Wednesday, January 27, 2021
Home विविध विषय भारत की बात मेघना हेली ब्रिज: कहानी IAF के हेलिकॉप्टर की, हीरो है आर्मी वाला... जिसने सीनियर...

मेघना हेली ब्रिज: कहानी IAF के हेलिकॉप्टर की, हीरो है आर्मी वाला… जिसने सीनियर को अनसुना कर Pak को चटाई धूल

हेलीकॉप्टर में पाकिस्तानियों ने 38 गोली मारी थी। पायलट की जाँघ में एक गोली धँसी थी। सब डरे हुए थे लेकिन लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह 'कूल' थे। उनका यह 'कूलनेस' पाकिस्तान पर कितना भारी पड़ा... कि उसके अफसर को किताब में इनकी जाँबाजी का जिक्र करना पड़ गया।

अंग्रेजों की फौज में नायक (ऑफिसर नहीं) के तौर पर जॉइन करने वाला एक इंसान भारतीय थल सेना का लेफ्टिनेंट जनरल (जनरल, थल सेना का सबसे बड़ा अधिकारी, से बस एक पद नीचे) बनता है। नाम है – सगत सिंह।

लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह का नाम इंडियन आर्मी से ज्यादा दुश्मन की फौज में लिया जाता है – खौफ के संदर्भ में! इनके चर्चे दुश्मन फौज पाकिस्तान और चीन के अलावा एक और जगह खूब हुआ – वो है पुर्तगाल!

1961 में गोवा को पुर्तगालियों से आजादी दिलाने में इन्होंने ऐसी भूमिका अदा की थी कि इनके नाम पर 10000 डॉलर का इनाम रखा गया था। पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन के लगभग हर रेस्टॉरेंट और कैफे में इनके फोटो और नाम के पर्चे चिपकाए गए थे। लेकिन सगत सिंह को कोई पुर्तगाली पकड़ कर 10000 डॉलर जीत ले, इस मिट्टी के वो बने नहीं थे।

1967 में यह सगत सिंह ही थे, जिन्होंने चीन को 1962 की गलती दोहराने और भारतीय फौज को कमतर समझने के लिए 300+ चीनी फौजियों की लाशों का रिटर्न गिफ्ट दिया था। नाथू ला का वो युद्ध आज तक चीनी सत्ता को सालता रहता है।

जनरल सैम मानेकशॉ के साथ दाएँ से दूसरे सगत सिंह (फोटो साभार: दैनिक भास्कर)

लेकिन आज कहानी 1971 की। वो कहानी जिसके बगैर बांग्लादेश को आजाद करा पाकिस्तान के दो टुकड़े करना इतना आसान न होता। इस कहानी में जाँबाजी भी है, जिद भी और जीत के लिए सीनियर को अनसुना कर अपने फैसले पर आगे बढ़ने का जुनून भी। और युद्ध की रणनीति तो खैर है ही!

मेघना नदी के पार पाकिस्तानी फौज और टूटा पुल

बांग्लादेश युद्ध के शुरू हुए सिर्फ 5 दिन हुए थे। ईस्टर्न कमांड के पास 3 कोर डिविजन (II, XXXIII और IV) और एक कम्युनिकेशन जोन (101) था। सबको अपना-अपना टास्क दिया गया था। सबने अपना टास्क 100% पूरा किया, सिवाय एक के – वो था कोर डिविजन IV, जिसको लीड कर रहे थे लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह। सगत सिंह ने टास्क तो 100% पूरा किया, लेकिन वो इसके आगे भी बढ़ गए – सीनियर ऑफिसरों को नाराज करने की सीमा तक!

मेघना नदी के पूर्वी छोर तक पहुँचना, एरिया को सिक्योर करना… ये सारे टास्क लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह की कोर डिविजन IV कर चुकी थी। लेकिन सगत रूक कर अवसर का इंतजार करने वालों में से नहीं थे। वो नदी के पार पाकिस्तानी फौजियों तक पहुँचना चाहते थे। लेकिन पुल को दुश्मन सेना ने उड़ा दिया था। यहीं पर सगत सिंह ने वो किया, जिसके लिए उन्हें अपने सीनियर ऑफिसरों से गरमा-गर्म बहस करनी पड़ी लेकिन पाकिस्तानी ऑफिसर को इस युद्ध रणनीति के कारण भौंचक रह जाना पड़ा।

स्क्वॉड्रन लीडर पुष्प कुमार वैद्य की सुनाई कहानी, फोटो साभार: bharat-rakshak

पहले बात पाकिस्तानी ऑफिसर की – कोमिला और लालमई एरिया के पाकिस्तानी कमांडर ब्रिगेडियर अत्री (रिटायर्ड) ने मानसिक हार को स्वीकार करते हुए कहा था – “भारतीय वायुसेना के हेलीकॉप्टर रात में हमारी सेना के इतने नजदीक और इतने नीचे फ्लाई करते हुए गुजरे कि उस आवाज की गूँज ने उन्हें भयभीत कर दिया, जबकि देखा जाए तो पाकिस्तानी सैनिकों को क्षति नहीं हुई थी।”

पाकिस्तानी ब्रिगेडियर एआर सिद्दकी ने तो इस पूरे मामले को किताब तक में जिक्र किया है। East Pakistan: The Endgame: An Onlooker’s Journal 1969-1971 के 195-196 पन्ने पर उन्होंने लिखा है, “दुश्मन ने शुरुआती मूव्स ऐसे चली कि पाकिस्तानी उस मूव की बस प्रतिक्रिया देते रह गए। पाकिस्तानी सेना से कम से कम भीड़े वो अपने लक्ष्य ढाका की ओर बढ़ा चला जा रहा था।”

जेएस अरोड़ा Vs सगत सिंह

जगजीत सिंह अरोड़ा बांग्लादेश युद्ध के समय ईस्टर्न कमांड के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ थे। मतलब सब कुछ उनकी ही देख-रेख में होना था। सब कुछ उनके प्लान के अनुसार चल रहा था। कोई नहीं चल रहा था तो वो थे लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह। जेएस अरोड़ा इस बात से चिंतित थे।

3 दिसंबर को युद्ध शुरू हुआ और लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह मेघना नदी के पूर्वी छोर तक 5 दिसंबर को पहुँच गए थे। उनके कोर डिविजन का टास्क भी यही था। लेकिन वो 5 तारीख से ही भारतीय वायुसेना के हेलीकॉप्टर पायलटों के साथ उड़ कर मेघना नदी को क्रॉस करते हुए पाकिस्तानी फौजियों की पोजिशन को समझना शुरू कर चुके थे।

लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह का यह रुटीन बन गया था। लेकिन वह किसी प्लान के साथ नहीं उड़ते थे। मौका और समय देखते हुए अंत क्षणों में निर्णय लेते थे और यही उनकी युद्ध रणनीति भी थी। लेकिन इसमें खतरा भी था। नीचे से पाकिस्तानी फौजी भारतीय हेलीकॉप्टर पर निशाना भी लगाते रहते थे।

हेलीकॉप्टर से मेघना नदी क्रॉस करके पाकिस्तानी फौजियों की पोजिशन का आँकते लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह

मेघना नदी के पार अपने जवानों को हेलीकॉप्टर से लैंड कराने के लिए जगह खोजते लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह एक बार पाकिस्तानी गोली से बस कुछ मिलीमीटर की दूरी से बचे थे और पायलट के तो जाँघ में गोली लग गई थी। हेलीकॉप्टर में कुल 38 गोली लगी थी। लैंडिंग के बाद पायलट, को-पायलट, ग्रुप कैप्टन सभी डरे हुए थे लेकिन सगत सिंह कूल थे, बिल्कुल अपने अंदाज में! अगले दिन सगत सिंह फिर से नदी के पार थे!

ऐसे में जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ जगजीत सिंह अरोड़ा अपनी युद्ध रणनीति को लेकर प्रतिबद्ध भी थे और सगत सिंह के उतावले को देखते हुए चिंतित भी। उन्होंने सगत को प्लान के तहत चलने को कहा। लेकिन सगत अपने तर्कों पर अड़े रहे। 8 दिसंबर 1971 को इस बात को लेकर दोनों के बीच गरमा-गर्म बहस हुई। लेकिन सगत हिले नहीं, जिद पर अड़े रहे। लेकिन अंत में उन्हें कमांड की बात तो माननी ही पड़ती। इसलिए लंच पर उन्होंने फिर से अपना तर्क रखा।

इसी बीच जेएस अरोड़ा के लिए एक मैसेज आया और उन्हें लंच के बीच ही हेड-क्वार्टर के लिए निकलना पड़ गया। दोनों के बीच मेघना नदी को क्रॉस करना है या नहीं, इस मुद्दे पर बात नहीं हो पाई। लेकिन गरमा-गर्म बहस से लंच के पहले चेहरे पर जो तनाव था, वो जेएस अरोड़ा के चेहरे से गायब हो चुका था लंच के दौरान आए उस मैसेज से। मैसेज था – पाकिस्तानी फौजियों के बीच मानसिक हार की लहर शुरू हो चुकी है। सगत सिंह के लिए यह काफी था।

मेघना हेली ब्रिज

खतरों से खेल कर लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह ने मेघना नदी के पार पाकिस्तानी रक्षा पंक्ति को भली-भाँति आँक लिया था। वो उस जगह को भी पिन-पॉइंट कर चुके थे, जहाँ भारतीय जवानों को हेलीकॉप्टर से लैंड कराना था। सब प्लानिंग सगत सिंह के दिमाग में थी। वो रूल बुक से नहीं चलते थे। हेलीकॉप्टर में कितने भारतीय जवान चढ़ेंगे, यह भी वो तकनीक से ज्यादा ‘जुगाड़’ के हिसाब से सोच रखे थे।

मेघना नदी को क्रॉस करना था Mi-4 हेलीकॉप्टर से। हर हेलीकॉप्टर की अधिकतम क्षमता थी 14 जवानों को लेकर जाने की। लेकिन सगत सिंह और भारतीय वायुसेना के अधिकारियों ने जरूरत से ज्यादा फ्यूल को निकाल कर हेलीकॉप्टर का वजन कम किया और प्रति हेलीकॉप्टर 23 जवानों को नदी के पार भेजा।

नदी के पार हेलीपैड नहीं थे। यहाँ ‘जुगाड़’ तकनीक काम आई। टॉर्च जला कर 200-200 मीटर की दूरी पर रख कर H का निशान बनाया गया। उसके रिफलेक्टर को ढँक दिया गया ताकि पायलट की आँखें न चौंधियाए। वायुसेना का अधिकतम उपयोग करने के लिए सिर्फ जवानों और उनके हल्के हथियारों को ही हेलीकॉप्टर से नदी के पार भेजा गया। जबकि भारी हथियारों को बोट के सहारे नदी पार कराया गया।

9 दिसंबर की रात से शुरू हुआ मेघना हेली ब्रिज मिशन अगले 36 घंटों में 5000+ भारतीय जवानों को मेघना नदी पार करा चुका था। इस दौरान कुल 409 शॉर्टीज (चक्कर) में एक भी दुर्घटना नहीं हुई थी और 51 टन हथियार भी उस ओर पहुँच चुके थे।

साभार: एयर कमोडोर आरएम श्रीधरण का missionvictoryindia में प्रकाशित लेख

1971 में भारत-पाकिस्तान युद्ध और बांग्लादेश की आजादी में मेघना हेली ब्रिज का रोल युद्ध रणनीति की कक्षा में सबसे अहम माना जाता है। लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह अगर अपने जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ जगजीत सिंह अरोड़ा की बात मान जाते तो शायद वो मेघना नदी की पूर्वी तट पर अवसर का इंतजार ही करते रह जाते। या फिर उनके हेलीकॉप्टर पर चली 38 गोलियों में से एक भी उन्हें अपना निशाना बना लेती तो भी युद्ध की दिशा कुछ और होती। यह सब कयास इसलिए क्योंकि पाकिस्तानी फौज और सत्ता युद्ध को लंबा खींचने और UN को इसमें शामिल कर यथास्थिति बनाने की लॉबिंग कर रहा था।

मेघना हेली ब्रिज के सिर्फ 6 दिनों के बाद… वो फोटो

लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह की जाँबाजी के किस्से आर्मी वालों से लेकर एयरफोर्स और दुश्मन की सेना तक बताते हैं, लिखते रहते हैं। लेकिन यह सिर्फ उनका उतावलापन नहीं था। लंबे समय से एयरफोर्स ऑफिसरों की संगत, एक-दूसरे की समझ और भरोसे के कारण ही यह संभव हुआ था।

AAK नियाजी (पाकिस्तान के ईस्टर्न कमांड के कमांडर) सरेंडर के पेपर पर साइन करते, बगल में भारत के ईस्टर्न कमांड के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ जगजीत सिंह अरोड़ा और पीछे लाल घेरे में लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह (फोटो साभार: DNA)

1971 के युद्ध के 10 साल पहले वो भारत के एकमात्र पैराशूट ब्रिगेड की कमान संभाल चुके थे। न सिर्फ संभाल चुके थे बल्कि 42 की उम्र में वो जितनी संख्या की जरूरत होती है, उतनी बार पैरा-जंपिंग करके पैरा-बैज भी ले चुके थे।

गोवा, नाथू ला और मेघना… इन सब ऑपरेशनों में भारत को जीत दिलाने वाले लेफ्टिनेंट जनरल सगत सिंह के लिए मेघना हेली ब्रिज उनके दिल के सबसे करीब रहा। शायद यही वजह रही कि उन्होंने रिटायरमेंट के बाद जयपुर के अपने आशियाने का नाम ‘मेघना’ रखा।

जयपुर में अपने निवास स्थान ‘मेघना’ के बाहर लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड)सगत सिंह (फोटो साभार: thedailyguardian)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

चंदन कुमारhttps://hindi.opindia.com/
परफेक्शन को कैसे इम्प्रूव करें 🙂

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ट्रैक्टर पलटने के बाद जिंदा था ‘किसान’, प्रदर्शनकारी अस्पताल नहीं ले गए… न पुलिस को ले जाने दिया: ‘Times Now’ का खुलासा

उक्त 'किसान' ट्रैक्टर से स्टंट मारते हुए पुलिस बैरिकेडिंग तोड़ रहा था, लेकिन अपनी ही ट्रैक्टर पलटने के कारण खुद उसके नीचे आ गया और मौत हो गई।

11.5% की आर्थिक वृद्धि दर, 2021 में भारत के लिए IMF का अनुमान: एकमात्र बड़ा देश, जो बढ़ेगा दहाई अंकों के साथ

IMF ने भारत की अर्थव्यवस्था को 2021-22 में 11.5 प्रतिशत तक उछाल देने का अनुमान लगाया। वर्ल्ड इकॉनमिक आउटलुक रिपोर्ट में...

153 पुलिसकर्मी घायल, 7 FIR दर्ज: किसी का सर फटा तो कोई ICU में, राकेश टिकैत ने पुलिस को ही दिया दोष

दिल्ली पुलिस ने 'किसानों' द्वारा हुई हिंसा के मामलों को लेकर 7 FIR दर्ज की है। दिन भर चले हिंसा के इस खेल में 153 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं।

Video: किसानों के हमले में दीवार से एक-एक कर गिरते रहे पुलिसकर्मी, 109 घायल

वीडियो में देखा जा सकता है कि भीड़ द्वारा किए गए हमले से पुलिसकर्मी एक-एक कर लाल किले की दीवार से नीचे गिरते जा रहे हैं।

बिहारी-गुजराती-तमिल-कश्मीरी किसान हो तो डूब मरो… क्योंकि किसान सिर्फ पंजाबी-खालिस्तानी होते हैं, वही अन्नदाता हैं

वास्तविकता ये है कि आप इतने दिनों से एक ऐसी भीड़ के जमावड़े को किसान का आंदोलन कहते रहे। जिसकी परिभाषा वामपंथी मीडिया गिरोह और विपक्षियों ने गढ़ी और जिसका पूरा ड्राफ्ट एक साल पहले हुए शाहीन बाग मॉडल के आधार पर तैयार हुआ।

जर्मनी, आयरलैंड, स्पेन आदि में भी हो चुकी हैं ट्रैक्टर रैलियाँ, लेकिन दिल्ली वाला दंगा कहीं नहीं हुआ

दिल्ली में जो आज हुआ, स्पेन, आयरलैंड, और जर्मनी के किसानों ने वो नहीं किया, हालाँकि वो भी अन्नदाता ही थे और वो भी सरकार के खिलाफ अपनी माँग रख रहे थे।

प्रचलित ख़बरें

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

रस्सी से लाल किला का गेट तोड़ा, जहाँ से देश के PM देते हैं भाषण, वहाँ से लहरा रहे पीला-काला झंडा

किसान लाल किले तक घुस चुके हैं और उन्होंने वहाँ झंडा भी फहरा दिया है। प्रदर्शनकारी किसानों ने लाल किले के फाटक पर रस्सियाँ बाँधकर इसे गिराने की कोशिश भी कीं।
- विज्ञापन -

 

ट्रैक्टर पलटने के बाद जिंदा था ‘किसान’, प्रदर्शनकारी अस्पताल नहीं ले गए… न पुलिस को ले जाने दिया: ‘Times Now’ का खुलासा

उक्त 'किसान' ट्रैक्टर से स्टंट मारते हुए पुलिस बैरिकेडिंग तोड़ रहा था, लेकिन अपनी ही ट्रैक्टर पलटने के कारण खुद उसके नीचे आ गया और मौत हो गई।

11.5% की आर्थिक वृद्धि दर, 2021 में भारत के लिए IMF का अनुमान: एकमात्र बड़ा देश, जो बढ़ेगा दहाई अंकों के साथ

IMF ने भारत की अर्थव्यवस्था को 2021-22 में 11.5 प्रतिशत तक उछाल देने का अनुमान लगाया। वर्ल्ड इकॉनमिक आउटलुक रिपोर्ट में...

153 पुलिसकर्मी घायल, 7 FIR दर्ज: किसी का सर फटा तो कोई ICU में, राकेश टिकैत ने पुलिस को ही दिया दोष

दिल्ली पुलिस ने 'किसानों' द्वारा हुई हिंसा के मामलों को लेकर 7 FIR दर्ज की है। दिन भर चले हिंसा के इस खेल में 153 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं।

लालकिला में देर तक सहमें छिपे रहे 250 बच्चे, हिंसा के दौरान 109 पुलिसकर्मी घायल; 55 LNJP अस्पताल में भर्ती

दिल्ली में किसान ट्रैक्टर रैली का सबसे बुरा प्रभाव पुलिसकर्मियों पर पड़ा है। किसानों द्वारा की गई इस हिंसा में 109 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं, जिनमें से 1 की हालात गंभीर बताई जा रही है।

Video: किसानों के हमले में दीवार से एक-एक कर गिरते रहे पुलिसकर्मी, 109 घायल

वीडियो में देखा जा सकता है कि भीड़ द्वारा किए गए हमले से पुलिसकर्मी एक-एक कर लाल किले की दीवार से नीचे गिरते जा रहे हैं।

बिहारी-गुजराती-तमिल-कश्मीरी किसान हो तो डूब मरो… क्योंकि किसान सिर्फ पंजाबी-खालिस्तानी होते हैं, वही अन्नदाता हैं

वास्तविकता ये है कि आप इतने दिनों से एक ऐसी भीड़ के जमावड़े को किसान का आंदोलन कहते रहे। जिसकी परिभाषा वामपंथी मीडिया गिरोह और विपक्षियों ने गढ़ी और जिसका पूरा ड्राफ्ट एक साल पहले हुए शाहीन बाग मॉडल के आधार पर तैयार हुआ।

जर्मनी, आयरलैंड, स्पेन आदि में भी हो चुकी हैं ट्रैक्टर रैलियाँ, लेकिन दिल्ली वाला दंगा कहीं नहीं हुआ

दिल्ली में जो आज हुआ, स्पेन, आयरलैंड, और जर्मनी के किसानों ने वो नहीं किया, हालाँकि वो भी अन्नदाता ही थे और वो भी सरकार के खिलाफ अपनी माँग रख रहे थे।

किसानों के आंदोलन में खालिस्तानी कड़े और नारे का क्या काम?

सवाल उठता है कि जो लोग इसे पवित्र निशान साहिब बोल रहे हैं, वो ये बताएँ कि ये नारा और कड़ा किसका है? यह भी बताएँ कि एक किसान आंदोलन में मजहबी झंडा कहाँ से आया? उसे कैसे डिफेंड किया जाए कि तिरंगा फेंक कर मजहबी झंडा लगा दिया गया?

‘RSS नक्सलियों से भी ज्यादा खतरनाक, संघ समर्थक पैर छूकर गोली मार देते हैं’: कॉन्ग्रेसी सांसद और CM भूपेश बघेल का ज्ञान

कॉन्ग्रेस के सीएम भूपेश ने कहा कि आरएसएस के समर्थक पैर छूकर गोली मार देते हैं। महात्मा गाँधी की हत्या कैसे किया गया था? पहले पैर छुए फिर उनके सीने में गोली मारी।

कैपिटल हिल के लिए छाती पीटने वाले दिल्ली के ‘दंगाइयों’ के लिए पीट रहे ताली: ट्रम्प की आलोचना करने वाले करेंगे राहुल-प्रियंका की निंदा?

कैपिटल हिल वाले अगर दंगाई थे तो दिल्ली के उपद्रवी संत कैसे हुए? ट्रम्प की आलोचना हो रही थी तो राहुल-प्रियंका की निंदा क्यों नहीं? ये दोहरा रवैया अपनाने वाले आज भी फेक न्यूज़ फैलाने में लगे हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe