Thursday, August 5, 2021
Homeविविध विषयअन्यपश्चिम बंगाल: 8वीं के बच्चे पढ़ रहे 'आतंकी' थे खुदीराम बोस

पश्चिम बंगाल: 8वीं के बच्चे पढ़ रहे ‘आतंकी’ थे खुदीराम बोस

इससे पहले एक निजी स्कूल की पुस्तक में मिल्खा सिंह की जगह उन पर बनी फ़िल्म में उनका किरदार अदा करने वाले फरहान अख्तर की ही फोटो लगा दी गई थी।

पश्चिम बंगाल में शिक्षा व्यवस्था की पोल खुलती नज़र आ रही है। वहाँ आठवीं कक्षा की पुस्तक में स्वतन्त्रता सेनानी खुदीराम बोस को आतंकी बताया गया है। खुदीराम बोस ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई में भाग लिया था, जिसके कारण उन्हें मात्र 18 वर्ष की आयु में अंग्रेजों ने फाँसी दे दी थी। पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में जन्मे बोस को उन्हीं के राज्य में ‘आतंकी’ बताया जा रहा है। सोशल मीडिया पर पुस्तक के उस भाग की तस्वीरें वायरल हो गईं, जिसके बाद लोगों ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को निशाने पर लिया। राज्य में लापरवाह शिक्षा विभाग ने अमर क्रांतिकारी को आतंकी बता दिया!

माध्यमिक शिक्षा परिषद के अधिकारियों ने इस मामले में चुप्पी साध रखी है। मामले की जाँच के लिए राज्य सरकार ने इतिहासकार जीवन मुखर्जी के नेतृत्व में एक कमिटी गठित की है, जिसमें हिन्दू स्कूल और हेयर स्कूल के प्राध्यापकों को भी रखा गया है। शिक्षाविद पवित्र सरकार भी इस टीम का हिस्सा हैं, जो पूरी पुस्तक की समीक्षा करेगी और ग़लतियों को सुधारेगी। हालाँकि, इतिहास की इस पुस्तक को तैयार करने वाले निर्मल बनर्जी ने कहा कि ब्रिटिश सरकार ने खुदीराम बोस को ‘आतंकवादी’ कहा था, इस पाठ में उसीका उल्लेख किया गया है। उन्होंने बताया कि इतिहास से छेड़छाड़ नहीं की जा सकती।

आरोप है कि इतिहास लिखने वाले कई ऐसे लोग हैं, जिन्होंने भारतीय स्वतन्त्रता सेनानियों व राजाओं को लेकर आक्रांताओं के विचारों को बढ़ावा दिया है। बंगाल में हाल ही में पाठ्यक्रम में बदलाव किया गया है, जिसमें ममता बनर्जी के नेतृत्व में हुए सिंगुर आंदोलन के अलावा उनके द्वारा किए गए अन्य आन्दोलनों को जगह दी गई है। कई ऐसी पुस्तकों के सामने आने की ख़बर है, जिसमें भारतीय विभूतियों को ग़लत तरीके से पेश किया गया है। इससे पहले एक निजी स्कूल की पुस्तक में मिल्खा सिंह की जगह उन पर बनी फ़िल्म में उनका किरदार अदा करने वाले फरहान अख्तर की ही फोटो लगा दी गई थी।

कौन थे खुदीराम बोस?

बंगाल से आने वाले स्वतन्त्रता सेनानी खुदीराम बोस मात्र 18 वर्ष की उम्र में देश के लिए फाँसी के फंदे पर झूल गए थे। श्री अरबिंदो और सिस्टर निवेदिता ने जब मेदनीपुर का दौरा किया था, तब खुदीराम उनके विचारों से काफ़ी प्रभावित हुए थे। उन्होंने भारतियों पर अत्याचार करने वाले कई अंग्रेज अधिकारियों को निशाना बनाया था। वह क्रन्तिकारी संगठन अनुशीलन समिति का हिस्सा थे। जब खुदीराम बोस को अंग्रेजों ने गिरफ़्तार किया था, तब उनके बारे में सुन कर उन्हें देखने के लिए बड़ी भीड़ जमा हो गई थी। कहते हैं, खुदीराम बोस को जब फाँसी पर लटकाया जा रहा था, तब भी उनके चेहरे पर हँसी थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हॉकी में ब्रॉन्ज मेडल: 4 दशक के बाद टोक्यो ओलंपिक में भारतीय टीम ने रचा इतिहास, जर्मनी को 5-4 से हराया

टोक्यो ओलंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए जर्मनी को करारी शिकस्त देकर ब्रॉन्ज मेडल पर कब्जा कर लिया।

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसी बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,029FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe