Wednesday, July 6, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजनआदित्य ठाकरे के बेस्ट फ्रेंड हैं करण जौहर, उन्हें पूछताछ के लिए नहीं बुलाया...

आदित्य ठाकरे के बेस्ट फ्रेंड हैं करण जौहर, उन्हें पूछताछ के लिए नहीं बुलाया जाएगा: सुशांत सुसाइड केस पर टीम कंगना

"वे उन्हें कभी नहीं बुलाएँगे, क्योंकि वे आदित्य उद्धव ठाकरे के बेस्ट फ्रेंड हैं। यह उनकी सरकार है और उन्होंने कंगना के इंटरव्यू से पहले ही यह केस बंद कर दिया। यह इस बात का सबूत है कि वे अपने दोस्तों को बचा रहे हैं।"

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने उद्धव ठाकरे की शिवसेना-एनसीपी-कॉन्ग्रेस सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है। उनका कहना है कि सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में मुंबई पुलिस फिल्म निर्देशक करण जौहर को कभी पूछताछ के लिए नहीं बुलाएगी, क्योंकि वे आदित्य ठाकरे के बेस्ट फ्रेंड हैं।

यह बात टीम कंगना ने सुमित ठाकुर नाम के ट्विटर यूजर के पोस्ट पर कमेंट करते हुए कही है। कंगना खुद सोशल मीडिया में नहीं हैं और @KanganaTeam नामक ट्विटर हैंडल से वे अपना पक्ष रखती रहती हैं। वहीं आदित्य ठाकरे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे और राज्य सरकार में मंत्री हैं।

टीम कंगना ने कहा है, “वे उन्हें कभी नहीं बुलाएँगे, क्योंकि वे आदित्य उद्धव ठाकरे के बेस्ट फ्रेंड हैं। यह उनकी सरकार है और उन्होंने कंगना के इंटरव्यू से पहले ही यह केस बंद कर दिया। यह इस बात का सबूत है कि वे अपने दोस्तों को बचा रहे हैं।”

ठाकुर ने करण जौहर की फोटो के साथ ट्वीट किया था, “35 दिन हो गए हैं और अब भी सबसे बड़े संदिग्ध करण जौहर को सुशांत सिंह राजपूत केस में पूछताछ के लिए नहीं बुलाया गया है। मैं एडवोकेट रसपाल सिंह रेणु के जरिए मुंबई पुलिस के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में पीआईएल दाखिल कर रहा हूॅं ताकि सार्वजनिक हित में स्वतंत्र और निष्पक्ष जॉंच हो सके।”

सोशल मीडिया पर कई लोगों ने टीम कंगना के बयान का समर्थन किया है। इससे पहले यह खबर आई थी कि इस मामले में मुंबई पुलिस ने पूछताछ के लिए करण जौहर के मैनेजर को बुलाया है।

गायक सोनू निगम ने भी कंगना रनौत की सराहना की है। उन्होंने कहा कि कंगना इतनी मजबूत हैं, तभी वो अपने मन की बात इतने सही तरीके से बोल पाती हैं। सोनू निगम ने कहा कि उनके मन में कंगना के लिए काफी सम्मान है, क्योंकि पिछले 4-5 वर्षों से वो जो कर रही हैं, उसके लिए सोच में स्पष्टता होनी ज़रूरी है और साहस भी होना चाहिए। उन्होंने कंगना के उस आरोप का भी समर्थन किया, जिसमें उन्होंने महेश भट्ट पर चप्पल फेंकने का आरोप लगाया था।

बता दें कि फ़रवरी 2020 में कंगना रनौत की बहन रंगोली चंदेल फ़िल्म निर्माता एवं निर्देशक महेश भट्ट से जुड़ा एक वाकया बताया था। महेश भट्ट चाहते थे कि कंगना रनौत उनकी फ़िल्म में फिदायीन यानी आत्मघाती हमलावर का किरदार अदा करें। कंगना को ये रोल पसंद नहीं आया और उन्होंने इनकार कर दिया। महेश इस बात से इतने आग-बबूला हो गए कि उन्होंने कंगना को चप्पल दे मारी।

इधर बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जाँच कर रही मुंबई पुलिस सोमवार (जुलाई 27, 2020) को फिल्म निर्देशक महेश भट्ट को पूछताछ के लिए बुलाएगी। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने इसकी जानकारी दी है। अनिल देशमुख ने जोर देते हुए कहा कि निर्देशक को सुशांत की कथित आत्महत्या के संभावित कारणों की जाँच के तहत पुलिस के सामने गवाही देनी होगी।

इसके अलावा, फिल्म निर्माता करण जौहर के मैनेजर को भी तलब किया गया है। देशमुख ने कहा कि अगर जरूरत लगी तो खुद करण जौहर को भी हाजिर होने को कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि जाँच से पता चलेगा कि क्या फिल्म इंडस्ट्री में गुटबाजी है, जो फिल्म उद्योग में लोगों के उत्पीड़न का कारण बनता है, जैसा कि कंगना ने आरोप लगाया है।

सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में सीबीआई जाँच की माँग भी तेज़ होते जा रही है। पूर्व केंद्रीय मंत्री सुब्रमण्यन स्वामी ने पीएम मोदी को पत्र लिख कर ये माँग रखी है, जिसे प्रधानमंत्री द्वारा रिसीव कर लिया गया है। उन्होंने वकील ईशकरण भंडारी को इस मामले को देखने को कहा है। शेखर सुमन, शेखर कपूर और शत्रुघ्न सिन्हा सहित कई बड़ी फ़िल्मी हस्तियों ने इस माँग को दोहराया है। बिहार में इस घटना को लेकर खासा आक्रोश है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बोल देना नशे में था…’: राजस्थान पुलिस का Video वायरल; अजमेर दरगाह के जिस खादिम ने माँगी नूपुर शर्मा की गर्दन, उसे बताया ‘बचाव...

खादिम सलमान चिश्ती कह रहा है कि वो नशा नहीं करता, लेकिन इसके बावजूद राजस्थान पुलिस उससे कहती है, "बोल देना नशे में था, ताकि बचाया जा सके।"

सिगरेट वाली ‘काली’, लक्ष्मी बम, गाड़ी को धक्का लगाते भगवान शंकर… मनोरंजन के नाम पर देवी-देवताओं का मजाक, इस हिंदू घृणा का इलाज क्या

भले 'काली' के पोस्टर पर विवाद ताजा हो, लेकिन मनोरंजन इंडस्ट्री की हिंदूफोबिया पुरानी है। आखिर इसका इलाज क्या है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
204,046FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe