Sunday, May 29, 2022
Homeविविध विषयअन्य'...तब मैं पत्रकार था फिर भी कश्मीर पर चुप रहा' : द कश्मीर फाइल्स...

‘…तब मैं पत्रकार था फिर भी कश्मीर पर चुप रहा’ : द कश्मीर फाइल्स के ‘डॉक्टर महेश’ ने माँगी हिंदुओं से माफी, कहा- शर्मिंदा हूँ

प्रकाश बेलवाड़ ने फिल्म रिलीज होने के बाद कश्मीरी पंडितों के नरसंहार पर लंबे समय तक चुप्पी साधे रखने के लिए माफी माँगी। उन्होंने एक वीडियो साझा करते हुए बताया कि 90 के दशक में एक पत्रकार होने के बावजूद उन्होंने इस मुद्दे पर चुप्पी साधी थी।

द कश्मीर फाइल्स फिल्म में नजर आए कन्नड़ अभिनेता प्रकाश बेलवाड़ ने फिल्म रिलीज होने के बाद कश्मीरी पंडितों के नरसंहार पर लंबे समय तक चुप्पी साधे रखने के लिए माफी माँगी। उन्होंने एक वीडियो साझा करते हुए बताया कि 90 के दशक में एक पत्रकार होने के बावजूद उन्होंने इस मुद्दे पर चुप्पी साधी थी।

इस वीडियो में उन्होंने कहा, “मुझे ‘द कश्मीर फाइल्स’ का हिस्सा बनने का सौभाग्य मिला है। जब मुझे विवेक अग्निहोत्री द्वारा स्क्रिप्ट भेजी गई, तो मैं चौंक गया क्योंकि तब तक मेरे पास 1990 के दशक में जम्मू-कश्मीर राज्य में कश्मीरी पंडितों के साथ हुई भयावहता और पलायन की जानकारी नहीं थी।”

उन्होंने कहा, “मैं शर्मिंदगी महसूस करता हूँ, मैं खुद को दोषी भी समझता हूँ हूँ क्योंकि मैं उस समय एक पत्रकार था और समकालीन घटनाओं से जुड़े होने पर खुद पर गर्व करता था। लेकिन अब मैं देखता हूँ कि तब ऐसा नहीं था मुझे लगता है कि लंबे समय तक इस मुद्दे पर चुप रहने के लिए मेरे लिए इस समुदाय से माफी माँगना ही सही है।”

वह फिल्म निर्देशक की तारीफ करते हुए कहते हैं, “मैं इस विषय पर रिसर्च करने और कहानी को दुनिया के सामने के साहस और प्रतिबद्धता से रखने के लिए विवेक अग्निहोत्री को बधाई और आभार देता हूँ। मैं हर भारतीय से आग्रह करता हूँ कि यह फिल्म देखें ताकि पता चले कि हमारे पीठ पीछे क्या हुआ था। हमें ये कहना होगा कि न्याय उनका अधिकार हैं और वो जमीन उनकी है।” अपनी वीडियो की आखिर में उन्होंने पत्रकार साथी आरके मट्टू को धन्यवाद दिया जो कि कर्नाटक में कश्मीरी पंडितों को इंसाफ दिलाने वाले नेता रहे हैं। वह बोले कि मट्टू की अपील के बाद ही उन्होंने इस वीडियो को बनाया है। बता दें कि द कश्मीर फाइल्स में प्रकाश ने डॉ महेश का किरदार निभाया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शरिया लॉ में बदलाव कबूल नहीं’: UCC के विरोध में देवबंद के मौलवियों की बैठक, कहा – ‘सब सह कर हम 10 साल से...

देवबंद में आयोजित 'जमीयत उलेमा ए हिन्द' की बैठक में UCC का विरोध किया गया। मौलवियों ने सरकार पर डराने का आरोप लगाया। कहा - ये देश हमारा है।

‘कब्ज़ा कर के बनाई गई मस्जिद को गिरा दो’: मंदिरों को ध्वस्त कर बनाए गए मस्जिदों पर बोले थे गाँधी – मुस्लिम खुद सौंप...

गाँधी जी ने लिखा था, "अगर ‘अ’ (हिन्दू) का कब्जा अपनी जमीन पर है और कोई शख्स उसपर कोई इमारत बनाता है, चाहे वह मस्जिद ही हो, तो ‘अ’ को यह अख्तियार है कि वह उसे गिरा दे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe