Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजस्कूल के प्रोग्राम में बनना था भगत सिंह, घर में फाँसी का रिहर्सल करते...

स्कूल के प्रोग्राम में बनना था भगत सिंह, घर में फाँसी का रिहर्सल करते समय 12 साल के छात्र की मौत: कर्नाटक का मामला

मृत बच्चे का नाम संजय गौड़ा है। वह सातवीं कक्षा में पढ़ता था। वह अपने घर में भगत सिंह की फाँसी की रिहर्सल कर रहा था। रिहर्सल के दौरान फंदा गले में फँसने से उसकी मौत हो गई।

कर्नाटक (Karnataka) के चित्रदुर्ग जिले में भगत सिंह की फाँसी की रिहर्सल करते हुए एक 12 साल के बच्चे की मौत हो गई। यह घटना शनिवार (29 अक्टूबर 2022) शाम की है। 1 नवंबर 2022 को कन्नड़ राज्योत्सव के मौके पर बच्चे के स्कूल में प्रोग्राम होने वाला था। इस प्रोग्राम में मृत बच्चे को भगत सिंह बनना था।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मृत बच्चे का नाम संजय गौड़ा है। वह सातवीं कक्षा में पढ़ता था। शनिवार को वह अपने घर में भगत सिंह की फाँसी की रिहर्सल कर रहा था। जैसे ही बच्चे ने रिहर्सल के दौरान फाँसी लगाई, फंदा उसके गले में फँस गया और उसकी मौत हो गई। बताया जा रहा है कि घटना के वक्त संजय गौड़ा घर पर अकेला था। उसके माता-पिता नागराज और भाग्यलक्ष्मी अपने होटल में गए हुए थे।

बडावने पुलिस स्टेशन के सब-इंस्पेक्टर केआर गीताम्मा ने टीओआई को बताया कि इस घटना के बारे में तब पता चला जब बच्चे की माँ रात करीब 9 बजे होटल से लौटी। उसने दरवाजा खटखटाया, लेकिन अंदर से कोई नहीं आया। जब उसके पड़ोसियों ने खिड़की से अंदर देखा तो लड़के को पंखे से लटका पाया। लड़के की माँ ने तुरंत अपने पति नागराज को फोन किया, उन्होंने मास्टर चाबी से दरवाजा खोला। इसके बाद वे संजय को नजदीकी अस्पताल ले गए, जहाँ डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने बताया कि रिहर्सल करने के लिए लड़के ने अपने कमरे में पंखे से एक फाँसी का फंदा बनाया था। रिहर्सल के दौरान वह अपने सिर को हुडी से ढँककर पलंग से कूद गया, जिसके कुछ ही मिनटों के बाद उसकी मौत हो गई।

गौरतलब है कि जुलाई 2021 को एक ऐसा ही मामला उत्तर प्रदेश के बदायूँ जिले से भी सामने आया था, जहाँ 10 साल के शिवम ने इसी तरह भगत सिंह के फाँसी के सीन की रिहर्सल करते समय गलती से फाँसी लगा ली थी। बताया गया था कि बच्चा 15 अगस्त पर होने वाले देशभक्ति कार्यक्रम के लिए रिहर्सल की प्रैक्टिस कर रहा था, लेकिन गलती से उसका स्टूल खिसक गया, जिसके उसकी मौत हो गई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वनवासी महिलाओं से कर रहे निकाह, 123% बढ़ी मुस्लिम आबादी’: भाजपा सांसद ने झारखंड में NRC के लिए उठाई माँग, बोले – खाली हो...

लोकसभा में बोलते हुए सांसद निशिकांत दुबे ने कहा, विपक्ष हमेशा यही बोलता रहता है संविधान खतरे में है पर सच तो ये है संविधान नहीं, इनकी राजनीति खतरे में है।

देशद्रोही, पंजाब का सबसे भ्रष्ट आदमी, MeToo का केस… खालिस्तानी अमृतपाल का समर्थन करने वाले चन्नी की रवनीत बिट्टू ने उड़ाई धज्जियाँ, गिरिराज बोले...

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री देशद्रोही की तरह व्यवहार कर रहा है, देश को गुमराह कर रहा है। गिरिराज सिंह बोले - ये देश की संप्रभुता पर हमला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -