Saturday, October 16, 2021
Homeदेश-समाजमाँस के साथ लपेट कर विस्फोटक खिलाया, मुँह फटने से सियार की मौत: तमिलनाडु...

माँस के साथ लपेट कर विस्फोटक खिलाया, मुँह फटने से सियार की मौत: तमिलनाडु से 12 गिरफ्तार

आरोपित लोग एक गाँव में शहद इकट्ठा करने गए थे। वहाँ उन्हें एक सियार घूमता मिला। उसके माँस और दाँतों के लिए इन लोगों ने उसका शिकार किया। पहले इन लोगों ने माँस के टुकड़ों के अंदर विस्फोटक भरकर कई स्थानों पर रख दिया। जब सियार वहाँ आया और उसने...

केरल में हथिनी के साथ हुई क्रूरता उजागर होने के बाद अब चेन्नई के त्रिची जिले में कुछ लोगों ने सियार के साथ दरिंदगी दिखाई है। इस मामले में पुलिस ने 12 बंजारों को गिरफ्तार किया। इन पर आरोप है कि इन्होंने सियार को माँस के साथ विस्फोटक खिलाया, जिससे सियार का मुँह फट गया और उसकी मौत हो गई।

यहाँ बता दें कि 1972 के वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट के मुताबिक सियार एक संरक्षित जानवर है। लेकिन, बावजूद इसके त्रिची में सियार के साथ लोगों ने ये दरिंदगी दिखाई। पुलिस ने इस संबंध में कहा कि दोषियों के ख़िलाफ़ सख्त से सख्त एक्शन लिया जाएगा।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, तिरुचिरापल्ली से वन विभाग के एक अधिकारी ने उन्हें फोन पर बताया कि आरोपित लोग एक गाँव में शहद इकट्ठा करने गए थे। वहाँ उन्हें एक सियार घूमता मिला। उसके माँस और दाँतों के लिए इन लोगों ने उसका शिकार किया। पहले इन लोगों ने माँस के टुकड़ों के अंदर विस्फोटक भरकर कई स्थानों पर रख दिया। जब सियार वहाँ आया और उसने उसे खाना समझकर खाया तो वह विस्फोटक उसके मुँह में फट गया। इसके बाद उन्होंने सियार को अपने बैग में रख लिया।

सुबह एक चाय के ठिए पर जियाराम पुलिस स्टेशन के एक कॉन्स्टेबल ने उनसे इस संबंध में पूछताछ की और उनके बैग की जाँच की। कॉन्स्टेबल ने देखा कि उनके बैग में सियार मरा पड़ा हुआ था।

अधिकारी के अनुसार, बंजारों ने जिस बम का इस्तेमाल सियार को मारने के लिए किया, वे बम ‘प्याज बम’ जैसे होते हैं, जिन्हें दीवाली पर चलाया जाता है। इनमें विस्फोटक भरा होता है और जैसे ही इन पर दबाव पड़ता है तो यह फट जाते हैं। इसलिए जब जानवर माँस को काटता है तो विस्फोट होने से उसका जबड़ा फट जाता है।

पुलिस ने फिलहाल सभी गिरफ्तार आरोपितों को त्रिची के वन विभाग को सौंप दिया है। आरोपितों की पहचान रामराज (21), श्रवण (25), येसुदास (34), सार्थ कुमार (28), देवदास (41), पंडिया (31), विजयकुमार (38), सत्यमूर्ति (36), सार्थ कुमार (26), राजामणिक्कम (70), राजू (45) और पतमपिल्लई (78) के रूप में हुई है।

पुलिस का कहना है कि वह इस पूरे मामले में गंभीरता से जाँच कर रहे हैं। दोषियों को किसी हाल में बख्शा नहीं जाएगा।

उल्लेखनीय है कि इस घटना से पहले आँध्र प्रदेश में कुतिया को पीटते एक युवक की वीडियो की सामने आई थी। उससे पहले असम में तेंदुए के साथ भी लोगों ने बर्बरता दिखाई थी। वहीं हिमाचल प्रदेश में गाय के साथ और केरल में गर्भवती हथिनी के साथ ऐसी ही अमानवीय हरकतों की खबरें सामने आई थीं। जहाँ इस सियार की तरह गाय और हथिनी को भी विस्फोटक खिला दिया गया,जिससे उनका पूरा जबड़ा फट गया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दलित युवक लखबीर सिंह की हत्या के बाद संयुक्त किसान मोर्चा के बचाव में कूदा India Today, ‘सोर्स’ के नाम पर नया ‘भ्रमजाल’

SKM के नेता प्रदर्शन स्थल पर हुए दलित युवक की हत्या से खुद को अलग कर रहे हैं। इस बीच इंडिया टुडे ग्रुप अब उनके बचाव में सामने आया है। .

कुंडली बॉर्डर पर लखबीर की हत्या के मामले में निहंग सरबजीत को हरियाणा पुलिस ने किया गिरफ्तार, लगे ‘जो बोले सो निहाल’ के नारे

निहंग सिख सरबजीत की गिरफ्तारी की वीडियो सामने आई है। इसमें आसपास मौजूद लोग तेज तेज 'जो बोले सो निहाल' के नारे बुलंद कर रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
128,835FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe