Friday, May 20, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजनसुशांत की मौत पर बहस को नसीरुद्दीन शाह ने बताया बचकाना, कहा- हम अपने...

सुशांत की मौत पर बहस को नसीरुद्दीन शाह ने बताया बचकाना, कहा- हम अपने गंदे अंडरवियर सार्वजनिक रूप से क्यों धो रहे हैं?

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें लगता है कि इस तरह की बहस से किसी तरह का वास्तविक बदलाव आएगा, नसीरुद्दीन शाह ने कहा, "इसके लिए कोई उम्मीद ही कर सकता है, हालाँकि बहस का स्तर हर दिन लगातार बचकाना हो रहा है और मैं इसे पूरी तरह से अनावश्यक मानता हूँ। हम अपने गंदे अंडरवियर को सार्वजनिक रूप से क्यों धो रहे हैं?"

अभिनेता नसीरुद्दीन शाह का कहना है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर उग्र हो रही बहस हर दिन प्रतिदिन और अधिक बचकाना हो रहा है। उन्होंने यह बातें फिल्म कम्पैनियन के अनुपम चोपड़ा के साथ हुई बाचतीत में कही।

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें लगता है कि इस तरह की बहस से किसी तरह का वास्तविक बदलाव आएगा, नसीरुद्दीन शाह ने कहा, “इसके लिए कोई उम्मीद ही कर सकता है, हालाँकि बहस का स्तर हर दिन लगातार बचकाना हो रहा है और मैं इसे पूरी तरह से अनावश्यक मानता हूँ। हम अपने गंदे अंडरवियर को सार्वजनिक रूप से क्यों धो रहे हैं?”

उन्होंने आगे कहा, “जो अभिनेता अब कंटेंट बन गए हैं, वो अब क्यों शिकायत कर रहे हैं कि वो पोस्टर पर नहीं हैं? क्यों कोई अभिनेता किसी खास फिल्म के ना मिलने को लेकर शिकायत कर रहे हैं। बहुत सारे अभिनेता को नहीं मिली। अगर हम में से हर कोई शिकायतें करने लगेगा तो फिल्म इंडस्ट्री पृथ्वी पर सबसे खराब जगह की तरह मालूम पड़ेगा। और मैं इसे कहने की हिम्मत रखता हूँ कि ये किसी भी इंडस्ट्री की सच्चाई है। मुझे उम्मीद है कि लोग सुशांत को अकेला छोड़ देंगे।”

बताया जा रहा है कि नसीरुद्दीन शाह शायद अभिनेता दीपक डोबरियाल के बारे में बात कर रहे थे, जिन्होंने हाल ही में उन सभी फिल्मों के पोस्टर साझा किए, जिनमें वह नहीं थे।

बता दें कि बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले की जाँच सीबीआई को सौंपने का मुद्दा तूल पकड़ता जा रहा है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बाद अब बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने भी इस मसले पर अपना बयान दिया है। उन्होंने कहा कि वो सीबीआई जाँच की माँग नहीं करते हैं क्योंकि बिहार पुलिस जाँच करने में सक्षम है।

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा, “अगर सुशांत सिंह राजपूत के पिता चाहते हैं तो वह सीबीआई जाँच की माँग कर सकते हैं। हम सीबीआई जाँच की माँग नहीं कर रहे हैं क्योंकि बिहार पुलिस इस आत्महत्या मामले की जाँच करने में सक्षम है।”

उल्लेखनीय है कि सुशांत के पिता केके सिंह द्वारा पटना के राजीवनगर थाने में एक एफआईआर दर्ज कराने के बाद इस आत्महत्या मामले की जाँच के लिए बिहार पुलिस की टीम मुंबई गई हुई है।

बिहार के डीजीपी ने कहा, “हमारी टीम मुंबई में है और हमारे वरिष्ठ एसपी वहाँ अपने समकक्ष के साथ लगातार संपर्क में हैं। शुक्रवार को हमारी टीम डीसीपी क्राइम से मिली और उन्होंने आश्वासन दिया कि वे सहयोग करेंगे। वे भी सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार कर रहे हैं। फिर वे हमें सभी दस्तावेज मुहैया कराएँगे।”

गौरतलब है कि इससे पहले जब बिहार पुलिस की टीम आरएन कूपर म्यूनिसिपल हॉस्पिटल में पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर के पास पहुँची थी तो डॉक्टरों ने रिपोर्ट से संबंधित कुछ भी बताने से इनकार कर दिया था। उन्होंने कहा कि वो मुंबई पुलिस को सुशांत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट दे चुके हैं। उन्हें इसके बारे में जो भी बात करनी है, वो मुंबई पुलिस से करें। पटना आईजी ने भी इस बात की पुष्टि की थी कि बिहार पुलिस को अब तक सुशांत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं मिली है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस पर प्रशांत किशोर का डायरेक्ट वार: चिंतन शिविर पर उठाए सवाल, कहा- गुजरात-हिमाचल में भी होगी हार

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कॉन्ग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि इस चिंतन शिविर से पार्टी में कुछ बदलाव नहीं आने वाला है।

औरंगजेब मंदिर विध्वंस का चैंपियन, जमीन आज भी देवता के नाम: सुप्रीम कोर्ट को बताया क्यों ज्ञानवापी हिंदुओं का, कैसे लागू नहीं होता वर्शिप...

सुप्रीम कोर्ट में जवाबी याचिका में हिंदू पक्ष ने ज्ञानवापी मामले में कहा कि औरंगजेब ने मंदिर ध्वस्त कर भूमि को किसी को सौंपा नहीं था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
187,460FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe