Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजप्रदर्शनकारी छात्रों के दवाब में आया AMU इन्तजामियाँ: सभी परीक्षाएँ स्थगित, आम छात्र मायूस

प्रदर्शनकारी छात्रों के दवाब में आया AMU इन्तजामियाँ: सभी परीक्षाएँ स्थगित, आम छात्र मायूस

एएमयू के जनसंपर्क अधिकारी (PRO) उमर सलीम पीरज़ादा ने बुधवार को अपना बयान ज़ारी करते हुए बताया कि फ़िलहाल विश्वविद्यालय की सभी परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है और ज़ल्द ही इस संबंध में नई तारीख़ों का ऐलान किया जाएगा।

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में वही हुआ, जिसका वहाँ पढ़ने वाले और होनहार छात्रों को डर था। एएमयू इंतजामियाँ ने आंदोलनकारी छात्रों के दवाब में आकर सभी कॉलेजों में होने वाली परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है, जिससे उन छात्रों को ज़ोरदार धक्का लगा है, जो विश्वविद्यालय में कक्षाएँ संचालित होते देखना और अपनी परीक्षाएँ समय पर देना चाहते थे। साथ ही इस आदेश से उन आंदोलनकारी छात्रों को बल मिला है, जो CAA के ख़िलाफ बाबे सैयद गेट पर पिछले 31 दिनों से धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं।

एएमयू के जनसंपर्क अधिकारी (PRO) उमर सलीम पीरज़ादा ने बुधवार को अपना बयान ज़ारी करते हुए बताया कि फ़िलहाल विश्वविद्यालय की सभी परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है और ज़ल्द ही इस संबंध में नई तारीख़ों का ऐलान किया जाएगा। दरअसल शीतकालीन अवकाश के बाद फ़िर से विश्वविद्यालय के ख़ुलने पर इन परीक्षाओं को कराना निर्धारित किया गया था।

गौरतलब है कि 15 दिसंबर को एएमयू में हुई हिंसा के बाद विश्वविद्यालय को 5 जनवरी तक बंद कर दिया गया था, जिसके बाद इंतजामिया ने चरणबद्ध तरीक़े से विश्वविद्यालय को खोलने की तैयारी की थी, जिसके तहत 13 जनवरी को विश्वविद्यालय को पूरी तरह से खोल दिया गया, लेकिन विश्वविद्यालय के खुलते ही आंदोलनकारी छात्रों ने कक्षाओं का बहिष्कार करना शुरू कर दिया। विरोध को देखते हुए आंदोलनकारी छात्रों के दवाब में आकर इंतजामिया को आख़िरी समय में यह फैसला लेना पड़ा। आपको बता दें कि 17 जनवरी से एएमयू में परीक्षाएं शुरू होनी थीं।

इस निर्णय को ऐसे समय में लिया गया है कि जब बीते दिनों विश्वविद्यालय के क़रीब 200 छात्र-छात्राओं ने पत्र और ई-मेल के माध्यम से वीसी को अवगत कराया था कि वह विश्वविद्यालय में कक्षाओं को सुचारू रूप से संचालित देखना और अपनी परीक्षाओं को तय समय पर देना चाहते हैं। साथ ही वीसी को ई-मेल करने वाले छात्रों ने एएमयू इंतजामिया को आगाह किया था कि कुछ आंदोलनकारी छात्र फ़िर से JNU की तरह AMU का माहौल ख़राब करने की कोशिश में हैं। इससे गुस्साए आंदोलनकारी छात्रों ने पहले तो छात्रों को तरह-तरह की धमकी दी और फ़िर उन पर दवाब बनाया कि वह सभी कक्षाओं का बहिष्कार करते हुए सोशल मीडिया पर #BoyCottExam चलाएँऔर उनके साथ प्रोटेस्ट में शामिल भी हों।

वहीं CAA के ख़िलाफ बाबे सैयद गेट पर पिछले 31 दिनों से चल रहे धरने पर AMU के आंदोलनकारी छात्रों ने ऐलान किया है कि वह 15 दिसंबर के दिन को हर वर्ष “ब्लैक-डे” के रूप में मनाएँगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जैसा बोया, वैसा काटा’: Scroll की वामपंथी लेखिका जेनेसिया अल्वेस ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमले को ठहराया सही

बांग्लादेश में हिंदुओं और मंदिरों पर हुए इस्लामी चरमपंथी हमलों को स्क्रॉल की लेखिका एल्वेस ने जायज ठहराया और जैसा बोया वैसा काटा की बात कही।

बांग्लादेश के फेनी जिले में स्थिति भयावह: इस्लामी भीड़ का एक साथ कई मंदिरों पर हमला, दर्जनों हिंदू घायल

बांग्लादेश के फेनी जिले में इस्लामी कट्टरपंथियों ने हिंदू समुदाय पर हमला किया है। हमले के दौरान मंदिरों को लूट लिया और तोड़फोड़ की गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,261FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe