Tuesday, June 25, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनसुशांत सिंह केस: रिया चक्रवर्ती और बिहार सरकार ने कोर्ट में दाखिल की लिखित...

सुशांत सिंह केस: रिया चक्रवर्ती और बिहार सरकार ने कोर्ट में दाखिल की लिखित दलीलें, CBI ने जाँच जारी रखने की माँगी अनुमति

एक तरफ जहाँ रिया ने पटना में दायर एफआईआर को मुंबई ट्रांसफर करने की बात कही है। तो वहीं, दूसरी ओर सीबीआई ने कोर्ट से जाँच जारी रखने की अनुमति माँगी है। सीबीआई ने इस मामले में ईडी की जाँच को भी जारी रखने की अनुमति देने का आग्रह कोर्ट से किया है।

सुशांत सिंह केस में अदालत की ओर से सभी पक्षों को गुरुवार (अगस्त 13, 2020) तक लिखित दलीलें दाखिल कराने को कहा गया था। बिहार सरकार, सीबीआई तथा रिया च्रकवर्ती ने अपने-अपने जवाब आज कोर्ट में दाखिल कर दिए। अब कोर्ट कभी भी इस मामले में अपना फैसला सुना सकती है।

एक तरफ जहाँ रिया ने पटना में दायर एफआईआर को मुंबई ट्रांसफर करने की बात कही है। तो वहीं, दूसरी ओर सीबीआई ने कोर्ट से जाँच जारी रखने की अनुमति माँगी है। सीबीआई ने इस मामले में ईडी की जाँच को भी जारी रखने की अनुमति देने का आग्रह कोर्ट से किया है।

बिहार सरकार ने अपनी लिखित दलील में कहा है कि सुशांत के मामले में अब तक सिर्फ उनकी तरफ से ही एफआईआर दर्ज की गई है। इसके साथ ही उन्होंने ट्रांसफर याचिका निष्प्रभावी बताते हुए खारिज करने की अपील की है। अपनी दलील में बिहार सरकार ने यह भी आरोप लगाया कि मुंबई पुलिस राजनीतिक दबाव में है। इसी की वजह से वे इस मामले में कोई एफआईआर दर्ज नहीं कर रहे है।

बीते दिनों बिहार से मुंबई गई पुलिस के साथ किए गए बरताव का भी उल्लेख करते हुए दलील में कहा गया कि मुंबई पुलिस ने किसी भी प्रकार से बिहार पुलिस की मदद नहीं की। बिहार पुलिस ने कानून के दायरे में रहकर अपने क्षेत्राधिकार में ये एफआईआर दर्ज की है क्योंकि ये शिकायत एक संज्ञेनीय अपराध की थी।

अब आगे कोर्ट को तय करना है कि मामले की जाँच CBI या मुंबई पुलिस में से कौन करेगा। बता दें कुछ समय पहले जहाँ रिया ने ट्वीट कर सीबीआई जाँच की माँग की थी वहीं अब वे इसका विरोध कर रहीं है। दूसरी ओर बिहार सरकार, सुशांत के पिता और लाखों फैन सीबीआई जाँच का समर्थन कर रहे हैं। महाराष्ट्र सरकार लगातार इस मामले को घुमा फिर कर इसमें सीबीआई जाँच नहीं करवाना चाहती है।

इस बीच सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति ने इंस्टाग्राम पर अपना एक फोटो पोस्ट किया है, जिसमें वे हाथ में व्हाइट बोर्ड लिए नजर आईं। इस पर लिखा है- “मैं सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता सिंह राजपूत हूँ और मैं सीबीआई जाँच की माँग करती हूँ।”

श्वेता ने इस फोटो के साथ लिखा- “यह ऐसा समय है जब हमें सच्चाई का पता लगाकर न्याय पाना है। सच सामने लाने में हमारी और हमारे परिवार की मदद करें, वरना हम कभी शांति से जी नहीं सकेंगे। अपनी आवाज उठाएँ और सुशांत के लिए सीबीआई जाँच की माँग करें।”

सुशांत सिंह राजपूत केस

14 जून को सुशांत अपने मुंबई स्थित फ्लैट में मृत मिले थे। इस मामले में मुंबई पुलिस की जाँच से असंतुष्‍ट सुशांत के पिता ने पटना में एफआईआर दर्ज कराई। इसमें उन्‍होंने बेटे की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती व उनके परिवार पर धन उगाही, ब्‍लैकमेल, सुसाइड के लिए उकसाने आदि जैसे कई गंभीर आरोप लगाए। इस मामले की जाँच के लिए जब बिहार पुलिस मुंबई पहुँची तो वहाँ उसे असहयोग का सामना करना पड़ा।

फिर, बिहार सरकार की सिफारिश पर केंद्र सरकार ने यह जाँच सीबीआइ को सौंप दी। वहीं अब सोशल मीडिया पर स्टन गन थ्योरी सामने आई है, जिसे एक यूजर ने सोशल मीडिया पर डाला। इस थ्योरी को मद्देनजर रखते हुए बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सुशांत सिंह राजपूत मृत्यु मामले की एनआईए जाँच की माँग की है। वहीं शेखर सुमन ने रिया के खिलाफ आवाज बुलंद करते हुए उसकी गिरफ्तारी की माँग की थी।

गौरतलब है कि सीबीआई तमाम मुद्दों पर रिया से पूछताछ कर रही हैं। वहीं रिया चक्रवर्ती का कॉल डिटेल रिकॉर्ड अब सीबीआई के रडार पर है। सीबीआई को रिया के कॉल लॉग से पता चलता है कि उन्होंने किसी शख्स का नाम ‘AU’ से सेव किया है।

नंबर और रिया चक्रवर्ती के बीच 44 आउटगोइंग कॉल थे। हालाँकि, जब कोई नंबर पर कॉल करता है, ‘SU’ नाम का शख्स रिसीव करता है। फिलहाल, सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) मामले की जाँच कर रही है। ऐसे में यह देखना बाकी है कि यह व्यक्ति कौन है और क्या व्यक्ति किसी भी तरह से उक्त मामले में शामिल था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिंदुओं का गला रेता, महिलाओं को नंगा कर रेप: जो ‘मालाबर स्टेट’ माँग रहे मुस्लिम संगठन वहीं हुआ मोपला नरसंहार, हमें ‘किसान विद्रोह’ पढ़ाकर...

जैसे मोपला में हिंदुओं के नरसंहार पर गाँधी चुप थे, वैसे ही आज 'मालाबार स्टेट' पर कॉन्ग्रेसी और वामपंथी खामोश हैं।

जूलियन असांजे इज फ्री… विकिलीक्स के फाउंडर को 175 साल की होती जेल पर 5 साल में ही छूटे: जानिए कैसे अमेरिका को हिलाया,...

विकिलीक्स फाउंडर जूलियन असांजे ने अमेरिका के साथ एक डील कर ली है, इसके बाद उन्हें इंग्लैंड की एक जेल से छोड़ दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -