ना जाने कितने लोगों ने कहा है कि मत जाइए, मत जाइए उनके पास और उन्होंने मुझे कहानियों पर कहानियाँ सुनाई हैं।” रहमान ने कहा कि मैंने उनकी बातें सुनीं और सोचा कि ठीक है अब मैं समझ गया हूँ कि मुझे कम काम क्यों मिल रहा है और अच्छी फिल्में मेरे पास तक क्यों नहीं आ पाती हैं।”

बातचीत के दौरान, उन्होंने कथित तौर पर उस संगीत के बारे में भी बताया जो उन्होंने तमाशा, रॉकस्टार, दिल से और गुरु सहित अन्य बॉलीवुड फिल्मों के लिए तैयार किया है।

रहमान आगे कहा, “मैं डार्क फिल्में करता हूँ, क्योंकि एक पूरा ग्रुप मेरे खिलाफ काम कर रहा है बिना ये सोचे समझे कि वो मेरा नुकसान ही कर रहे हैं। लोग चाहते हैं कि मैं उनके लिए काम करूँ लेकिन साथ ही वो लोग भी हैं जो नहीं चाहते कि मुझे काम मिले। लेकिन ठीक है, मैं तकदीर में विश्वास रखता हूँ और मैं मानता हूँ कि सब कुछ आपके पास ईश्वर के जरिए आता है।”

उन्होंने आगे कहा, मैं अपनी फिल्में ले कर आ रहा हूँ। इसके अलावा मैं अपने और कामों में व्यस्त हूँ। मैं आप सभी लोगों का स्वागत करता हूँ, कि आप मेरे साथ आए। हम मिल कर बेहतरीन फिल्में बनाएँगे।

गौरतलब है कि सुशांत की आत्महत्या ने बॉलीवुड के पर्दे के पीछे की सच्चाई को सामने ला दिया हैं। कई बड़े एक्टर, फेमस सेलेब्रिटीज़ से जुड़ी कई बातें सामने आ रही हैं। आए दिन लोग नेपोटिज्म को लेकर भी खुलकर बात कर रहे हैं। उनकी अचानक मौत से उनके प्रशंसकों और कंगना रनौत जैसी अन्य हस्तियों में नाराजगी फैल गई, जिन्होंने आरोप लगाया कि बॉलीवुड के दिग्गजों की इंडस्ट्री में भाई-भतीजावाद को बढ़ावा देने के कारण सुशांत सिंह राजपूत ने अपना जीवन समाप्त करने का इतना कठोर निर्णय लिया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe