Thursday, January 27, 2022
Homeदेश-समाज15 साल पहले दबाव में मुस्लिम बने 3 परिवारों के 18 सदस्यों ने अपनाया...

15 साल पहले दबाव में मुस्लिम बने 3 परिवारों के 18 सदस्यों ने अपनाया हिंदू धर्म, कहा- अपना धर्म अपना ही होता है

रिपोर्ट्स के मुताबिक, 15 साल पहले इन लोगों ने दबाव में आकर मुस्लिम धर्म को अपना लिया था, लेकिन बीतते समय के साथ इन्होंने हिंदू धर्म में वापसी का निर्णय लिया। घरवापसी के बाद इन लोगों ने अपने मुस्लिम नाम का त्याग कर हिंदू नाम रखा।

उत्तर प्रदेश के शामली में सोमवार (9 अगस्त) को तीन मुस्लिम परिवारों ने हिंदू धर्म में वापसी की है। कांधला कस्बे के सूरज कुंड मंदिर में पहले इन परिवारों का पूजा-पाठ के साथ शुद्धिकरण किया गया, इसके बाद 18 मुस्लिमों का धर्म परिवर्तन कर उनकी घरवापसी कराई गई। घरवापसी करने वालों में 7 महिलाएँ, 4 पुरुष और 4 बच्चे शामिल हैं।

इन सभी लोगों ने हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार पूजा-अर्चना करने के बाद जनेऊ धारण किया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, 15 साल पहले इन लोगों ने दबाव में आकर मुस्लिम धर्म को अपना लिया था, लेकिन बीतते समय के साथ इन्होंने हिंदू धर्म में वापसी का निर्णय लिया। घरवापसी के बाद इन लोगों ने अपने मुस्लिम नाम का त्याग कर हिंदू नाम रखा।

मंदिर के पुजारी यशवीर महाराज ने घरवापसी करने वाले सभी लोगों को गायत्री मंत्र का उच्चारण कराने के साथ-साथ हवन कराकर शुद्धिकरण किया। महाराज ने कहा कि जीवन में कई बार इंसान से अनजाने में गलतियाँ हो जाती हैं। उसी गलती के कारण इन सभी ने इस्लाम मजहब अपना लिया था, लेकिन आज उन्होंने फिर से हिंदू धर्म अपनाकर घरवापसी की है। इन सभी का सनातन धर्म में स्वागत है।

बता दें कि ये सभी लोग हिंदू धर्म अपनाने के बाद से बेहद खुश नजर आ रहे हैं। हिंदू धर्म अपनाकर शहजाद से विकास बने युवक ने बताया कि करीब 15 साल पहले उन्होंने मुस्लिम धर्म अपना लिया था, लेकिन आज फिर से उन्होंने हिंदू धर्म अपनाकर समाज को संदेश दिया है कि अपना धर्म अपना ही होता है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘योगी जैसा मुख्यमंत्री मुलायम सिंह और अखिलेश भी नहीं रहे’: सपा के खिलाफ प्रचार पर बोलीं अपर्णा यादव- ‘पार्टी जो कहेगी करूँगी’

अपर्णा यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें मेरा समाजसेवा का काम दिखा था, जबकि अखिलेश यह नहीं देख पाए।

धर्मांतरण के दबाव से मर गई लावण्या, अब पर्दा डाल रही मीडिया: न्यूज मिनट ने पूछा- केवल एक वीडियो में ही कन्वर्जन की बात...

लावण्या की आत्महत्या पर द न्यूज मिनट कहता है कि वॉर्डन ने अधिक काम दे दिया था, जिससे लावण्या पढ़ाई में पिछड़ गई थी और उसने ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,876FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe