Tuesday, March 2, 2021
Home विविध विषय अन्य 'हिन्दू जनजागरण का सेनापति' जिसने नेपथ्य से थाम रखी थी राम मंदिर आंदोलन की...

‘हिन्दू जनजागरण का सेनापति’ जिसने नेपथ्य से थाम रखी थी राम मंदिर आंदोलन की डोर

"कुछ किरदार नेपथ्य में थे। लेकिन अयोध्या के राम जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन की डोर उनके ही हाथों में थी। मोरोपंत पिंगले एक ऐसे ही किरदार थे। दरअसल, अयोध्या आंदोलन के असली रणनीतिकार वही थे।"

एक थे मोरोपंत त्र्यंबक पिंगले जिन्हें ‘मोरोपंत पेशवा’ भी कहते हैं। वे शिवाजी के अष्टप्रधानों में से एक थे। उनके निधन के करीब 236 साल बाद पैदा हुए थे मोरेश्‍वर नीलकंठ पिंगले। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रचारक रहे मोरेश्वर भी मोरोपंत पिंगले के नाम से ही जाने गए।

30 दिसम्बर 1919 को मध्य प्रदेश के जबलपुर में पैदा हुए मोरेश्वर नीलकण्ठ पिंगले का निधन 85 साल की उम्र में 21 सितम्बर 2003 को हुआ था। मराठी में उन्हें ‘हिन्दु जागरणाचा सरसेनानी (हिन्दू जनजागरण के सेनापति)’ कहा जाता है।

संघ के साथ उनका जुड़ाव छह दशक से भी ज्यादा समय तक रहा। इस दौरान उन्होंने कई दायित्वों का निवर्हन किया। मसलन, मध्य भारत के प्रांत प्रचारक, पश्चिम क्षेत्र के क्षेत्र प्रचारक, अखिल भारतीय शारीरिक प्रमुख, अखिल भारतीय बौद्धिक प्रमुख, अखिल भारतीय प्रचारक प्रमुख, सह सरकार्यवाह। आपातकाल के समय छह अघोषित सरसंघचालकों में से वे भी एक थे। तीसरे सरसंघचालक बालासाहब देवरस के निधन के बाद वे उनके उत्तराधिकारी बनने के दावेदारों में भी शामिल रहे।

धर्मांतरण के खिलाफ आरएसएस के अभियान के पीछे भी मोरोपंत पिंगले ही थे। 12 जुलाई, 1981 को आरएसएस की नेशनल एग्‍जीक्‍यूटिव ने धर्मांतरण के खिलाफ एक प्रस्‍ताव पारित किया। इसी साल विश्व हिन्दू परिषद (वीएचपी) ने धर्मांतरण को रोकने के लिए पहला कार्यक्रम शुरू किया था। इसे संस्‍कृति रक्षा निधि योजना कहा गया। वीएचपी की 1983 की एकात्‍म यात्रा के पीछे उन्‍हीं का दिमाग था। इसका मकसद हिंदुओं को एकजुट करना था।

रामजन्मभूमि आन्दोलन के रणनीतिकार पिंगले ही थे। राम जानकी रथ यात्रा जो 1984 में निकाली गई, उसके वे संयोजक थे। वरिष्ठ पत्रकार हेमंत शर्मा अपनी किताब ‘युद्ध में अयोध्या’ में लिखते हैं, “कुछ किरदार नेपथ्य में थे। लेकिन अयोध्या के राम जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन की डोर उनके ही हाथों में थी। मोरोपंत पिंगले एक ऐसे ही किरदार थे। दरअसल, अयोध्या आंदोलन के असली रणनीतिकार वही थे।” बकौल शर्मा, “उनकी बनाई योजना के तहत देशभर में करीब तीन लाख रामशिलाएँ पूजी गई। गॉंव से तहसील, तहसील से जिला और जिलों से राज्य मुख्यालय होते हुए लगभाग 25 हजार शिला यात्राएँ अयोध्या के लिए निकली थीं। 40 देशों से पूजित शिलाएँ अयोध्या आई थी। यानी, अयोध्या के शिलान्यास से छह करोड़ लोग सीधे जुड़े थे। इससे पहले देश में इतना सघन और घर-घर तक पहुॅंचने वाला कोई आंदोलन नहीं हुआ था।”

शर्मा की किताब बताती है कि 1992 में संघ के तीन प्रमुख नेताओं एचवी शेषाद्रि, केएस सुदर्शन और मोरोपंत पिंगले 3 दिसंबर से ही अयोध्या में डेरा डाले हुए थे। आंदोलन के सारे सूत्र इन्हीं के पास थे। पिंगले एक बात अक्सर कहा करते थे, “जैसे सौर ऊर्जा संयंत्र से बिजली पैदा होती है, वैसे ही संघ की शाखा और कार्यक्रमों से भी संगठन रूपी बिजली पैदा होती है।” संघ का फैलाव बता रहा है कि पिंगले सही ही कहा करते थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेजन प्राइम ने तांडव पर माँगी माफी, कहा- भावनाओं को ठेस पहुँचाना ध्येय नहीं, हटाए विवादित दृश्य

हिंदूफोबिक कंटेट को लेकर विवादों में आई वेब सीरिज 'तांडव' को लेकर ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजन प्राइम वीडियो ने माफी माँगी है।

ट्विटर पर जलाकर मारे गए कारसेवकों की बात करना मना है: गोधरा नरसंहार से जुड़े पोस्ट डिलीट करने को कर रहा मजबूर

गोधरा नरसंहार के हिंदू पीड़ितों की बात करने वाले पोस्ट डिलीट करने के लिए ट्विटर यूजर्स को मजबूर कर रहा है।

हिंदू अराध्य स्थल पर क्रिश्चियन क्रॉस, माँ सीता के पद​ चिह्नों को नुकसान: ईसाई प्रचारकों की करतूत से बीजेपी बिफरी

मंदिरों को निशाना बनाए जाने के बाद अब आंध्र प्रदेश में हिंदू पवित्र स्थल के पास अतिक्रमण कर विशालकाय क्रॉस लगाए जाने का मामला सामने आया है।

भगवान श्रीकृष्ण को व्यभिचारी और पागल F#ckboi कहने वाली सृष्टि को न्यूजलॉन्ड्री ने दिया प्लेटफॉर्म

भगवान श्रीकृष्ण पर अपमानजनक टिप्पणी के बाद HT से निकाली गई सृष्टि जसवाल न्यूजलॉन्ड्री के साथ जुड़ गई है।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

काम पर लग गए ‘कॉन्ग्रेसी’ पत्रकार: पश्चिम बंगाल में ‘मौत’ वाले मौलाना से गठबंधन और कलह से दूर कर रहे असम की बातें

बंगाल में कॉन्ग्रेस ने कट्टरवादी मौलाना के साथ गठबंधन किया, रोहिणी सिंह जैसे पत्रकारों ने ध्यान भटका कर असम की बातें करनी शुरू कर दी।

प्रचलित ख़बरें

‘प्राइवेट पार्ट में हाथ घुसाया, कहा पेड़ रोप रही हूँ… 6 घंटे तक बंधक बना कर रेप’: LGBTQ एक्टिविस्ट महिला पर आरोप

LGBTQ+ एक्टिविस्ट और TEDx स्पीकर दिव्या दुरेजा पर पर होटल में यौन शोषण के आरोप लगे हैं। एक योग शिक्षिका Elodie ने उनके ऊपर ये आरोप लगाए।

गोधरा में जलाए गए हिंदू स्वरा भास्कर को याद नहीं, अंसारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा- कभी नहीं भूलना

स्वरा भास्कर ने अंसारी की तस्वीर शेयर करते हुए इस बात को छिपा लिया कि यह आक्रोश गोधरा में कार सेवकों को जिंदा जलाए जाने से भड़का था।

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

नमाज पढ़ाने वालों को ₹15000, अजान देने वालों को ₹10000 प्रतिमाह सैलरी: बिहार की 1057 मस्जिदों को तोहफा

बिहार स्टेट सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड में पंजीकृत मस्जिदों के पेशइमामों (नमाज पढ़ाने वाला मौलवी) और मोअज्जिनों (अजान देने वालों) के लिए मानदेय का ऐलान।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

‘बीवी के सामने गर्लफ्रेंड को वीडियो कॉल करता था शौहर, गर्भ में ही मर गया था बच्चा’: आयशा की आत्महत्या के पीछे की कहानी

राजस्थान की ही एक लड़की से आयशा के शौहर आरिफ का अफेयर था और आयशा के सामने ही वो वीडियो कॉल पर उससे बातें करता था। आयशा ने कर ली आत्महत्या।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,208FansLike
81,879FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe