Sunday, April 14, 2024
Homeविविध विषयअन्यइंदिरा जयसिंह-आनंद ग्रोवर के यहाँ CBI की छापेमारी ख़तरनाक: SC बार एसोसिएशन को वकीलों...

इंदिरा जयसिंह-आनंद ग्रोवर के यहाँ CBI की छापेमारी ख़तरनाक: SC बार एसोसिएशन को वकीलों ने लिखा पत्र

सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह और उनके पति आनंद ग्रोवर के यहाँ CBI ने छापेमारी की थी। CBI ने यह छापेमारी उनके एनजीओ ‘लॉयर्स कलेक्टिव’ के लिए विदेशी चंदा विनियमन अधिनियम (FCRA) के उल्लंघन मामले में की थी।

वरिष्ठ अधिवक्ता इंदिरा जयसिंह और आनंद ग्रोवर के कार्यालयों और आवासों पर CBI के छापों की निंदा करते हुए सुप्रीम कोर्ट के सौ से अधिक वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन (SCBA) को एक पत्र लिखा है। इन वकीलों ने माँग रखी है कि CBI छापों के खिलाफ एक आम सभा बुलाई और इसकी निंदा की जाए।

इस पत्र में, वकीलों ने इंदिरा जयसिंह और आनंद ग्रोवर के कार्यालयों और आवासों पर CBI की छापेमारी की कड़ी निंदा की और SCBA को इस संदर्भ में एक स्पष्ट संदेश जारी करने की अपील की।

ख़बर के अनुसार, पत्र में CBI की कार्रवाई को, ‘ख़तरनाक मिसाल क़ायम करने वाला, क़ानूनी पेशे की स्वतंत्रता पर प्रहार’बताया गया है। पत्र में कहा गया है कि जाँच में वकीलों के सामूहिक सहयोग के बावजूद CBI ने अभूतपूर्व क़दम उठाया।

अधिवक्ताओं के अनुसार, इंदिरा जयसिंह और आनंद ग्रोवर ने लगातार क़ानून-व्यवस्था को बरक़रार रखा, उन्हें इस तरह दरकिनार कर देना ग़लत है। सभी अधिवक्ताओं ने एकजुटता दिखाते हुए CBI की छापेमारी को ‘राज्य मशीनरी द्वारा ताक़त का ग़लत इस्तेमाल’ बताया।

इसी संदर्भ में, दिल्ली उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन द्वारा एक बयान जारी करते हुए CBI की छापेमारी की निंदा करते हुए कहा गया कि एडवोकेट्स ऑफ़िस में क़ानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा तलाशी अभियान गंभीर चिंता का विषय है। एजेंसियों से कहें कि कोई ऐसा क़दम न उठाए जो पेशे की स्वतंत्रता को बाधित करता हो।

ग़ौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह और उनके पति आनंद ग्रोवर के यहाँ CBI ने गुरुवार (11 जुलाई) को छापेमारी की थी। CBI ने यह छापेमारी उनके एनजीओ ‘लॉयर्स कलेक्टिव’ के लिए विदेशी चंदा विनियमन अधिनियम (FCRA) के उल्लंघन मामले में की थी। CBI प्रवक्ता ने बताया था कि दिल्ली और मुंबई दोनों जगह छापे मारे गए।

दरअसल, यह मामला मई 2019 में सामने आया था, जब सुप्रीम कोर्ट ने वकीलों के एक स्वैच्छिक संगठन ‘लॉयर्स वॉइस’ द्वारा दायर जनहित याचिका के आधार पर सीनियर एडवोकेट इंदिरा जयसिंह, आनंद ग्रोवर और उनके एनजीओ ‘लॉयर्स कलेक्टिव’ को एक नोटिस जारी किया था। यह नोटिस प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने जारी किया। इस याचिका में संबंधित संस्थाओं द्वारा विदेशी चंदा (नियमन) अधिनियम (FCRA) क़ानून के उल्लंघन पर केंद्र सरकार की निष्क्रियता के लिए SIT (स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम) जाँच की माँग की गई है। 

FCRA उल्लंघन की ख़बर सामने आने के बाद केंद्र सरकार ने ग़ैर सरकारी संगठन के FCRA लाइसेंस को रद कर दिया था, लेकिन दोषियों के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं की गई थी। याचिका में आरोप लगाया गया था कि इनके द्वारा जुटाए गए धन का राष्ट्र के ख़िलाफ़ गतिविधियों में उपयोग किया गया।


Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

BJP की तीसरी बार ‘पूर्ण बहुमत की सरकार’: ‘राम मंदिर और मोदी की गारंटी’ सबसे बड़ा फैक्टर, पीएम का आभामंडल बरकार, सर्वे में कहीं...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी तीसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाती दिख रही है। नए सर्वे में भी कुछ ऐसे ही आँकड़े निकलकर सामने आए हैं।

‘राष्ट्रपति आदिवासी हैं, इसलिए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में नहीं बुलाया’: लोकसभा चुनाव 2024 में राहुल गाँधी ने फिर किया झूठा दावा

राष्ट्रपति मुर्मू को राम मंदिर ट्रस्ट का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने के लिए औपचारिक रूप से आमंत्रित किया गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe