Saturday, July 20, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'मुझे और मेरे परिवार को खतरा, मिले अतिरिक्त सुरक्षा': 'गाँधी गोडसे - एक युद्ध'...

‘मुझे और मेरे परिवार को खतरा, मिले अतिरिक्त सुरक्षा’: ‘गाँधी गोडसे – एक युद्ध’ के निर्देशक राजकुमार संतोषी, प्रेस कॉन्फ्रेंस में घुस गाँधी समर्थकों ने दिखाए थे काले झंडे

उन्होंने बताया है कि इसके बाद फिल्म की रिलीज और प्रमोशन्स रोकने के लिए उन्हें अज्ञात लोगों द्वारा कई धमकियाँ आई हैं।

जहाँ एक तरफ लोग शाहरुख़ खान की आने वाली फिल्म ‘पठान’ के बॉयकॉट की माँग की जा रही है, वहीं दूसरी तरफ ‘गाँधी गोडसे – एक युद्ध’ फिल्म को लेकर ताज़ा विवाद छोड़ गया है। राजकुमार संतोषी की फिल्म की स्क्रीनिंग के दौरान ही महात्मा गाँधी के समर्थकों ने पर्दे के सामने आकर हंगामा किया, जिसके बाद उन्होंने अपनी और अपने परिवार की जान को खतरा बताया है। उन्होंने इस संबंध में पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई है।

फिल्म निर्देशक राजकुमार संतोषी ने अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराने की माँग करते हुए कहा है कि आरोपितों पर सख्त कार्रवाई की जाए। वो 9 वर्षों बाद बड़े पर्दे पर वापसी कर रहे हैं, ऐसे में उनकी फिल्म को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है। शुक्रवार (20 जनवरी, 2023) को भी फिल्म के कलाकारों को प्रमोशंस के दौरान विरोध का सामना करना पड़ा था। कुछ लोगों ने काले झंडे दिखाते हुए महात्मा गाँधी के समर्थन में नारेबाजी भी की थी।

विवाद इतना बढ़ गया था कि प्रदर्शनकारियों को शांत कराने के लिए पुलिस तक बुलानी पड़ी थी। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ये हंगामा हुआ था। अँधेरी स्थित सिटी मॉल के PVR सिनेमा मॉल में उस दिन शाम के 4 बजे ये हंगामा हुआ था। निर्देशक का कहना है कि अपना हित साधने के लिए कुछ तत्वों ने ऐसा किया है। उन्होंने बताया है कि इसके बाद फिल्म की रिलीज और प्रमोशन्स रोकने के लिए उन्हें अज्ञात लोगों द्वारा कई धमकियाँ आई हैं।

राजकुमार संतोषी ने शिकायत में लिखा है, “अगर ऐसे लोग खुले छोड़ दिए गए तो वो मुझे और और मेरे परिवार को गंभीर नुकसान पहुँचा सकते हैं। मैं असुरक्षित महसूस कर रहा हूँ। इसीलिए, मुझे और मेरे परिवार के सदस्यों को अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराई जाए।” 66 वर्षीय राजकुमार संतोषी ‘दामिनी (1993)’, ‘घातक (1996)’, ‘लज्जा (2001)’ और ‘अजब प्रेम की गजब कहानी (2009)’ जैसी फिल्मों के लिए जाने जाते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -