Friday, August 6, 2021
Homeदेश-समाजतुम्हारी मॉं हिंदू थी, हम तुम पर कैसे यकीन कर लें: नवाजुद्दीन सिद्दीकी की...

तुम्हारी मॉं हिंदू थी, हम तुम पर कैसे यकीन कर लें: नवाजुद्दीन सिद्दीकी की भतीजी ने किए चौंकाने वाले खुलासे

बकौल साशा सिद्दीकी जब उसने नवाजुद्दीन और उनके परिवार को अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में बताया तो उसे दुत्कार दिया गया। उससे कहा गया कि तुम्हारी मॉं हिंदू है तो तुम्हारी बातों पर कैसे यकीन कर लें।

एक्टर नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के के छोटे भाई मीनाज के खिलाफ हाल ही में यौन उत्पीड़न और शारीरिक हिंसा का मामला दर्ज किया गया है। मामला नवाज़ुद्दीन की भतीजी साशा सिद्दीकी ने दर्ज करवाया है। पिंकविला को दिए एक इंटरव्यू में साशा ने अपने आरोपों को लेकर विस्तार से बात की है।

इससे नवाजुद्दीन के परिवार के लेकर कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। बकौल साशा जब उसने नवाजुद्दीन और उनके परिवार को इस बारे में बताया तो उसे दुत्कार दिया गया। उससे कहा गया कि तुम्हारी मॉं हिंदू थी, तो तुम्हारी बातों पर कैसे यकीन कर लें।

साशा ने बताया अपने साथ हुए दुष्कर्म के बारे में जब उसने नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और उनके परिवार वालों को बताया तब उन लोगों ने उससे कहा कि वह एक हिंदू माँ की संतान हैं और इसलिए वह झूठी है। उसने आगे बताया कि उसकी माँ ने अपने माँ-बाप के खिलाफ जा कर प्रेम विवाह किया था। लेकिन लगातार उत्पीड़न और शारीरिक हिंसा के कारण उसकी माँ ने सिद्दीकी परिवार को छोड़ तलाक ले लिया था।

इंटरव्यू में सिद्दीकी की भतीजी शाशा सिद्दीकी ने कहा है कि उसके साथ यौन उत्पीड़न तब शुरू हुआ जब वह केवल नौ साल की थी। उस समय, उसे समझ नहीं आया कि उसके साथ क्या हो रहा है, मगर समय के साथ उसने गुड टच और बैड टच के बीच अंतर के बारे में पता चला। उसने अपने परिवार को इस हरकत के बारे में बताने की कोशिश की, लेकिन कोई भी उसके बचाव में नहीं आया। कथित तौर पर जब वह 8 वीं क्लास में थी, उसके पिता ने उसकी पढ़ाई जारी रखने से इनकार कर दिया, क्योंकि उनका मानना ​​था कि लड़कियों को शिक्षा नहीं देना चाहिए।

साशा ने बताया एक रात जब वह दिल्ली में थी, चाचा मिनाज़ उसके कमरे में आए और उसे यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर करने की कोशिश की। जब मैंने इसका विरोध किया, तब उन्होंने अपनी बेल्ट निकाली और मुझे पीटना शुरू कर दिया। साशा ने कहा कि उसके पास सबूत के तौर पर शारीरिक हमले (चोट के जख्म और निशान) की तस्वीरें भी है, जो उसने उस वक्त अपने बॉयफ्रेंड को भेजा था, जिसके साथ अब उसकी शादी हो चुकी है।

साशा ने यह भी कहा है कि जब उसने शादी करने का फैसला किया, तो उसके पिता के परिवार ने उसके पति और ससुराल वालों के खिलाफ कई झूठे आरोप लगाए। इसमें उसकी कम उम्र को लेकर झूठे डॉक्यूमेंट दिखाए गए, जो बाद में अदालत में गलत साबित हुए।

उसने आगे बताया कि नवाजुद्दीन का परिवार, जिसमें उनके खुद के पिता भी शामिल हैं, वर्षों से उसके पति के परिवार को लगातार धमकियों और अदालती मामलों को लेकर परेशान कर रहे हैं।

उसने आरोप लगाया कि सिद्दीकी परिवार में शारीरिक हमला, हिंसा, धमकी और घरेलू शोषण एक आम बात है जिसका कई महिलाओं ने सामना किया है। उसने आरोप लगाया कि नवाजुद्दीन की पत्नी (जिसने तलाक के लिए अर्जी दाखिल की है), उसकी अपनी माँ और उसकी चाची ने भी शारीरिक शोषण और हिंसा का सामना किया है। उसने बताया कि नवाजुद्दीन के भाई स्वभाव से गुस्सैल और अपमानजनक हैं। इस परिवार का माहौल आमतौर पर हिंसक रहता है।

इंटरव्यू में नवाजुद्दीन की भतीजी ने यह भी कहा कि जब नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी को उसके द्वारा दर्ज की गई एफआईआर के बारे में पता चला, तो उसने उसे इस बारे में बात करने के लिए बुलाया था। उसे शिकायत वापस लेने के लिए कहा गया। लेकिन उसने ऐसा करने से इनकार कर दिया।

उसने कहा कि पहले नवाज़ुद्दीन ने उसकी बात गलत कहते हुए इग्नोर कर दिया था। उस वक़्त नवाज़ुद्दीन ने यह कह कर बात टाल दी थी कि मिनाज़ सिद्दीकी उसके चाचा हैं और वह ऐसा कभी नहीं कर सकते।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,173FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe