Wednesday, May 22, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'मैं 6 साल का था, 5 साल तक ये चलता रहा': रिश्तेदार भी करते...

‘मैं 6 साल का था, 5 साल तक ये चलता रहा’: रिश्तेदार भी करते थे मुनव्वर फारूकी का यौन शोषण, कंगना ने भी बताया अपना अनुभव

"जब मैं 6 या 7 साल का था, तब से 11 साल का होने तक मेरा यौन शोषण हो रहा था। इसमें मेरे परिवार के दो रिश्तेदार भी शामिल थे।"

ओटीटी प्लेटफॉर्म पर चल रहा एकता कपूर का रिएलिटी शो लॉकअप (LockUpp) इन दिनों चर्चा में है। अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) इसे होस्ट कर रही हैं। इस शो के प्रतिभागियों में हिंदूफोबिक कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी (Munawar Faruqui) भी शामिल है। शो के दौरान फारूकी के कई सीक्रेट सामने आए हैं। मसलन, उसकी खुद की शादी और उसकी अम्मी के साथ घरेलू हिंसा को लेकर। अब फारूकी ने जो कुछ शेयर किया है उससे पता चला है कि बचपन में उसका यौन शोषण भी हुआ था। ऐसा करने वालों में उसके दो रिश्तेदार भी शामिल थे।

इस खुलासे का एक टीज़र वीडियो ऑल्ट बालाजी ने इंस्टाग्राम पर शेयर किया है। दरअसल शो में अंजलि अरोड़ा, सायशा शिंदे, आदमा फलाह और मुनव्वर फारूकी को खुद को शो से बाहर होने से बचाने के लिए अपना सीक्रेट बताने का मौका दिया गया था। आम तौर पर सबसे पहले जो कंटेस्टेंट बजर बजाता है, उसे अपना सीक्रेट बताने का मौका दिया जाता है, लेकिन इस बार कंगना सीक्रेट शेयर करने के टास्क में नया ट्विस्ट लेकर आईं। सायशा शिंदे ने सबसे पहले बजर बजाया था, लेकिन कंगना ने उन्हें बताया कि इस बार उन्हें अपना कोई सीक्रेट नहीं बताना है, बल्कि उनके दोस्तों में से किसी एक को अपना सीक्रेट बताते हुए उन्हें बचाना होगा।

सबसे पहले सायशा अंजलि अरोड़ा के पास गईं। मगर उन्होंने अपना सीक्रेट शेयर करने से मना कर दिया। अंजलि के बाद आजमा ने भी सायशा के लिए अपना सीक्रेट शेयर करने से मना कर दिया। लेकिन मुनव्वर ने सायशा का साथ देने का फैसला किया और उन्होंने अपना सीक्रेट सबके साथ शेयर किया। मुनव्वर का सीक्रेट यौन शोषण से जुड़ा हुआ था। उनकी बातें सुनकर सभी की आँखें नम हो गईं।

मुनव्वर ने कहा, “जब मैं 6 या 7 साल का था, तब से 11 साल का होने तक मेरा यौन शोषण हो रहा था। इसमें मेरे परिवार के दो रिश्तेदार भी शामिल थे। आपको उस वक्त समझ में नहीं आता है। मुझे भी शुरुआत में बिलकुल समझ में नहीं आया था कि मेरे साथ क्या हो रहा है। यह लगभग 4-5 सालों तक चलता रहा। जब यह बहुत ज्यादा हो गया तब उनलोगों को इस बात का एहसास हुआ कि उन्हें यह हरकत बंद कर देनी चाहिए।”

उन्होंने आगे कहा, “मैंने इसे कभी किसी के साथ साझा नहीं किया क्योंकि मुझे उनका सामना करना पड़ता और उन्हें भी परिवार का सामना करना पड़ता। मुझे एक बार लगा कि मेरे पिताजी को इसके बारे में पता चल गया है। उन्होंने मुझे बहुत डाँटा। शायद उन्हें भी मेरी तरह ऐसा ही लगा था कि यह बातें सबके सामने नहीं आनी चाहिए।”

फारूकी के इस अनुभव को शेयर करने के बाद कंगना रनौत ने भी बताया कि वह भी बचपन में इस तरह के अनुभव से गुजर चुकी हैं। उन्होंने बताया कि जब वह बच्ची थी तो एक लड़का उन्हें अनुचित तरीके से छूता था। वह कंगना से 3-4 साल बड़ा था। उस समय वह इस बात को नहीं समझ पाई थीं। वह कहती हैं हर साल बहुत सारे बच्चे इससे गुजरते हैं, लेकिन लोग सार्वजनिक प्लेटफार्मों पर इसके बारे में बात करने से बचते हैं। लगभग सभी इससे गुजरते हैं, सभी को किसी न किसी समय इस तरह के बुरे अनुभव से गुजरना पड़ता है। कंगना ने सार्वजनिक प्लेटफॉर्म पर अपने अनुभव साझा करने के लिए मुनव्वर की तारीफ की।

बता दें कि इससे पहले भी मुनव्वर ने अपनी अम्मी के बारे में बताया था। उन्होंने बताया था कि बचपन में उनकी अम्मी ने तेजाब पी लिया था और वे उसके कुछ दिन पहले से कुछ खा नहीं रही थीं। फारूकी ने बताया था कि उनकी माँ अपनी शादी में कभी खुश नहीं थीं। उन्हें पीटा जाता था, लड़ाई होती थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -