Thursday, July 29, 2021
Homeविविध विषयअन्य'आधे घंटे से पढ़ने की कोशिश कर रहा हूँ, आप कहना क्या चाहते हैं?'...

‘आधे घंटे से पढ़ने की कोशिश कर रहा हूँ, आप कहना क्या चाहते हैं?’ – आर्टिकल 370 पर CJI ने वकील को फटकारा

सुनवाई के दौरान एक वकील ने एमएल शर्मा पर जुर्माने की भी बात कही लेकिन सीजेआई ने कह दिया कि इन्हें पहले से ही चोट लगी है, इन पर क्या जुर्माना लगाएँ।

सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार (अगस्त 16, 2019) को अनुच्छेद 370 को रद्द करने की चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने याचिकाकर्ता को फटकार लगाई। सीजेआई ने इस दौरान याचिका में गलती होने पर याचिकाकर्ता एमएल शर्मा को दोबारा याचिका दायर करने को कहा और साथ ही बताया कि अब इस पर अगले हफ्ते सुनवाई होगी।

मीडिया खबरों की मानें तो उन्होंने एमएल शर्मा से सुनवाई के दौरान पूछा कि ये किस तरह की याचिका है? और इसमें क्या फाइल किया गया है? याचिका लें और दूसरी याचिका दाखिल करें।

उन्होंने एमएल शर्मा से कहा, “मैं आपकी याचिका आधे घंटे से पढ़ने की कोशिश कर रहा हूँ, लेकिन कुछ समझ नहीं पा रहा। आप क्या चाहते हैं? आपने क्या फाइल किया है, कुछ नहीं पता। हम आपकी याचिका तकनीकी आधार पर ही खारिज कर सकते हैं, लेकिन ऐसे मामलों में हम ये नहीं करना चाहते। क्योंकि इस तरह की 6 और भी याचिकाएँ हैं, उन पर भी इसका असर पड़ सकता है।”

इस सुनवाई के दौरान एक वकील ने एमएल शर्मा पर जुर्माने की भी बात कही लेकिन सीजेआई ने कह दिया कि इन्हें पहले से ही चोट लगी है, इन पर क्या जुर्माना लगाएँ।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने कश्मीर मामले पर आज दो याचिकाओं पर सुनवाई की। पहली याचिका में अनुच्छेद 370 हटाए जाने का विरोध किया गया। वहीं दूसरी याचिका में कश्मीर में पत्रकारों पर से सरकार का नियंत्रण हटाने की माँग की गई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना से अनाथ हुई लड़कियों के विवाह का खर्च उठाएगी योगी सरकार: शादी से 90 दिन पहले/बाद ऐसे करें आवेदन

योजना का लाभ पाने के लिए लड़कियाँ खुद या उनके माता/पिता या फिर अभिभावक ऑफलाइन आवेदन करेंगे। इसके साथ ही कुछ जरूरी दस्तावेज लगाने आवश्यक होंगे।

बंगाल की गद्दी किसे सौंपेंगी? गाँधी-पवार की राजनीति को साधने के लिए कौन सा खेला खेलेंगी सुश्री ममता बनर्जी?

ममता बनर्जी का यह दौरा पानी नापने की एक कोशिश से अधिक नहीं। इसका राजनीतिक परिणाम विपक्ष को एकजुट करेगा, इसे लेकर संदेह बना रहेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,780FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe