पाकिस्तान में 300 रुपए किलो हुआ टमाटर, भारत से निर्यात बंद होने के रुझान शुरू

भारतीय किसानों और व्यापारियों ने भी पाकिस्तान को अपने सामान निर्यात करने से मना कर दिया है। साथ ही, सरकार ने भी कस्टम ड्यूटी बढ़ाकर 200% कर दी है।

कश्मीर पर बौखलाहट पाकिस्तान को भारी पड़ने लगा है। भारत से निर्यात पर रोक के कारण पाकिस्तान में टमाटर के दाम एकबार फिर आसमान छू रहे हैं। टमाटर की कीमत 300 रुपए प्रति किलो तक पहुँच चुकी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, भारतीय किसानों और व्यापारियों ने भी पाकिस्तान को अपने सामान निर्यात करने से मना कर दिया है। साथ ही, सरकार ने भी कस्टम ड्यूटी बढ़ाकर 200% कर दी है। इसकी वजह से खस्ताहाल पाकिस्तान में टमाटर का भाव 300 रुपए प्रति किलोग्राम तक पहुँच गया है।

आर्टिकल 370 के प्रावधानों को निष्प्रभावी किए जाने के बाद से पाकिस्तान को कुछ सूझ ही नहीं रहा है। वह ऐसे फैसले ले रहा है, जो आत्मघाती साबित हो रहे हैं। सिर्फ सामरिक ही नहीं, आर्थिक मोर्चे पर लिए फैसले भी पाकिस्तान को नुकसान पहुँचा रहे हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

भारत की तरफ से रोजाना हरी सब्जियों और खासतौर पर टमाटर की एक बड़ी मात्रा पाकिस्तान भेजी जाती थी जिस वजह से वहाँ सब्जियों के दाम नियंत्रित रहते थे। लेकिन पाकिस्तान सरकार के कारोबार रोकने के फैसले के बाद अब भारत से टमाटर की सप्लाई खत्म हो गई है और भाव आसमान छूने लगे हैं।

इससे पहले पाकिस्तान ने समझौता एक्सप्रेस को रद्द करने का फैसला किया। उसके बाद बाघा बॉर्डर होकर जाने वाली दिल्ली-लाहौर बस सेवा को स्थगित कर दिया। इसके अलावा उसने भारतीय उच्चायुक्त को भी भारत वापस भेजने का ऐलान किया। पाकिस्‍तान में भारतीय उच्‍चायुक्‍त अजय बिसारिया आज पाक से वापस दिल्‍ली लौट जाएँगे। बिसारिया इस्‍लामाबाद से लाहौर के रास्‍ते अमृतसर आएँगे। 

इसी वर्ष 14 फरवरी को पुलवामा में आतंकी हमले के बाद से ही भारत और पाकिस्तान के बीच कारोबार निचले स्तर पर था। आतंकवादी घटना के बाद भारत ने पाकिस्तान से आने वाली चीजों पर 20% कस्टम ड्यूटी कर दी थी। पुलवामा हमले के बाद जब भारत ने आतंकियों को ठिकाने लगाने के लिए पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी, तो उस समय भारत सरकार ने पाकिस्तान से कारोबार पर रोक लगा दी थी जिसके बाद पाकिस्तान में सब्जी और टमाटर के दामों में भारी बढ़ोतरी हुई थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

रामचंद्र गुहा और रवीश कुमार
"अगर कॉन्ग्रेस में शीर्ष नेताओं को कोई अन्य राजनेता उनकी कुर्सी के लिए खतरा लगता है, तो वे उसे दबा देते हैं। कॉन्ग्रेस में बहुत से अच्छे नेता हैं, जिन्हें मैं बहुत अच्छे से जानता हूँ। लेकिन अगर मैंने उनका नाम सार्वजनिक तौर पर लिया तो पार्टी में उन्हें दबा दिया जाएगा।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,129फैंसलाइक करें
35,293फॉलोवर्सफॉलो करें
161,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: