Friday, July 30, 2021
Homeविविध विषयअन्यजानवरों में भी फैलने लगा कोरोना, देश में पहली बार नेहरू जूलॉजिकल पार्क के...

जानवरों में भी फैलने लगा कोरोना, देश में पहली बार नेहरू जूलॉजिकल पार्क के 8 एशियाई शेर कोविड पॉजिटिव

"यह बात सच है कि शेरों में कोरोना के लक्षण दिखे हैं, लेकिन हमें अभी इन शेरों की CCMB से आरटी-पीसीआर रिपोर्ट मिलनी बाकी है। रिपोर्ट मिलने के बाद ही हम इस बारे में जानकारी दे पाएँगे।"

देशभर में कोरोना की दूसरी लहर कहर बरपा रही है। रोजाना कोविड-19 के नए मामले रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं। इसी बीच देश में पहली बार जानवरों के कोरोना संक्रमित होने की खबर सामने आई है।

बताया जा रहा है कि हैदराबाद के नेहरू जूलॉजिकल पार्क (NZP) में 8 एशियाई शेर कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं। 29 अप्रैल को सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलेक्युलर बॉयोलाजी (CCMB) ने नेहरू जूलोजिकल पार्क के अधिकारियों को बताया कि आरटी-पीसीआर टेस्ट में 8 शेर पॉजिटिव मिले हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, जूलोजिकल पार्क के क्यूरेटर और डायरेक्टर डॉक्टर सिद्धानंद कुकरेती ने न तो इसकी पुष्टि की है और न ही इस बात से इनकार किया है कि ये शेर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

डॉक्टर कुकरेती ने कहा, “यह बात सच है कि शेरों में कोरोना के लक्षण दिखे हैं, लेकिन हमें अभी इन शेरों की CCMB से आरटी-पीसीआर रिपोर्ट मिलनी बाकी है। रिपोर्ट मिलने के बाद ही हम इस बारे में जानकारी दे पाएँगे।”

कुल 12 शेर में से 8 कोरोना पॉजिटिव

CCMB के डॉक्टर राकेश मिश्रा ने बताया कि हैदराबाद के नेहरू जूलॉजिकल पार्क में कुल 12 शेर हैं। उनमें से 8 कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने बताया कि जाँच में सामने आया है कि वे सभी पुराने वैरिएंट से संक्रमित हैं, न कि नए वैरिएंट से जिससे हम सभी चिंतित हैं। जानवर ठीक हो रहे हैं, वे ठीक से खा-पी रहे हैं।

एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक, 24 अप्रैल को पशु चिकित्सों ने इन जानवरों की देखभाल के दौरान पाया कि इनमें कोरोना के लक्षण पाएँ गए हैं, जैसे-भूख न लगना, नाक से पानी आना और कफ की शिकायत। इस चिड़ियाघर में कुल 12 शेर हैं, जिनकी उम्र करीब 10 साल है। जू की सफारी एरिया का क्षेत्रफल करीब 40 एकड़ है। चार शेर और बाकी शेरनियाँ कोविड पॉजिटिव मिली हैं।

आम लोगों के लिए जू दो दिनों के लिए किया गया बंद

बता दें कि इस घटना के बाद से नेहरू जूलोजिकल पार्क को आम लोगों के लिए आगामी दो दिनों के लिए बंद कर दिया गया है। वहीं, यह भी कयास लगाए जा रहे हैं कि इन शेरों की देखभाल करने वाले 25 कर्मचारियों को भी कोरोना हो चुका है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वतंत्र है भारतीय मीडिया, सूत्रों से बनी खबरें मानहानि नहीं: शिल्पा शेट्टी की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा कि उनका निर्देश मीडिया रिपोर्ट्स को ढकोसला नहीं बताता। भारतीय मीडिया स्वतंत्र है और सूत्रों पर बनी खबरें मानहानि नहीं है।

रामायण की नेगेटिव कैरेक्टर से ममता बनर्जी की तुलना कंगना रनौत ने क्यों की? जावेद-शबाना-खान को भी लिया लपेटे में

“...बंगाल मॉडल एक उदाहरण है… इसमें कोई शक नहीं कि देश में खेला होबे।” - जावेद अख्तर और ममता बनर्जी की इसी मीटिंग के बाद कंगना रनौत ने...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,014FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe