Monday, July 15, 2024
Homeविविध विषयअन्यसाइकोसोमेटिक डिसऑर्डर के उपचार का विज्ञान है BHU का ‘भूत विद्या’, झाड़-फूँक नहीं

साइकोसोमेटिक डिसऑर्डर के उपचार का विज्ञान है BHU का ‘भूत विद्या’, झाड़-फूँक नहीं

आयुर्वेद में आठ अंग होते हैं। शल्य, शालाक्य, काय चिकित्सा, कौमारभृत्य, अगदतंत्र, रसायन विज्ञान, वाजीकरण और भूत विद्या। इसे ही आष्टांग आयुर्वेद कहते हैं। भूत विद्या की शिक्षा लेने वाले मनोदैहिक विकार का उपचार करने में समर्थ होंगे। इस तरह के विकार मन में पैदा होकर शरीर को कष्ट देते हैं।

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय ने एक नया पाठ्यक्रम शुरू किया है। नाम है ‘भूत विद्या’। नाम सुनते ही पहला ख्याल आता है बचपन में सुनी भूत वाली कहानियों का। भूत छुड़ाने का दावा करने वाले ओझा-गुणी का। बीबीसी जैसे मीडिया संस्थान भी “Bhoot Vidya: India university to teach doctors Ghost Studies” जैसे हेडलाइन से इसी तरह का भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।

लेकिन हकीकत कुछ और ही है। BHU का ‘भूत विद्या’ विशुद्ध विज्ञान है। इससे साइकोसोमेटिक डिसऑर्डर का उपचार किया जाता है। ऑपइंडिया के संपादक अजीत भारती ने इस मसले पर बीएचयू के आयुर्वेद विभाग के डीन प्रोफ़ेसर यामिनी भूषण त्रिपाठी से लंबी बातचीत कर इसके अलग-अलग पहलुओं पर चर्चा की। आप इसे विस्तार से सुन सकते हैं।

इस दौरान प्रोफेसर त्रिपाठी ने बताया कि इसका भूत से कोई लेना-देना नहीं है। न ही यह ओझा-गुणी की पढ़ाई है। इसकी शिक्षा के लिए चिकित्सा का ज्ञान होना जरूरी है। उन्होंने बताया कि पाठकों को आकर्षित करने के लिए मीडिया संस्थान इस तरह की हेडलाइन बना रहे हैं ताकि लोगों में भ्रम पैदा हो।

प्रो. त्रिपाठी ने बताया कि सारा ज्ञान वेदों से आया है। चौथे वेद अथर्ववेद से आयुर्वेद निकला है। आयुर्वेद में आठ अंग होते हैं। शल्य, शालाक्य, काय चिकित्सा, कौमारभृत्य, अगदतंत्र, रसायन विज्ञान, वाजीकरण और भूत विद्या। इसे ही आष्टांग आयुर्वेद कहते हैं। बकौल प्रोफेसर त्रिपाठी इनमें से पॉंच को तो 15 भागों में विभाजित कर विकसित करने में कामयाबी मिल चुकी है। लेकिन, आयुर्वेद के आखिरी तीन भाग अभी तक पूरी तरह से विकसित नहीं हुए हैं। यही कारण है​ कि बीएचयू ने पहली बार इनकी पाठ्यक्रम की शुरुआत की है। जून में तीनों का यूनिट बनाया गया था। जो आगे चलकर विभाग में बदल जाएगा। छह महीने का ये पाठ्यक्रम होगा। भूत विद्या की शिक्षा लेने वाले साइकोसोमेटिक डिसऑर्डर यानी मनोदैहिक विकार का उपचार करने में समर्थ होंगे। इस तरह के विकार मन में पैदा होकर शरीर को कष्ट देते हैं।

CAA के विरोध में हैं BHU के 51 प्रोफेसर? वामपंथी प्रोपेगेंडा के शिकार कई प्रोफेसरों ने कहा- धोखे से लिया गया हस्ताक्षर

वामपंथियों को खदेड़ने के लिए BHU में बनी ‘अखिल भारतीय बाँस योजना

BHU SVDV मामले में छात्रों की जीत, धरना समाप्त: डॉ फिरोज के इस्तीफे के साथ ही मीडिया गिरोह की खुली पोल

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

मंगलौर के बहाने समझिए मुस्लिमों का वोटिंग पैटर्न: उत्तराखंड की जिस विधानसभा से आज तक नहीं जीता कोई हिन्दू, वहाँ के चुनाव परिणामों से...

मंगलौर में हाल के विधानसभा उपचुनावों में कॉन्ग्रेस ने भाजपा को हराया। इस चुनाव में मुस्लिम वोटिंग का पैटर्न भी एक बार फिर साफ़ हो गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -