Tuesday, June 15, 2021
Home विविध विषय अन्य एक पागल, भारत के बारे में उसका पढ़ना... और Oxford का बनना: आखिर क्यों...

एक पागल, भारत के बारे में उसका पढ़ना… और Oxford का बनना: आखिर क्यों काट लिया था उसने अपना लिंग?

मानसिक रूप से विक्षिप्त, शरणार्थी सेल में बंद... लेकिन भारत में दूरी नापने के लिए गज शब्द का प्रयोग किया जाता है, इसकी पूरी जानकारी। डॉ. विलियम चेस्टर माइनर (पागल) के बिना हम-आप Oxford डिक्शनरी को शायद ही पढ़ पाते।

हर किताब को पढ़ते समय हर अनजान शब्द का अर्थ समझना बहुत जरूरी होता है। तभी किताब पढ़ने से हमें पूरा ज्ञान मिल पाता है। मान लीजिए ‘माँ’ शब्द है। यह तो हम अच्छी तरह जानते हैं कि माँ क्या होती है। अम्मा, मम्मी, मैया, माता लिखा है तो भी कोई मुश्किल नहीं होती।

ये शब्द हम बचपन से ही जानते हैं। लेकिन कहीं ‘जननी’ लिखा होगा तो हम में से शायद कुछ को उस के मायने पता नहीं होते। तब हम ‘जननी’ शब्द किसी कोश में खोजते हैं। वहाँ लिखा होता है- जन्म देने वाली, माँ, माता। इसे ही शब्दकोश कहा जाता है। जिसे अंग्रेजी में हम ‘डिक्शनरी’ कहते हैं।

डिक्शनरी में सबसे अधिक प्रचलित है- ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी (Oxford English Dictionary)। जब भी हम किसी शब्द में उलझते हैं तो इसकी सहायता लेते हैं और उस शब्द के बारे में सारी जानकारी हासिल करते हैं। डिक्शनरी में हर शब्द के बाद बताया जाता है कि वह शब्द संज्ञा है या सर्वनाम या क्रिया आदि।

इस जानकारी के बाद उस का अर्थ लिखा जाता है। शब्द का अर्थ समझाने के लिए उस की परिभाषा भी होती है। कई बार यह भी बताया जाता है कि वह शब्द कैसे बना। हमारी अपनी भाषा का शब्द है या किसी और भाषा से आया है।

ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी का पहला वॉल्यूम 1 फरवरी 1884 में पब्लिश हुआ था। ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी के पहले संस्करण को संकलित करने में लगभग 70 साल लग गए और उन वर्षों में दो लोगों में काफी समानता देखी गई। हालाँकि वो देखने में एक जैसे थे, लेकिन दोनों की जिंदगी एक-दूसरे से काफी अलग थी।

ये दो नाम हैं- सर जेम्स ऑगस्टस हेनरी मुरे (Sir James Augustus Henry Murray) और डॉ. विलियम चेस्टर माइनर (Dr. William Chester Minor)। ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी के इतिहास में इन दोनों की कहानी काफी दिलचस्प और रोचक है। ऑक्सफोर्ड का इतिहास इनकी स्कॉलरशिप, हिंसा, पागलपन, गरीबी और शब्दों के लिए समर्पण की दमदार कहानी को दर्शाता है।

ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी (OED) में जिस तरह से शब्द के हर रुप को सुसज्जित और व्यवस्थित किया गया है, उसे देखकर क्या कोई यह सोच भी सकता है कि इसे तैयार करने में एक पागल व्यक्ति का अहम योगदान हो सकता है! भले ही सर जेम्स ऑगस्टस हेनरी मुरे ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी के लेखक हैं, लेकिन इसके सबसे उल्लेखनीय और शानदार योगदानकर्ता थे- डॉ. विलियम चेस्टर माइनर नामक एक अमेरिकी सर्जन। उन्होंने ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी को 10,000 से ज्यादा शब्द दिए।

डॉ. विलियम चेस्टर माइनर

अमेरिकी गृह युद्ध में लड़ने वाले माइनर सेना में सर्जन थे। लेकिन सेना में रहने के दौरान उन्हें एक आयरिश सैनिक के चेहरे पर ‘Deserter’ के लिए ‘D’ अक्षर आग में गर्म करके दागना था। इस घटना ने उन्हें काफी प्रभावित किया। उन्होंने इससे उबरने के लिए युद्ध खत्म होने के बाद लंदन का रुख किया, लेकिन वहाँ उनकी किस्मत ने उन्हें पागलखाने पहुँचा दिया। दरअसल यहाँ पर उन्होंने राह चलते एक राहगीर पर गोली चला दी थी। जिसके बाद कोर्ट ने मानसिक रुप से विक्षिप्त होने के कारण उन्हें सजा न देकर पागलखाने में रखने का आदेश दिया।

अपने स्टाफ के साथ सर जेम्स ऑगस्टस हेनरी मुरे

यहीं पर माइनर को मुरे द्वारा दिए गए विज्ञापन के बारे में पता चला। इसके बाद उन्होंने किताबें मँगवाई और हजारों शब्दों का पूर्ण विवरण लिख कर मुरे को भेजने लगे। हर किताब पढ़ने के बाद उनके दिमाग में एक कोटेशन आता था। जिसे माइनर ने पर्ची पर नोट कर वर्णमाला के क्रम (Alphabetical Order) में व्यवस्थित किया। इस तरह की पर्ची माइनर 20 साल तक हर हफ्ते जेम्स मुरे को भेजते रहे।

सर जेम्स ऑगस्टस हेनरी मुरे की फैमिली

इस बीच मुरे को इसका तनिक भी भान नहीं था कि माइनर मानसिक रुप से विक्षिप्त हैं और शरणार्थी सेल में हैं। जब मुरे 1891 में माइनर से उनके शरणार्थी सेल में मिले तो उन्हें एहसास हुआ कि माइनर के योगदान के बिना, ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी को अपने रोस्टर से गायब हुए शब्द-उत्पत्ति के चार शताब्दियों से अधिक का समय हो चुका होता।

माइनर ने जो शब्द दिए, उसमें से अधिकतर शब्द उनके पढ़ने की सनकपन की वजह से आया। राजनीतिक दर्शन की किताबों से उन्होंने ‘countenance’ जैसे शब्दों की व्युत्पत्ति की, जिसका आज हम धड़ल्ले से इस्तेमाल करते हैं। यात्रा साहित्य को पढ़ने से, विशेष रूप से भारत के बारे में पढ़ने पर उन्होंने ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी को ‘guz’ (गज) जैसा शब्द दिया, जो मूल रूप से भारत में लंबाई का एक मापक ईकाई है।

माइनर के अच्छे आचरण के बावजूद, अधिकारियों ने माइनर को ब्रॉडमूर से बाहर जाने से मना कर दिया। 1800 के दशक के दौरान जेम्स मुरे ने सरकार को दर्जनों पत्र भेजे और व्यक्तिगत रूप से कानून के प्रमुख अधिकारियों को माइनर को जाने देने के लिए याचिका दी।

1900 की शुरुआत में, माइनर की हालत खराब हो गई। उन्हें बुरे सपने आने लगे। उन्हें पुराने दृश्य याद आने लगे, जिसने उन्हें विचलित कर दिया। उन्हें खुद से घृणा होने लगी और फिर उन्होंने अपना लिंग काट कर खुद को घायल कर लिया। 1910 में मुरे की याचिकाएँ सफल हुईं, जब विंस्टन चर्चिल नाम का एक युवा गृह सचिव के पास पहुँचा। इसके बाद माइनर को वहाँ से जाने दिया गया और 1922 में उनके घर पर उनकी मृत्यु हो गई।

ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी के पीछे की यह दिलचस्प कहानी ब्रिटिश लेखक सिमॉन विनचेस्टर (Simon Winchester) की किताब The Surgeon of Crowthorne: A Tale of Murder, Madness and the Love of Words में प्रकाशित हुई। यह गैर-फिक्शन हिस्ट्री बुक पहली बार इंग्लैंड में 1998 में प्रकाशित हुआ। इसके बाद संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में The Professor and the Madman: A Tale of Murder, Insanity, and the Making of the Oxford English Dictionary टाइटल से पब्लिश हुई। 

जब हम ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी के पन्नों को पलटते हैं, जो कि हमारे घरों में और इंटरनेट पर अब आम है, तो इतिहास के उन विभिन्न धागों पर ध्यान देना असंभव सा होता है, जो एक साथ बँधे हुए प्रतीत होते हैं। और इन्हीं पन्नों के बीच में कहीं अभी भी इन दो उल्लेखनीय पुरुषों, एक प्रोफेसर और एक पागल व्यक्ति की गूँज बसती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र द्वारा किए गए जमीन के सौदे की पूरी सच्चाई, AAP के खोखले दावों की पूरी पड़ताल

अंसारी को जमीन का मालिकाना मिलने के बाद मंदिर ट्रस्ट और अंसारी के बीच बिक्री समझौता हुआ। अंसारी ने जमीन को 18.5 करोड़ रुपए में ट्रस्ट को बेचने की सहमति जताई।

2030 तक 2.6 करोड़ एकड़ बंजर जमीन का होगा कायाकल्प, 10 साल में बढ़ा 30 लाख हेक्टेयर वन क्षेत्र: UN वर्चुअल संवाद में PM...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में मरुस्थलीकरण, भूमि क्षरण और सूखे पर उच्च स्तरीय वर्चुअल कार्यक्रम को संबोधित किया।

ट्रस्ट द्वारा जमीन के सौदे में घोटाले का आरोप एक सुनियोजित दुष्प्रचार, समाज में उत्पन्न हुई भ्रम की स्थिति: चंपत राय

पारदर्शिता के विषय में चंपत राय ने कहा कि तीर्थ क्षेत्र का प्रथम दिवस से ही निर्णय रहा है कि सभी भुगतान बैंक से सीधे खाते में ही किए जाएँगे, सम्बन्धित भूमि की क्रय प्रक्रिया में भी इसी निर्णय का पालन हुआ है।

श्रीराम मंदिर के लिए सदियों तक मुगलों से सैकड़ों लड़ाई लड़े तो कॉन्ग्रेस-लेफ्ट-आप इकोसिस्टम से एक और सही

जो कुछ भी शुरू किया गया है वह हवन कुंड में हड्डी डालने जैसा है पर सदियों से लड़ी गई सैकड़ों लड़ाई के साथ एक लड़ाई और सही।

महाराष्ट्र में अब अकेले ही चुनाव लड़ेगी कॉन्ग्रेस, नाना पटोले ने सीएम उम्मीदवार बनने की जताई इच्छा

पटोले ने अमरावती में कहा, ''2024 के चुनाव में कॉन्ग्रेस महाराष्ट्र में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी। केवल कॉन्ग्रेस की विचारधारा ही देश को बचा सकती है।''

चीन की वुहान लैब में जिंदा चमगादड़ों को पिंजरे के अंदर कैद करके रखा जाता था: वीडियो से हुआ बड़ा खुलासा

वीडियो ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के उस दावे को भी खारिज किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि चमगादड़ों को लैब में रखना और कोरोना के वुहान लैब से पैदा होने की बात करना महज एक 'साजिश' है।

प्रचलित ख़बरें

राम मंदिर में अड़ंगा डालने में लगी AAP, ट्रस्ट को बदनाम करने की कोशिश: जानिए, ‘जमीन घोटाले’ की हकीकत

राम मंदिर जजमेंट और योगी सरकार द्वारा कई विकास परियोजनाओं की घोषणाओं के कारण 2 साल में अयोध्या में जमीन के दाम बढ़े हैं। जानिए क्यों निराधार हैं संजय सिंह के आरोप।

‘हिंदुओं को 1 सेकेंड के लिए भी खुश नहीं देख सकता’: वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप से पहले घृणा की बैटिंग

भारत के पूर्व तेज़ गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने कहा कि जीते कोई भी, लेकिन ये ट्वीट ये बताता है कि इस व्यक्ति की सोच कितनी तुच्छ और घृणास्पद है।

सिख विधवा के पति का दोस्त था महफूज, सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण करा किया निकाह; दो बेटों का भी करा दिया खतना

रामपुर जिले के बेरुआ गाँव के महफूज ने एक सिख महिला की पति की मौत के बाद सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण कर उसके साथ निकाह कर लिया।

केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस में फिर होने वाली थी पिटाई? लोगों से पहले ही उतरवा लिए गए जूते-चप्पल: रिपोर्ट

केजरीवाल पर हमले की घटनाएँ कोई नई बात नहीं है और उन्हें थप्पड़ मारने के अलावा स्याही, मिर्ची पाउडर और जूते-चप्पल फेंकने की घटनाएँ भी सामने आ चुकी हैं।

6 साल के पोते के सामने 60 साल की दादी को चारपाई से बाँधा, TMC के गुंडों ने किया रेप: बंगाल हिंसा की पीड़िताओं...

बंगाल हिंसा की गैंगरेप पीड़िताओं ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। बताया है कि किस तरह टीएमसी के गुंडों ने उन्हें प्रताड़ित किया।

इब्राहिम ने पड़ोसी गंगाधर की गाय चुराकर काट डाला, मांस बाजार में बेचा: CCTV फुटेज से हुआ खुलासा

इब्राहिम की गाय को जबरदस्ती घसीटने की घिनौनी हरकत सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। गाय के मालिक ने मालपे पुलिस स्टेशन में आरोपित के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
103,898FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe