‘1971 में यहाँ भारत ने गिराया था बम’ – करतारपुर में बोर्ड लगाकर पाकिस्तान भड़का रहा सिख भावना

करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन होने में एक दिन से भी कम का समय बचा है, उस वक्त वहाँ के परिसर में लगी एक तस्वीर सामने आई है। इसका उद्देश्य वहाँ जा रहे सिखों की भावनाओं को भड़काने के अलावा कुछ नहीं लग रहा।

करतारपुर कॉरिडोर मामले पर पाकिस्तान का लगातार दोमुँहा रवैया देखने को मिल रहा है। पहले खबर थी कि पाक प्रशासन करतारपुर जाने वाले लोगों की सुरक्षा से खिलवाड़ कर रहा है। लेकिन अब भारत के ख़िलाफ़ उसके द्वारा चलाए जा रहे प्रोपेगेंडा का भी सोशल मीडिया के जरिए खुलासा हुआ है।

अब जिस समय करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन होने में एक दिन से भी कम का समय बचा है, उस वक्त वहाँ के परिसर में लगी एक तस्वीर सामने आई है। इसका उद्देश्य वहाँ जा रहे सिखों की भावनाओं को भड़काने के अलावा कुछ नहीं लग रहा। दरअसल, इस तस्वीर में नजर आ रहा है कि दरबार साहिब के परिसर में पाकिस्तान ने भड़काऊ पोस्टर लगाए हैं। जिसमें बताया जा रहा है कि भारत ने पवित्र गुरुद्वारे पर बम गिराए थे।

इस तस्वीर को भाजपा नेता तजिंदर सिंह बग्गा ने अपने ट्विटर पर शेयर किया है। साथ ही उन्होंने दावा किया है कि ये तस्वीर करतारपुर कॉरिडोर के परिसर की है। उनका कहना है कि इसके जरिए पाकिस्तान भारत के ख़िलाफ़ दुष्प्रचार कर रहा है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इस तस्वीर में देखा जा सकता है कि गुरुद्वारा परिसर में एक बोर्ड लगा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इसमें वाहेगुरु जी का चमत्कार लिखा हुआ है। साथ ही लिखा है कि भारतीय वायुसेना ने 1971 में गुरुद्वारा दरबार साहिब श्री करतारपुर साहिब पर बमबारी की थी, लेकिन वाहे गुरुजी की कृपा से गुरुद्वारे को कोई नुकसान नहीं पहुँचा।

आजादी से लेकर आज तक भारत और पाकिस्तान के बीच प्रत्यक्ष तौर पर चार युद्ध हो चुके हैं। परोक्ष तो खैर हर दिन चल रहा है। लेकिन पाकिस्तान आज तक हर बार हारा है। इसी हार की टीस को वो आज तक नहीं भुला पाया है। और अब जब भारत से 550 लोगों का जत्था करतारपुर दर्शन करने जाने के लिए तैयार है तो वो सिख भावना भड़काने के लिए भारतीय सेना के बारे में झूठ फैला रहा है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

दिल्ली दंगे
इस नैरेटिव से बचिए और पूछिए कि जिसकी गली में हिन्दू की लाश जला कर पहुँचा दी गई, उसने तीन महीने से किसका क्या बिगाड़ा था। 'दंगा साहित्य' के कवियों से पूछिए कि आज जो 'दोनों तरफ के थे', 'इधर के भी, उधर के भी' की ज्ञानवृष्टि हो रही है, वो तीन महीने के 89 दिनों तक कहाँ थी, जो आज 90वें दिन को निकली है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

155,450फैंसलाइक करें
43,324फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: