Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजकपिल सिब्बल के 'Tiranga TV' सहित 13 चैनलों को कारण बताओ नोटिस, मामला पाकिस्तान...

कपिल सिब्बल के ‘Tiranga TV’ सहित 13 चैनलों को कारण बताओ नोटिस, मामला पाकिस्तान से जुड़ा

कारण बताओ नोटिस में यह भी उल्लेख किया गया है कि जिस समय पाकिस्तान गलत बयानी कर रहा था, जब पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता गलत तथ्य पेश कर रहे थे तब चैनलों ने उस स्थिति की सही तस्वीर पेश करने के लिए कोई हस्तक्षेप करने का प्रयास नहीं किया।

पुलवामा में 14 फ़रवरी 2019 को हुए आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान वीरगति को प्राप्त हुए थे। इसके बाद भारत की कूटनीतिक सफलता से पाकिस्तान पर बढ़ते चौतरफा दबाव की वजह से वह अब युद्ध-उन्माद को बढ़ावा दे रहा है। पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित पुलवामा आतंकवादी हमला सुरक्षा बलों पर सबसे वीभत्स हमलों में से एक है, जिसे यूँ ही भुलाया नहीं जा सकता। पुलवामा हमले के बाद, पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की, जिसमें उन्होंने पाकिस्तान की भूमिका से इनकार किया और उल्टा भारत पर मनगढंत आरोप लगाने का दोष मढ़ा। उस प्रेस कॉन्फ्रेंस को 13 भारतीय टीवी चैनलों ने प्रसारित किया। उन सभी चैनलों को भारत सरकार द्वारा कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

Opindia को विश्वसनीय स्रोतों से पता चला है कि जिन 13 चैनलों को कारण बताओ नोटिस प्राप्त हुए हैं, वे हैं:

1. ABP News
2. Surya Samachar
3. Tiranga TV
4. News Nation
5. Zee Hindustan
6. TOTAL TV
7. ABP Majha
8. News18 Lokmat
9. Jai Maharashtra
10. News 18 Gujarati
11. News24
12. Sandesh News
13. News18 India

जानकारी के अनुसार, पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता, मेजर जनरल आसिफ गफूर की मीडिया ब्रीफिंग के लिए EMMC ने इन टीवी चैनल्स की ट्रांसक्रिप्शन रिपोर्ट सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय (MIB) को भेजी है।

कपिल सिब्बल के टेलीविजन चैनल, ‘तिरंगा टीवी’ (जो पहले HTN चैनल था, अभी भी यह नाम फाइनल नहीं है, क्योंकि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने इस नाम पर आपत्ति जताई है) को भेजे गए कारण बताओ नोटिस की छायाप्रति आप नीचे देख सकते हैं।

नोटिस में कहा गया है कि पुलवामा हमले के मद्देनजर, मंत्रालय ने 14 फरवरी 2019 को (आतंकी हमले के दिन) एक अधिसूचना जारी की थी कि ऐसी सामग्री के प्रकाशन और प्रसारण के बारे में विशेष रूप से सावधान रहें:

1- हिंसा को प्रोत्साहित करने या उकसाने की संभावना हो
2- कानून और व्यवस्था के रख-रखाव के खिलाफ कुछ भी शामिल हो
3- राष्ट्र-विरोधी रवैये को बढ़ावा देता हो
4- ऐसा कुछ भी जो राष्ट्र की अखंडता को प्रभावित करता हो

नोटिस में कहा गया है कि सूचना और प्रसारण मंत्रालय को पता चला है कि तिरंगा टीवी ने 22 फ़रवरी 2019 को 15:41 से 16:02 के बीच पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता की प्रेस कॉन्फ्रेंस का प्रसारण किया था और यह नियमों और विनियमों का खुला उल्लंघन था।

कारण बताओ नोटिस में कहा गया है कि पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता की प्रेस कॉन्फ्रेंस के प्रसारण ने उपर्युक्त नियमों का उल्लंघन किया है।

कारण बताओ नोटिस में यह भी उल्लेख किया गया है कि जिस समय पाकिस्तान गलत बयानी कर रहा था, जब पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता गलत तथ्य पेश कर रहे थे, तब चैनलों ने उस स्थिति की सही तस्वीर पेश करने के लिए कोई हस्तक्षेप करने का प्रयास नहीं किया।

प्रसारण नियमों के उल्लंघन पर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय (MIB) द्वारा जारी कारण बताओ नोटिस में, चैनलों से 7 दिनों के अंदर जवाब माँगा गया है। और पूछा गया है कि क्यों सरकार को उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई शुरू नहीं करनी चाहिए।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Nupur J Sharma
Editor, OpIndia.com since October 2017

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

‘हिंदी राष्ट्रभाषा है, थोड़ी-बहुत सबको आनी चाहिए’: ये कहने पर Zomato ने कर्मचारी को कंपनी से निकाला, तमिल ग्राहक ने की थी शिकायत

फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato ने अपने एक कस्टमर केयर कर्मचारी को फायर कर दिया, क्योंकि उसने कहा था कि थोड़ी-बहुत हिंदी सबको आनी चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe