Tuesday, June 15, 2021
Home विविध विषय अन्य जानिए चीन में उपजे ब्यूबॉनिक प्लेग के बारे में, जिसने ली थी 20 करोड़...

जानिए चीन में उपजे ब्यूबॉनिक प्लेग के बारे में, जिसने ली थी 20 करोड़ जानें… कोरोना से 3-4 गुणा खतरनाक!

चीन में 27 वर्षीय युवक ने गिलहरी का माँस खाया। इसके बाद उसमें और उसके 17 वर्षीय भाई में प्लेग पाया गया। इन दोनों युवकों के संपर्क में आने वाले 146 लोगों को आइसोलेट करके इलाज चल रहा है। इस संक्रमण का खतरा इतना ज्यादा है कि पूरे इलाके में हाई अलर्ट जारी किया गया है।

चीन में ब्यूबॉनिक प्लेग (Bubonic plague) के संदिग्ध पाए गए मरीजों के बाद वहाँ कई जगहों पर हाई अलर्ट है। चाइना डेली के अनुसार मंगोलिया में अधिकारियों ने प्लेग के रोकथाम और नियंत्रण के तीसरे स्तर की घोषणा साल 2020 के अंत तक कर दी है। 

रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि गिलहरी का माँस खाने के कारण यह प्लेग एक 27 वर्षीय युवक और उसके 17 वर्षीय भाई में पाया गया। 

लैब द्वारा इन केसों की पुष्टि के बाद ही वहाँ के स्वास्थ्य अधिकारी इस पर सचेत हुए और इलाके में मीट न खाने की अपील की गई। अभी तक इन दोनों युवकों के संपर्क में आने वाले 146 लोगों को आइसोलेट करके उनका इलाज किया जा रहा है।

Bubonic plague epidemic warning issued in China's inner Mongolia ...

अब हालाँकि पूरी दुनिया पहले से ही कोरोना की मार के कारण पस्त हो चुकी है। उस बीच में ऐसी बीमारी के अस्तित्व में आने की बात वाकई भयभीत करने वाली है। मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर इसे लेकर अलग-अलग दावे किए जा रहे हैं। 

कुछ रिपोर्ट्स बताती हैं कि ब्यूबॉनिक प्लेग न केवल कोरोना से भी खतरनाक है बल्कि इसमें मृत्यु दर का आँकड़ा कोरोना से 3-4 गुणा ज्यादा होता है। ये बीमारी ऐसी है कि एक समय में इसके कारण कई करोड़ लोगों ने अपनी जान गँवा दी थी।

अब आखिर इन बातों में क्या सच्चाई है? और ब्यूबॉनिक प्लेग क्या है? इसकी शुरुआत कहाँ से हुई थी? आज इन्हीं कुछ सवालों के जवाब हम आपको देने जा रहे हैं।

ब्यूबॉनिक प्लेग को वैसे ब्लैक डेथ भी कहा जाता है। हम इसकी गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि चीन में इसके अभी तक दो मरीज दिखे हैं और तुरंत वहाँ पर अलर्ट जारी कर दिया गया है।

ऐसा इसलिए क्योंकि ये प्लेग नया नहीं है। इससे पहले भी ब्यूबॉनिक प्लेग फैला था और उस समय पीपीई किट मौजूद नहीं हुआ करती थे। जिसके कारण लोगों को चिड़िया की तरह चोंच वाले मास्क पहनने पड़ते थे।

साभार: न्यूज 18

कहाँ से, किससे और कैसे शुरु हुआ ब्यूबॉनिक प्लेग

ये बात सन् 1347 की है। यही वो वर्ष था जब ब्यूबॉनिक प्लेग तेजी से फैला। इतिहास के पन्नों में इसे सबसे संक्रामक बीमारी माना जाता है। कुछ रिपोर्ट्स यह भी दावा करती हैं कि इस दौरान 20 करोड़ (200 मिलियन) लोग मरे। तो कुछ यह बताती हैं कि पिछली 2 सदी में इससे 5 करोड़ (50 मिलियन) तक की जानें गईं।

कारण? लोगों को उस समय इस प्लेग के बारे में खासी जानकारी नहीं थी। पता था तो बस ये कि ये बीमारी बेहद संक्रामक है और ये मरीज से निकलने वाली दूषित हवा के कारण होती है। जिसे Miasma कहते हैं।

हालाँकि, कुछ समय बाद इस बात का खंडन किया गया कि ब्यूबॉनिक प्लेग हवा से नहीं फैलता। बल्कि इसके फैलने का कारण येर्सिनिया पेस्टिस बैक्टीरिया है। जिससे सेप्टिकैमिक प्लेग और न्यूमोनिक प्लेग भी होता है।

China reports suspected bubonic plague case in Inner Mongolia ...
साभार: ग्लोबलन्यूज

ये बैक्टेरिया चूहे, खरगोश, गिलहरी आदि से फैलता है। मगर ये इतना खतरनाक होता है कि यदि एक वयस्क का समय पर इलाज न किया जाए तो यह उस वयस्क को मात्र 24 घंटे के भीतर मार सकता है।

इस बीमारी से जुड़े आँकड़े बताते हैं कि इसका मृत्यु दर अनुपात 30% से लेकर 60% है। वहीं सेप्टिकैमिक प्लेग और न्यूमोनिक प्लेग तो ऐसी बीमारियाँ हैं, जहाँ मृत्यु दर 100 प्रतिशत तक पहुँचा हुआ है।

इस बैक्टेरिया से होने वाली बीमारियों में संक्रमित व्यक्ति के मुर्गी की अंडे जितनी बड़ी गाँठे पड़ जाती है। उसे बुखार आता है, खराश होती है, पसलियों में दर्द होता है इत्यादि।

Bubonic plague - Wikipedia
साभार: विकीपीडिया

इस बैक्टेरिया के कारण जो गाँठ शरीर में उभरी दिखती हैं, उन्हें ब्यूबोस कहा जाता है। इनमें मरीज के शरीर में पस का भरना और खून निकलना आम बात होती है। इसके अतिरिक्त जो व्यक्ति इससे संक्रमित होता है, उसमें ये सभी लक्षण संक्रमण होने के 1-7 दिन में दिखने लगते हैं। साथ ही संक्रमित व्यक्ति से यह 5-7 लोगों में फैलने का खतरा होता है।

इंटरनेट पर ब्लैक डेथ पर मौजूद जानकारी के अनुसार, इस बीमारी ने 1347 से लेकर 1351 तक जनजीवन को बहुत प्रभावित किया। स्थिति ऐसी थी कि शायद किसी भी अन्य बीमारी ने इतने लोगों को तब तक कभी मारा हो।

रिपोर्ट्स बताती हैं कि इस प्लेग की शुरुआत भी चीन से हुई थी। लेकिन जहाजों के जरिए यह बाद में यह फैलते-फैलते अन्य देशों तक पहुँच गया। इस महामारी को लेकर अनुमान है कि उस वक्त इसकी वजह से यूरोप की लगभग 25-60 प्रतिशत आबादी का सफाया हो गया था और 5 करोड़ लोगों की मौत हुई थी।

इस महामारी को लेकर लोगों में भ्रम बैठ गया था कि यह सब ईश्वर के प्रकोप के कारण हो रहा है। यानी ईश्वर किसी बात से नाराज है। जिसके कारण ये महामारी फैली।

भारत में भी दी थी इस प्लेग ने दस्तक

यहाँ बता दें कि ब्यूबॉनिक प्लेग का असर भारत में भी देखने को मिला था। सबसे पहले भारत में इससे जुड़ा मामला 23 सितंबर 1896 को बॉम्बे में रिपोर्ट किया गया था। ये भारत में तीसरे प्लेग के रूप में देखा गया था। कलकत्ता, कराची, पंजाब समेत कई बंदरगाह वाले राज्यों में यह संक्रमण जहाजों के जरिए पहुँचा था।

इसने उस समय भारत के करीब 1.2 करोड़ लोगों को अपनी चपेट में लिया। इसके बाद स्थिति को संभालने के लिए यहाँ महामारी रोग अधिनियम 1897 बना। इस अधिनियम में खतरनाक बीमारी रोग के रूप में विशेष उपाय और नियमों की निर्धारित करने की शक्ति थी।

इस कानून का इस्तेमाल अंग्रेजों ने उन संक्रमित जगह व प्रॉपर्टी को विध्वंस करने में उपयोग किया। इसके बाद साल 1994 में यर्सेनिया नाम के बैक्टेरिया ने भारत पर एक बार फिर हमला बोला। मगर इस बार यह विषाणु ब्यूबॉनिक प्लेग नहीं, बल्कि निमोनिया लेकर आया।

आज क्या है प्लेग का इलाज

प्लेग के शुरुआती में इसका कोई इलाज नहीं था। उस समय लोग गिल्टियों पर उबलता पानी डालकर गाँठों को पिघलाने का प्रयास करते थे। या फिर गर्म सलाख से उन्हें दागते थे।

मगर, विज्ञान क्षेत्र में तरक्की के बाद कई ऐसी एंटीबॉयोटिक्स इस समय दुनिया में मौजूद हैं, जिनसे इस संक्रमण को महामारी बनने से पहले रोका जा सकता है। साथ ही बीमार व्यक्ति को उपयुक्त उपचार भी दिया जा सकता है।

हालाँकि इन दवाइयों को लेकर यह कहना मुश्किल होता है कि इनसे पूरी तरह प्लेग खत्म होता है या नहीं। लेकिन WHO के डेटा पर गौर करें तो हर साल प्लेग 1000 से 2000 लोगों में होता है। बावजूद इसके कि इसके लिए कोई प्रभावी वैक्सीन नहीं है। अब डॉक्टर्स इसे फैलने से रोकने में सक्षम होते हैं और ये बड़ी महामारी का रूप नहीं ले पाता।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र द्वारा किए गए जमीन के सौदे की पूरी सच्चाई, AAP के खोखले दावों की पूरी पड़ताल

अंसारी को जमीन का मालिकाना मिलने के बाद मंदिर ट्रस्ट और अंसारी के बीच बिक्री समझौता हुआ। अंसारी ने जमीन को 18.5 करोड़ रुपए में ट्रस्ट को बेचने की सहमति जताई।

2030 तक 2.6 करोड़ एकड़ बंजर जमीन का होगा कायाकल्प, 10 साल में बढ़ा 30 लाख हेक्टेयर वन क्षेत्र: UN वर्चुअल संवाद में PM...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में मरुस्थलीकरण, भूमि क्षरण और सूखे पर उच्च स्तरीय वर्चुअल कार्यक्रम को संबोधित किया।

ट्रस्ट द्वारा जमीन के सौदे में घोटाले का आरोप एक सुनियोजित दुष्प्रचार, समाज में उत्पन्न हुई भ्रम की स्थिति: चंपत राय

पारदर्शिता के विषय में चंपत राय ने कहा कि तीर्थ क्षेत्र का प्रथम दिवस से ही निर्णय रहा है कि सभी भुगतान बैंक से सीधे खाते में ही किए जाएँगे, सम्बन्धित भूमि की क्रय प्रक्रिया में भी इसी निर्णय का पालन हुआ है।

श्रीराम मंदिर के लिए सदियों तक मुगलों से सैकड़ों लड़ाई लड़े तो कॉन्ग्रेस-लेफ्ट-आप इकोसिस्टम से एक और सही

जो कुछ भी शुरू किया गया है वह हवन कुंड में हड्डी डालने जैसा है पर सदियों से लड़ी गई सैकड़ों लड़ाई के साथ एक लड़ाई और सही।

महाराष्ट्र में अब अकेले ही चुनाव लड़ेगी कॉन्ग्रेस, नाना पटोले ने सीएम उम्मीदवार बनने की जताई इच्छा

पटोले ने अमरावती में कहा, ''2024 के चुनाव में कॉन्ग्रेस महाराष्ट्र में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी। केवल कॉन्ग्रेस की विचारधारा ही देश को बचा सकती है।''

चीन की वुहान लैब में जिंदा चमगादड़ों को पिंजरे के अंदर कैद करके रखा जाता था: वीडियो से हुआ बड़ा खुलासा

वीडियो ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के उस दावे को भी खारिज किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि चमगादड़ों को लैब में रखना और कोरोना के वुहान लैब से पैदा होने की बात करना महज एक 'साजिश' है।

प्रचलित ख़बरें

राम मंदिर में अड़ंगा डालने में लगी AAP, ट्रस्ट को बदनाम करने की कोशिश: जानिए, ‘जमीन घोटाले’ की हकीकत

राम मंदिर जजमेंट और योगी सरकार द्वारा कई विकास परियोजनाओं की घोषणाओं के कारण 2 साल में अयोध्या में जमीन के दाम बढ़े हैं। जानिए क्यों निराधार हैं संजय सिंह के आरोप।

‘हिंदुओं को 1 सेकेंड के लिए भी खुश नहीं देख सकता’: वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप से पहले घृणा की बैटिंग

भारत के पूर्व तेज़ गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने कहा कि जीते कोई भी, लेकिन ये ट्वीट ये बताता है कि इस व्यक्ति की सोच कितनी तुच्छ और घृणास्पद है।

सिख विधवा के पति का दोस्त था महफूज, सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण करा किया निकाह; दो बेटों का भी करा दिया खतना

रामपुर जिले के बेरुआ गाँव के महफूज ने एक सिख महिला की पति की मौत के बाद सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण कर उसके साथ निकाह कर लिया।

केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस में फिर होने वाली थी पिटाई? लोगों से पहले ही उतरवा लिए गए जूते-चप्पल: रिपोर्ट

केजरीवाल पर हमले की घटनाएँ कोई नई बात नहीं है और उन्हें थप्पड़ मारने के अलावा स्याही, मिर्ची पाउडर और जूते-चप्पल फेंकने की घटनाएँ भी सामने आ चुकी हैं।

6 साल के पोते के सामने 60 साल की दादी को चारपाई से बाँधा, TMC के गुंडों ने किया रेप: बंगाल हिंसा की पीड़िताओं...

बंगाल हिंसा की गैंगरेप पीड़िताओं ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। बताया है कि किस तरह टीएमसी के गुंडों ने उन्हें प्रताड़ित किया।

इब्राहिम ने पड़ोसी गंगाधर की गाय चुराकर काट डाला, मांस बाजार में बेचा: CCTV फुटेज से हुआ खुलासा

इब्राहिम की गाय को जबरदस्ती घसीटने की घिनौनी हरकत सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। गाय के मालिक ने मालपे पुलिस स्टेशन में आरोपित के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
103,898FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe