इजराइली शराब की बोतलों पर महात्मा गाँधी, PM मोदी और नेतन्याहू को पत्र लिख जताई गई आपत्ति

इस तस्वीर में महात्मा गाँधी को टी-शर्ट, स्टाइलिश काला चश्मा और ओवरकोट पहने हुए दिखाया गया है, जिस पर गाँधीवाड़ी संस्था ने आपत्ति जताई है। जोस का कहना है कि गाँधी की तस्वीर को यह सब पहनाना उनका मज़ाक बनाने के समान है।

इजराइल की एक कम्पनी द्वारा शराब की बोतलों पर राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की तस्वीर लगा कर बेचे जाने का मामला सामने आया है। माका ब्रेवरी नामक कम्पनी द्वारा शराब की बोतल पर गाँधीजी की तस्वीर लगाने का मामला सामने आने के बाद कई लोगों ने आपत्ति जताई है। केरल स्थित महात्मा गाँधी नेशनल फाउंडेशन के चेयरमैन एबी जे जोस ने इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शिकायत दर्ज कराई है। जोस ने इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू को भी पत्र लिख कर इस मामले से अवगत कराया है। उन्होंने शराब की बोतलों से गाँधीजी की तस्वीरों को हटाए जाने के साथ-साथ कम्पनी पर भी कड़ी कार्रवाई करने की माँग की है

इस तस्वीर में महात्मा गाँधी को टी-शर्ट, स्टाइलिश काला चश्मा और ओवरकोट पहने हुए दिखाया गया है, जिस पर गाँधीवाड़ी संस्था ने आपत्ति जताई है। जोस का कहना है कि गाँधी की तस्वीर को यह सब पहनाना उनका मज़ाक बनाने के समान है। अमित की वेबसाइट ‘हिपस्ट्रॉरी डॉट कॉम’ पर भी इस तस्वीर को दिखाया गया है और कहा जा रहा है कि इसे अमित द्वारा ही डिज़ाइन किया गया है। जोस ने दावा किया कि इस वेबसाइट पर कई ऐसी चीजें बिक रही हैं, जिसमें गाँधीजी का मज़ाक उड़ाया गया है।

बता दें कि गाँधीजी शराब के प्रयोग के ख़िलाफ़ थे और शराब पीने के ख़िलाफ़ उन्होंने अभियान भी चलाया था। 30 जनवरी को उनकी पुण्यतिथि पर और 2 अक्टूबर को उनके जन्मदिवस पर पूरे भारत में शराबबंदी रहती है और शराब के सारे दुकानों को बंद रखा जाता है। ऐसे में गाँधी की तस्वीर लगा कर शराब बेचना सचमुच ग़लत है। महात्मा गाँधी पूरे देश में शराब पर प्रतिबन्ध की वकालत करते रहे थे। गाँधी जी का कहना था कि अल्कोहल लेने के बाद व्यक्ति किसी जानवर की तरह हो जाता है और वो अपनी पत्नी और बहन में भी फ़र्क़ महसूस करने में विफल होता है। इसीलिए, यह ग़लत है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बिहार और छत्तीसगढ़ में शराब के ख़िलाफ़ चले अभियानों में गाँधीजी की शिक्षा का हवाला दिया गया। ऐसे में, सोशल मीडिया पर लोगों ने उनकी तस्वीर लगा कर शराब बेचने को अनुचित बताया। दरअसल, कम्पनी ने कई ऐतिहासिक महान व्यक्तित्व के तस्वीर लगा कर अलग-अलग बियर की बोतलें जारी की, जिनमें से एक में महात्मा गाँधी की भी तस्वीर है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

बड़ी ख़बर

SC और अयोध्या मामला
"1985 में राम जन्मभूमि न्यास बना और 1989 में केस दाखिल किया गया। इसके बाद सोची समझी नीति के तहत कार सेवकों का आंदोलन चला। विश्व हिंदू परिषद ने माहौल बनाया जिसके कारण 1992 में बाबरी मस्जिद गिरा दी गई।"

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,623फैंसलाइक करें
15,413फॉलोवर्सफॉलो करें
98,200सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: