Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजजिन्होंने किया 'द कश्मीर फाइल्स' और 'कार्तिकेय 2' जैसी फिल्मों का निर्माण, अब वो...

जिन्होंने किया ‘द कश्मीर फाइल्स’ और ‘कार्तिकेय 2’ जैसी फिल्मों का निर्माण, अब वो जमीन पर बदलेंगे तस्वीर: तेलंगाना के इस गाँव को लिया गोद

अभिषेक अग्रवाल ने 'चन्द्रकला फाउंडेशन' के बैनर तले इस गाँव को गोद लेने का ऐलान किया है। कोरोना काल में दो सालों में इसका 'सार्थक दिवस' मनाया गया था, जिसमें ज़रूरतमंदों की मदद की गई।

2021 में कम बजट की दो फिल्मों ने सभी का ध्यान खींचा, जो थीं ‘द कश्मीर फाइल्स’ और ‘कार्तिकेय 2’। पहली फिल्म का निर्देशन विवेक अग्निहोत्री ने किया था, जो ब्लॉकबस्टर रही। ये हिंदी भाषा में बनी थी। दूसरी फिल्म का निर्देशन चंदू मोंडेति ने किया था। ये तेलुगु फिल्म सुपरहिट रही। ये फ़िल्में अन्य भाषाओं में डब होकर भी कमाल करती थीं। दोनों फिल्म के निर्माता थे अभिषेक अग्रवाल, जिन्होंने अब एक गाँव को गोद लिया है।

‘अभिषेक ग्रुप’ के मैनेजिंग डायरेक्टर अभिषेक अग्रवाल अब तेलंगाना के रंगारेड्डी जिले के कंडुकुर मंडल स्थित थिम्मापुर गाँव की तस्वीर बदलेंगे। उन्होंने केंद्र सरकार में संस्कृति, पर्यटन और उत्तर-पूर्वी राज्यों के विकास जैसे मंत्रालय संभालने वाले जी किशन रेड्डी की मौजूदगी में रविवार (30 अक्टूबर, 2022) को एक कार्यक्रम में इस गाँव को गोद लिया। जी किशन रेड्डी तेलंगाना के सिकंदराबाद से ही सांसद हैं। वो अविभाजित आंध्र प्रदेश में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे हैं।

अभिषेक अग्रवाल ने ‘चन्द्रकला फाउंडेशन’ के बैनर तले इस गाँव को गोद लेने का ऐलान किया है। कोरोना काल में दो सालों में इसका ‘सार्थक दिवस’ मनाया गया था, जिसमें ज़रूरतमंदों की मदद की गई। अब इसका तीसरा ‘सार्थक दिवस’ मनाया गया है। ये दिवस दिवंगत चन्द्रकला देवी की जयंती पर मनाया जाता है, जो अभिषेक अग्रवाल की दादी थीं। उन्होंने जीवन भर कई समाजिक कार्य किए थे, इसीलिए इस संस्था के माध्यम से अभिषेक अग्रवाल इस क्रम को जारी रखे हुए हैं।

अभिषेक अग्रवाल अपने चैरिटी कार्यों के लिए भी जाने जाते हैं। 41 वर्षीय फिल्म निर्माता फिल्में अपनी अगली फिल्म ‘टाइगर नागेश्वर राव’ में भी व्यस्त हैं, जिसमें रवि तेजा मुख्य किरदार में होंगे। थिम्मापुर गाँव जी किशन रेड्डी का जन्मस्थान भी है। अभिषेक अग्रवाल अपनी दादी की जयंती और अपने पिता के 60वें जन्मदिवस पर गाँव को गोद ले रहे हैं। हैदराबाद स्थित JRC कन्वेंशन में इससे संबंधित कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -