Thursday, December 3, 2020
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति जय श्री राम, हुह... जिस पत्रकार ने ऐसा कहा, वो एक नंबर का धूर्त...

जय श्री राम, हुह… जिस पत्रकार ने ऐसा कहा, वो एक नंबर का धूर्त है, बंगालियों के नाम पर कलंक है

अगर बंगाल में श्रीराम की पूजा नहीं होती, लोग उन्हें नहीं मानते, तो प्रीतिश नंदी क्या बता सकते हैं कि वहाँ 'जय श्री राम' के नारे लगाने वाले क्या अयोध्या से आ रहे हैं? अगर इन छद्म बुद्धिजीवियों ने जरा भी भारत का इतिहास पढ़ा होता, तो शायद ये ऐसा नहीं कहते।

प्रीतिश नंदी ने ‘जय श्री राम’ से आपत्ति जताई है। उनका कहना है कि ये ‘जय श्री राम वाले’ माँ सरस्वती से अनजान हैं। उन्होंने दावा किया कि वे और अन्य बंगाली नागरिक माँ सरस्वती की पूजा करते हैं। उन्होंने कहा कि सरसवती विद्या, ज्ञान और बुद्धि की देवी है। उन्होंने कहा कि ‘वे लोग’ महिलाओं की इज़्ज़त करते हैं। उन्होंने कहा कि इसी कारण बंगाली लोग दुर्गा और काली, दोनों की ही पूजा करते हैं। इसके बाद उन्होंने ‘जय श्री राम’ पर तंज कसते हुए लिखा, “जय श्री राम, हुह“। प्रीतिश नंदी के दावे सही हैं, सरस्वती की पूजा बंगाल में होती है, माँ काली एवं दुर्गा की पूजा बंगाल में होती है, बंगाली महिलाओं की इज़्ज़त करते हैं, लेकिन पेंच कहाँ है, ये हम आपको बताते हैं। दरअसल, उन्होंने जिन देवी-देवताओं का नाम लिया, उनकी पूजा किसी न किसी रूप में हर उस जगह होती है, जहाँ हिन्दू समाज रहता है।

दुर्गा पूजा के दौरान आप बिहार की किसी भी गली में चले जाइए, लोगों में जोश और उत्साव वहाँ किसी बंगाली की तरह ही रहता है। ठीक ऐसे ही, माँ सरस्वती की पूजा केरल एवं तमिलनाडु में भी होती है, जो पश्चिम बंगाल से काफ़ी दूर है। वहाँ नवरात्रि के अंतिम तीन दिन माँ सरस्वती की पूजा की जाती है। माँ कालरात्रि की पूजा नवरात्र के दौरान पूरे भारत में की जाती है। क्या केरल, तमिलनाडु और बिहार के लोग महिलाओं की इज़्ज़त नहीं करते हैं? दरअसल, भारत में कन्या पूजन और देवियों की पूजा लम्बे समय से होती आ रही है। हाँ, बंगाल के दुर्गा पूजा में भव्यता, उत्साह और जोश सबसे ज्यादा होता है, लेकिन यही तो भारत की विशालता की ख़ासियत है। बिहार में छठ के दौरान कुछ ऐसा ही उत्साह होता है, केरल में ओणम के दौरान, महाराष्ट्र में गणेश चतुर्थी के दौरान और तमिलनाडु में पोंगल के दौरान कुछ ऐसी ही भव्यता होती है।

प्रीतिश नंदी अंग्रेजों की उसी ‘फूट डालो’ नीति को आगे बढ़ा रहे हैं, जिस पर चलते हुए कॉन्ग्रेस ने लिंगायत समुदाय को हिन्दू धर्म से अलग देखते हुए उसे एक अलग धर्म बनाने की कोशिश की थी। धर्मों में लड़ाने, जातियों में लड़ाने और सम्प्रदायों में लड़ाने के बाद अब ये गिरोह विशेष अलग-अलग देवी-देवताओं के भक्तों और क्षेत्रीय परम्पराओं के आधार पर लड़ाने पर उतारू है। अगर बंगाल में श्रीराम की पूजा नहीं होती, लोग उन्हें नहीं मानते, तो प्रीतिश नंदी क्या बता सकते हैं कि वहाँ ‘जय श्री राम’ के नारे लगाने वाले क्या अयोध्या से आ रहे हैं? अगर इन छद्म बुद्धिजीवियों ने जरा भी भारत का इतिहास पढ़ा होता, तो शायद ये ऐसा नहीं कहते। नंदी ने ऐसी ही ग़लती की है, जैसी जावेद अख़्तर ने घूँघट और बुर्क़े की तुलना कर के की थी। इन्हें ऐतिहासिक तथ्यों से जवाब देना आवश्यक है।

पश्चिम बंगाल में श्रीराम के प्रभाव को नकारने वाले और ‘जैस श्री राम’ के नारे से चिढ़ने वाले प्रीतिश नंदी से बस एक सवाल पूछा जाना चाहिए और वह ये है कि कृत्तिवासी रामायण क्या है? प्रीतिश को या तो नहीं पता या वो सब जानते हुए भी लोगों को बेवकूफ बनाना चाहते हैं। हमारा कार्य है उन चीजों को सामने लाना, जो ये छद्म बुद्धिजीवी नहीं चाहते कि आप जान पाएँ। हमारा कार्य है उस तथ्य को सामने रखना, जिसे ये वामपंथी छिपा लिया करते हैं, दबा दिया करते हैं और इसके उलट एक अलग नैरेटिव बनाते हैं। दरअसल, कृत्तिवासी रामायण भगवान श्रीराम की गाथा है, बंगाली भाषा में, और वाल्मीकि रामायण का बंगाली रूपांतरण है। कृत्तिवासी रामायण में भगवान श्रीराम द्वारा रावण वध से पहले दुर्गा पूजा करने की कहानी भी है और बंगाल में दुर्गा पूजा की लोकप्रियता बढ़ने में इसका भी योगदान है।

आज जो रामचरितमानस हिंदी बेल्ट में लोकप्रिय है, जिस पुस्तक ने रामायण को उत्तर भारत के घर-घर तक पहुँचाया, उस रामचरितमानस के लेखक भी उसी धरा से प्रभावित थे, जो कृत्तिवासी रामायण के लेखक कृत्तिवासी ओझा ने शुरू की थी। तुलसीदास का रामचरितमानस कृत्तिवासी रामायण के बाद लिखा गया और तुलसीदास उससे प्रभावित भी थे। न सिर्फ़ तुलसीदास, बल्कि रविंद्रनाथ टैगोर जैसे महान लेखक भी कृत्तिवासी रामायण में भगवान श्रीराम के चित्रण से प्रभावित थे। बंगाल में दुर्गा पूजा को लोकप्रिय बनाने का श्रेय अगर जिसको जाता है, तो वह हैं- कृत्तिवासी ओझा। वही कृत्तिवासी ओझा, जिन्होंने रामायण का बंगाली रूपांतरण लिखा। प्रीतिश नंदी किसे ठगने की कोशिश कर रहे हैं? किसे बेवकूफ बना रहे हैं वह? जब एक बंगाली रामायण लिख सकता है, रामायण में ‘दुर्गा पूजा’ की चर्चा कर इसे घर-घर में लोकप्रिय बना सकता है, तो बंगाल में ‘जै श्री राम’ के नारे से किसी को भी आपत्ति क्यों?

माँ दुर्गा और भगवान श्रीराम के भक्तों को अलग-अलग देखते हुए क्षेत्र और श्रद्धा के नाम पर उन्हें लड़ने की कोशिश में लगे नंदी क्या यह नहीं जानते कि बंगाली रामायण के लेखक ने दुर्गा पूजा को बंगाल के घर-घर तक पहुँचाया। जब ख़ुद भगवान श्रीराम माँ दुर्गा के उपासक हैं, उन्होंने दुर्गा पूजा की थी, तो क्या रामभक्त देवी दुर्गा की पूजा नहीं कर सकते? या फिर माँ दुर्गा को मानने वाले भगवान श्रीराम के भक्त नहीं हो सकते? मिथिलांचल में दुर्गा पूजा के दौरान रामायण और दुर्गा सप्तशती साथ-साथ पढ़ी जाती है। रामनवमी के दौरान माँ सीता को जगतजननी दुर्गा का अवतार मानकर पूजा की जाती है। ख़ुद तुलसीदास ने रामचरितमानस में माँ पार्वती के जन्म की कहानी कहते हुए उन्हें जगदम्बा कहा है।

हिन्दू धर्म को तोड़ने-मरोड़ने के प्रयास में लगे प्रीतिश नंदी को जानना चाहिए कि कृत्तिबास ओझा के ‘श्री राम पंचाली’ ने बंगाल में दुर्गा पूजा को मशहूर कर जन-जन तक पहुँचा दिया। इसमें पहली बार शक्तिपूजा के बारे में लिखा था। ‘श्री राम पंचाली’ में राम द्वारा रावण को हराने के लिए शक्ति पूजा करने का जिक्र है। इसमें इस बात का जिक्र है कि जब राम को लगा कि रावण से युद्ध करना कठिन है तो जामवंत ने उनकी चिंता को देखकर उन्हें शक्ति की पूजा करने को कहा। इसके बाद भगवान श्रीराम ने दुर्गा पूजा किया। प्रीतिश नंदी को शायद यह पता ही नहीं। आख़िर हो भी कैसे, इन्हें माँ दुर्गा तभी याद आती है जब भगवान श्रीराम का अपमान करना होता है। इन्हें रामायण और महाभारत तभी यात आता है जब इन्हें हिन्दुओं को हिंसक साबित करना होता है। वामपंथियों ने नया कुटिल तरीका आज़माने की असफल कोशिश की है।

प्रीतिश नंदी, सीताराम येचुरी और जावेद अख़्तर जैसे लोग अगर रामायण-महाभारत, माँ दुर्गा और घूँघट की बात कर रहे हैं तो इन्हें शक की नज़रों से देखा जाना चाहिए। क्योंकि, ये लोग कभी भी इन चीजों में विश्वास नहीं रखते। ये इन चीजों के गुण तभी गाते हैं, जब हिन्दुओं को भड़काना हो, अलग-अलग करना हो और नीचा दिखाना हो। प्रीतिश नंदी से निवेदन है कि कृत्तिवास ओझा को पढ़ें, ‘श्रीराम पांचाली’ को पढ़ें, टैगोर को पढ़ें। तब उन्हें पता चलेगा कि बंगाल और रामायण का वही कनेक्शन है, जो उस क्षेत्र का माँ दुर्गा से है। यहाँ बात क्षेत्रीयता की नहीं है, बात पूरे हिन्दू समाज की है, भारतीय इतिहास की है, श्रीराम और माँ दुर्गा के भक्तों को अलग-अलग कर के देखने वालों की साज़िश के पर्दाफाश करने की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कैसा दिखता है वैज्ञानिक कृषि वाला खेत: अजीत भारती का वीडियो | Raj Narayan’s farm and training centre, Keshabe

इस दौरान हमने जानने की कोशिश की कि ये किस तरह से कृषि, गौपालन आदि करते हैं और इसे समाज में भी ले जाने की कोशिश करते हैं।

चिंतित मत होइए, यहाँ से कुछ ले नहीं जा रहे, नया फिल्म सिटी बना रहे हैं: CM योगी का संजय राउत को करारा जवाब

सीएम योगी ने कहा कि मुंबई फिल्म उद्योग वहीं बना रहेगा और एक नई फिल्म सिटी को उत्तर प्रदेश में नए परिवेश में नई आवश्यकताओं के अनुसार विकसित किया जाएगा।

‘अब्बा कहीं जाते थे तो मैं बीमार हो जाती थी’ से ‘अब्बा घरेलू हिंसा करते हैं’: शेहला रशीद की आपबीती

शेहला का एक पुराने ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है। इसमें शेहला ने लिखा है कि बचपन में जब कभी उनके अब्बा कहीं बाहर जाते थे तो वह बीमार हो जाती थी।

‘अवार्ड वापसी’ की घरवापसी: किसानों के प्रदर्शन के बीच पंजाब के पूर्व खिलाड़ियों ने पुरस्कार लौटने की दी धमकी

पद्म श्री और अर्जुन अवार्डी पहलवान करतार सिंह, अर्जुन अवार्डी बास्केटबॉल खिलाड़ी सज्जन सिंह चीमा और अर्जुन अवार्डी हॉकी खिलाड़ी राजबीर कौर उन लोगों में से हैं जो अपने पुरस्कार वापस करना चाहते हैं।

‘किसी भी केंद्रीय मंत्री को महाराष्ट्र में घुसने नहीं देंगे’: उद्धव के पार्टनर ने दी धमकी, ‘किसान आंदोलन’ का किया समर्थन

उन्होंने आरोप लगाया कि सुधार के नाम पर केंद्र कॉर्पोरेट और बड़े औद्योगिक संस्थानों को शक्तियाँ देना चाहती है।

‘बॉलीवुड को कहीं और ले जाना आसान नहीं’: मुंबई पहुँचे CM योगी अक्षय से मिले, महाराष्ट्र की तीनों सत्ताधारी पार्टियों ने किया विरोध

योगी आदित्यनाथ इसी सिलसिले में मुंबई भी पहुँचे हुए हैं, इसीलिए शिवसेना और ज्यादा चिढ़ी हुई है। वहाँ अभिनेता अक्षय कुमार ने उनसे मुलाकात की।

प्रचलित ख़बरें

‘गुजराती कसम खा कर पलट जाते हैं, औरंगजेब की तरह BJP नेताओं की कब्रों पर थूकेंगे लोग’: क्रिकेटर युवराज सिंह के पिता की धमकी

जब उनसे पूछा गया कि इस 'किसान आंदोलन' में इंदिरा गाँधी की हत्या को याद कराते हुए पीएम मोदी को भी धमकी दी गई है, तो उन्होंने कहा कि जिसने जो बोया है, वो वही काटेगा।

‘दिल्ली और जालंधर किसके साथ गई थी?’ – सवाल सुनते ही लाइव शो से भागी शेहला रशीद, कहा – ‘मेरा अब्बा लालची है’

'ABP न्यूज़' पर शेहला रशीद अपने पिता अब्दुल शोरा के आरोपों पर सफाई देने आईं, लेकिन कठिन सवालों का जवाब देने के बजाए फोन रख कर भाग खड़ी हुईं।

‘हिंदू लड़की को गर्भवती करने से 10 बार मदीना जाने का सवाब मिलता है’: कुणाल बन ताहिर ने की शादी, फिर लात मार गर्भ...

“मुझे तुमसे शादी नहीं करनी थी। मेरा मजहब लव जिहाद में विश्वास रखता है, शादी में नहीं। एक हिंदू को गर्भवती करने से हमें दस बार मदीना शरीफ जाने का सवाब मिलता है।”

‘जो ट्विटर पर आलोचना करेंगे, उन सब पर कार्रवाई करोगे?’ बॉम्बे हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर दागा सवाल

बॉम्बे हाई कोर्ट ने ट्विटर यूजर सुनैना होली की गिरफ़्तारी के मामले में सुनवाई करते हुए महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार से कड़े सवाल पूछे हैं।

दुर्घटना में घायल पिता के लिए ‘नजदीकी’ अखिलेश यादव से मदद की गुहार… लेकिन आगे आई योगी सरकार

उत्तर प्रदेश में दुर्घटनाग्रस्त एक व्यक्ति की बेटी ने मदद के लिए गुहार तो लगाई अखिलेश यादव से, लेकिन मदद के लिए योगी सरकार आगे आई।

‘शिहाब ने मेरे शौहर को मुझसे दूर किया, अश्लील संदेश भेजे, जान से मारने की धमकी दी’: कर्नाटक में असिया बनी शांति की पीड़ा

आसिया का कहना है कि उसके पति को कहीं छुपा दिया गया है और उसका मोबाइल बंद कर दिया गया है। जब वह अपने पति के परिवार के घर गई, तो उसे शिहाब ने हत्या की धमकी दी थी।

गौभक्त और आर्य समाजी धर्मपाल गुलाटी का निधन: विभाजन के बाद तांगा चलाने को मजबूर, मेहनत से खड़ा किया MDH

मसालों की कंपनी महाशय दी हट्टी (MDH) के मालिक धर्मपाल गुलाटी का निधन हो गया है। धर्मपाल गुलाटी 98 वर्ष के थे। पद्म भूषण से सम्मानित...
00:30:45

कैसा दिखता है वैज्ञानिक कृषि वाला खेत: अजीत भारती का वीडियो | Raj Narayan’s farm and training centre, Keshabe

इस दौरान हमने जानने की कोशिश की कि ये किस तरह से कृषि, गौपालन आदि करते हैं और इसे समाज में भी ले जाने की कोशिश करते हैं।

चिंतित मत होइए, यहाँ से कुछ ले नहीं जा रहे, नया फिल्म सिटी बना रहे हैं: CM योगी का संजय राउत को करारा जवाब

सीएम योगी ने कहा कि मुंबई फिल्म उद्योग वहीं बना रहेगा और एक नई फिल्म सिटी को उत्तर प्रदेश में नए परिवेश में नई आवश्यकताओं के अनुसार विकसित किया जाएगा।

NGT ने क्रिसमस और न्यू ईयर पर दी पटाखे चलाने की छूट, दिवाली में लागू था पूर्ण प्रतिबंध

एनजीटी ने कहा है कि क्रिसमस और न्यू ईयर के मद्देनजर देश के उन इलाकों में जहाँ एयर क्वालिटी मॉडरेट स्तर पर है, वहाँ पटाखे रात को 11:55 बजे से 12.30 तक यानी 35 मिनट के लिए चलाने की अनुमित होगी।

बब्बू और छब्बू मियाँ: दर्जी और पेंटर भाई कैसे बन गए भूमाफिया?

खजराना थाना क्षेत्र में बब्बू और छब्बू ने अवैध रूप से तीन आलीशान मकान बना लिया था। जिसको नगर निगम और पुलिस ने पहले नोटिस जारी करके खाली करवाया। फिर जेसीबी और पोकलेन की मदद से जमीदोंज कर दिया।

‘अब्बा कहीं जाते थे तो मैं बीमार हो जाती थी’ से ‘अब्बा घरेलू हिंसा करते हैं’: शेहला रशीद की आपबीती

शेहला का एक पुराने ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है। इसमें शेहला ने लिखा है कि बचपन में जब कभी उनके अब्बा कहीं बाहर जाते थे तो वह बीमार हो जाती थी।

‘अवार्ड वापसी’ की घरवापसी: किसानों के प्रदर्शन के बीच पंजाब के पूर्व खिलाड़ियों ने पुरस्कार लौटने की दी धमकी

पद्म श्री और अर्जुन अवार्डी पहलवान करतार सिंह, अर्जुन अवार्डी बास्केटबॉल खिलाड़ी सज्जन सिंह चीमा और अर्जुन अवार्डी हॉकी खिलाड़ी राजबीर कौर उन लोगों में से हैं जो अपने पुरस्कार वापस करना चाहते हैं।

‘जो इस्लाम में प्रतिबंधित, जिन्ना ने वह सब कुछ किया’: उनके नाम पर बनी शराब की बोतल गिन्ना वायरल, लोगों ने जमकर लिए मजे

लेबल पर लिखा गया है कि एमए जिन्ना को कभी भी यह मंजूर नहीं होगा जबकि उन्होंने पूल बिलियर्ड्स, सिगार, पोर्क सॉसेज के साथ-साथ बढ़िया स्कॉच व्हिस्की और शराब का आनंद लिया।

‘शिहाब ने मेरे शौहर को मुझसे दूर किया, अश्लील संदेश भेजे, जान से मारने की धमकी दी’: कर्नाटक में असिया बनी शांति की पीड़ा

आसिया का कहना है कि उसके पति को कहीं छुपा दिया गया है और उसका मोबाइल बंद कर दिया गया है। जब वह अपने पति के परिवार के घर गई, तो उसे शिहाब ने हत्या की धमकी दी थी।

सड़क से अतिक्रमण हटाने को कहा तो कॉन्ग्रेस नेता के भाई अब्बास सिद्दीकी ने पुलिसकर्मी से की मारपीट, गिरफ्तार

स्थानीय लोगों का कहना है कि अब्बास और उसके साथी सड़क पर कुर्सी लगाकर बैठे हुए थे, जिसे हटाने की बात को लेकर व्यापारियों ने पुलिसकर्मी के साथ अभद्रता और मारपीट की।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,510FollowersFollow
359,000SubscribersSubscribe