Saturday, January 16, 2021
Home देश-समाज JNU हिंसा के दो चेहरे: जानिए कौन हैं नकाबपोशों का नेतृत्व करने वाली आइशी...

JNU हिंसा के दो चेहरे: जानिए कौन हैं नकाबपोशों का नेतृत्व करने वाली आइशी घोष और गीता कुमारी

ये वीडियो सूर्यास्त के पहले का है, जिससे पता चल जाता है कि हमले किसने किए। आइशी नकाबपोशों को दिशा दिखा रही हैं कि उन्हें किधर जाना है। जेएनयूएसयू ने भी पुष्टि की है कि वो आइशी ही है लेकिन उसका कहना है कि वो एबीवीपी के लोगों को हॉस्टल से भगाने के लिए अंदर गई थी।

जेएनयू में हुई हिंसा में ऐसे तो कई वामपंथी छात्र नेताओं के नाम सामने आए हैं लेकिन दो ऐसी महिला नेताएँ हैं, जिन्होंने मास्क पहने हिंसक भीड़ के नेतृत्व किया। दो अलग-अलग वायरल वीडियो में इन दोनों को देखा जा सकता है। एक महिला होकर महिला छात्रों पर ही अत्याचार करना, ये कहाँ तक जायज है? अव्वल तो ये कि बाद में यही वामपंथी महिलाधिकार के नाम पर धरना देते हैं, प्रदर्शन करते हैं और कैंडल लेकर निकलते हैं। जेएनयू की हिंसा की पहली किरदार हैं जेएनयूएसयू की वर्तमान अध्यक्ष आइशी घोष। वहीं इसकी दूसरी किरदार हैं- गीता कुमारी, जेएनयूएसयू की पूर्व अध्यक्ष।

आइशी और गीता, ये दोनों ही वामपंथी छात्रों का नेतृत्व करती रही हैं। सबसे पहले बात आइशी घोष की। अभी वो मीडिया के सामने बड़े-बड़े बयान देने में लगी हुई हैं। वो न हारने और न डरने की बातें करते हुए दावा कर रही हैं कि एबीवीपी ने उन पर हमला किया। लेकिन, वायरल वीडियो कुछ और स्थिति बताते हैं। एक वायरल वीडियो में आइशी घोष कुछ नकाबपोश लोगों के साथ जाती दिख रही हैं। वैसे तो उन्होंने पूरी सतर्कता बरती लेकिन वीडियो फुटेज ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया। एक व्यक्ति ने ऊपर से अपने फोन से वीडियो लिया, जिससे आइशी की पोल खुल गई।

ये वीडियो सूर्यास्त के पहले का है, जिससे पता चल जाता है कि हमले किसने किए। आइशी नकाबपोशों को दिशा दिखा रही हैं कि उन्हें किधर जाना है। जेएनयूएसयू ने भी पुष्टि की है कि वो आइशी ही है लेकिन उसका कहना है कि वो एबीवीपी के लोगों को हॉस्टल से भगाने के लिए अंदर गई थी। जेएनयू छात्र संगठन अपने ही बयान में फँस गया। आइशी घोष सितंबर 2019 में सीपीएम के समर्थन से जेएनयूएसयू की अध्यक्ष बनी थीं। आइशी ने जीतने के बाद कहा था कि वो वामपंथ से प्रेरित हैं क्योंकि वामपंथ ही एक ऐसी विचारधारा है जो चुनाव पर चुनाव हारने के बावजूद लोगों से जुड़े मुद्दे उठाती है।

आइशी घोष के बारे में कहा जा रहा है कि उन्हें भी चोटें आई हैं। हालाँकि, जब वो हॉस्टल में घुसती दिख रही हैं, तब उन्हें चोट नहीं आई थी। इससे सवाल उठता है कि जब वो हिंसा करने वाले नकाबपोशों के साथ थीं तो फिर उन्हें चोट कैसे आ गई? मीडिया को भी सम्बोधित करने वो सिर में मरहम-पट्टी लगा कर आईं। हालाँकि, वामपंथी इससे पहले भी हिजाब और जैकेट के ऊपर से पट्टी बाँधने का नाटक कर चुके हैं। अगर आइशी को सच में किसी एबीवीपी वाले ने पीटा है तो फिर उसका कोई वीडियो और फोटो क्यों नहीं है? आइशी ने ही दावा किया था कि जब उनपर हमला हुआ, तब वहाँ उनके कई साथी मौजूद थे।

ये वही आइशी घोष हैं, जिन्होंने जेएनयू हॉस्टल फी बढ़ाने के ख़िलाफ़ प्रदर्शन में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था। उस दौरान छात्रों ने पुलिस पर पत्थरबाजी भी की थी। आइशी ने दिल्ली पुलिस पर छात्राओं के साथ अभद्रता करने का गंभीर आरोप लगाया था। अभी भी आइशी हिंसा के लिए आरएसएस को जिम्मेदार ठहरा रही हैं जबकि जेएनयू के चुनावों में आरएसएस हिस्सा लेता ही नहीं है और न ही वो एक राजनीतिक पार्टी है। इस प्रोपेगंडा में आइशी घोष के परिवार का भी बयान लाया जा रहा है, जिसमें उनके पिता कहते दिख रहे हैं कि आज उनकी बेटी पर हमला हुआ है, कल को उनपर भी हो सकता है।

ये वामपंथी मीडिया का सबसे बड़ा प्रोपेगंडा रहा है। जब भी उनके गुट के किसी व्यक्ति पर कुछ आरोप लगते हैं या उसकी पोल खुलती नज़र आती है तो मीडिया उसके घर जाकर माता-पिता का इंटरव्यू लेता है और सहानुभूति की लहर तैयार करता है। न सिर्फ़ बुरहान वानी जैसे आतंकियों, बल्कि हैदराबाद के बलात्कारियों के साथ भी ऐसा ही किया गया। वामपंथी अक्सर महिलाओं, छात्रों और दिव्यांगों को आगे कर के अपनी लड़ाई लड़ते हैं। वो बार-बार दलितों और मुस्लिमों का नाम आगे करते हैं ताकि ऐसा लगे कि वो उनके हक़ की लड़ाई लड़ रहे हैं। इससे उन्हें अंतरराष्ट्रीय पब्लिसिटी मिलती है।

हिंसक भीड़ का नेतृत्व कर रही दूसरी महिला का नाम है गीता कुमारी। गीता को सितम्बर 2017 में जेएनयूएसयू का अध्यक्ष चुना गया था। गीता ने जब चुनाव जीता था, तब उन्होंने कहा था कि उनके माता-पिता पहले चाहते थे कि वो पढ़ाई पर अपना ध्यान केंद्रित करें। हालाँकि, उनका कहना था कि बाद में उनके घरवालों ने उनका समर्थन किया। जैसी कि वामपंथ की प्रकृति है, वो घरवालों के ख़िलाफ़ बगावत करने और माता-पिता की इच्छा के विरुद्ध जाने को क्रांति के रूप में देखते हैं। जामिया हिंसा मामले में जब चंदा यादव नामक युवती की ब्रांडिंग का प्रयास किया गया था, तब उसके बारे में भी यही प्रचारित किया गया था। कहा गया था कि चंदा के माता-पिता को लगता था कि जामिया में वो मुस्लिमों के बीच कैसे रहेगी, लेकिन उसने परिवार के विरुद्ध जाकर वहाँ दाखिला लिया।

गीता कुमारी को एक वीडियो में हॉस्टल में बैठ कर नकाबपोशों से बातचीत करते देखा जा सकता है। उन्हें एक व्यक्ति आग्रह कर रहा होता है कि वो लोग जो भी करें वो 100 मीटर से दूर रह कर। इस वीडियो में वो उस व्यक्ति की बातों को अनसुनी कर हिंसा की योजना बनाते दिख रही हैं। उनके साथ नकाबपोश दिख रहे हैं, जिन्होंने एबीवीपी के कार्यकर्ताओं की पिटाई की। गीता के चुनाव के दौरान न सिर्फ़ जम्मू कश्मीर और फिलिस्तीन की ‘आज़ादी’ का मुद्दा उछाला गया था, बल्कि नजीब को लेकर पीएम मोदी से सवाल पूछे गए थे।

गीता इससे पहले भी उपद्रव कर चुकी हैं। उन्होंने दर्जनों छात्रों के साथ जेएनयू में डीन के दफ्तर में हंगामा किया था। प्रोफेसर उमेश कदम ने बताया था कि गीता और उनके साथियों ने उनके दफ्तर में घुस कर उन पर हमला कर दिया। प्रोफेसर कदम को गीता और उनके साथियों ने मिल कर बँधक बना लिया था। बाद में सिक्योरिटी गार्ड्स की मदद से उन्हें बाहर निकाला गया। गीता और उनके साथियों पर वीसी को गाली देने का भी आरोप लगाया था। उन्होंने वीसी के मंच के पास जाकर उपद्रव किया था। गीता भी एक ‘फ्रीलान्स प्रोटेस्टर’ की तरह हैं। इन दोनों महिला नेताओं ने जेएनयू की हिंसा में अहम किरदार निभाया, ऐसा कई प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया है और कई वीडियो से भी खुलासा हुआ है।

जब ऑपइंडिया ने जेएनयू के कुछ छात्रों से गीता और आइशी के बारे में जानना चाहा तो पता चला कि ये दोनों ही भाजपा के ख़िलाफ़ घृणा लेकर घूमती हैं और अक्सर ब्राह्मणों के बारे में भली-बुरी बातें बोलती हुई पाई जाती हैं। इससे पता चलता है कि ये दोनों और इनका छात्र संगठन जातिवादी ज़हर बोने के भी प्रयास करता रहता है। गीता के बारे में कहा जाता है कि वो अक्सर अपने विरोधियों को चुप कराने के लिए अपने पिता के सेना में होने की बात बोलती है। बता दें कि ट्रोल गुरमेहर कौर भी विरोधियों को चुप कराने के लिए अपने पिता के बलिदानी होने की बात उठाती आई हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

अजीत भारती छोड़ रहे हैं ऑपइंडिया, ऑक्सफोर्ड से आया बुलावा | Ajeet Bharti roasts Nidhi Razdan

आज जब श्री भारती जी के पास यह खबर आई कि उन्हें ऑक्सफोर्ड से प्रोफेसरी का बुलावा आया है तो उन्होंने भारी हृदय से सीईओ को त्यागपत्र सौंप दिया।

श्री अजीत भारती जी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने असोसिएट प्रोफेसर नियुक्त किया, ऑपइंडिया से विदाई तय

श्री अजीत भारती को उनके मित्र अलख सुंदरम् ने बताया कि गोरों की जमीन पर जाते ही मुँह पर मुल्तानी मिट्टी लगा कर घूमें ताकि ऑक्सफोर्ड में उन्हें ब्राउन समझ कर कोई दुष्टता न कर दे।

NDTV की निधि ने खरीद लिया था हार्वर्ड का टीशर्ट, लोगों को भेज रही थी बरनॉल… लेकिन ‘शिट हैपेन्स’ हो गया!

पोटेंशियल हार्वर्ड एसोसिएट प्रोफेसर निधि राजदान ने कहा कि प्रोफेसर के तौर पर ज्वाइन करने की बातें हार्वर्ड नहीं बल्कि 'व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी' से जारी की गईं थीं।

बिलाल ने ‘आश्रम’ वेब सीरीज देखकर जंगल में की युवती की हत्या, धड़ से सिर अलग कर 2 KM दूर गाड़ा

पुलिस का कहना है कि 'आश्रम' वेब सीरीज के पहले भाग की थीम की तरह ही ओरमाँझी में बिलाल ने इस हत्या को भी अंजाम दिया और लाश को ठिकाने लगाया।

जिसने सुशांत के लिए लिखा- नखरे दिखाने वाला, उसने करण जौहर की मेहरबानी के बाद छोड़ी ‘पत्रकारिता’

करण जौहर ने राजीव मसंद को अपने नए वेंचर का सीओओ बनाया है। मसंद ने लेखों के जरिए सुशांत की छवि धूमिल करने की कोशिश की थी।

प्रचलित ख़बरें

MBBS छात्रा पूजा भारती की हत्या, हाथ-पाँव बाँध फेंका डैम में: झारखंड सरकार के खिलाफ गुस्सा

हजारीबाग मेडिकल कालेज की छात्रा पूजा भारती पूर्वे के हाथ-पैर बाँध कर उसे जिंदा ही डैम में फेंक दिया गया। पूजा की लाश पतरातू डैम से बरामद हुई।

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

दुकान में घुस कर मोहम्मद आदिल, दाउद, मेहरबान अली ने हिंदू महिला को लाठी, बेल्ट, हंटर से पीटा: देखें Video

वीडियो में देख सकते हैं कि आरोपित युवक महिला को घेर कर पहले उसके कपड़े खींचते हैं, उसके साथ लाठी-डंडों, बेल्ट और हंटरों से मारपीट करते है।

चोटी गुहल कनिया रहिए गेल: NDTV में रहीं निधि राजदान को हार्वर्ड ने कभी नहीं बुलाया, बताई ठगे जाने की व्यथा

वह महामारी के कारण सब चीजों को नजर अंदाज करती रहीं लेकिन हाल ही में उन्हें इन चीजों को लेकर शक गहराया और उन्होंने यूनिवर्सिटी के शीर्ष प्रशासन से संपर्क किया तो...

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

UP: मूत्र विसर्जन के बहाने पिस्टल छिनकर भाग रहे ₹1 लाख के इनामी बदमाश को लगी STF की गोली

STF की टीम यमुना एक्सप्रेस-वे के रास्ते अनूप को मथुरा ले जा रही थी, लेकिन इस बीच भागने की कोशिश करने पर वो पुलिस की गोली का शिकार हो गया।

दिल्ली दंगों के आरोपितों को बचाने वाले महमूद प्राचा को दिल्ली पुलिस ने किया एक्सपोज़, प्रशांत भूषण के आरोपों का भी दिया जवाब

प्रशांत भूषण द्वारा दिल्ली पुलिस की छापेमारी पर सवाल खड़े किए जाने के बाद पुलिस ने बिन्दुवार तरीके से हर प्रश्न का जवाब दिया है। भूषण ने यह सवाल ISIS पोस्टर बॉय के वकील महमूद प्राचा के विरुद्ध की गई पुलिस की रेड पर खड़े किए थे।

‘BJP वैक्सीन नहीं, नपुंसक बनाने की दवा के बाद अब जानलेवा टीका’: कोविड-19 को लेकर सपा की घटिया राजनीति जारी

अपने मास्टर अखिलेश यादव की तरह सपा नेता आईपी सिंह ने बर्ड फ्लू के बाद अब कोविड-19 वैक्सीन को लेकर एक विवादित बयान दिया है।

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

राम मंदिर के लिए इकबाल अंसारी भी करेंगे निधि समर्पण, कहा- यह श्रद्धा का सवाल है, इससे पुण्य मिलता है

बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी भी भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए समर्पण निधि देंगे। श्रीराम जन्मभूमि समर्पण निधि अभियान पर इकबाल अंसारी ने कहा कि बात राम मंदिर की है।

केंद्र सरकार ने पंजाब से सबसे ज्यादा कपास और धान खरीदने का बनाया रिकॉर्ड: आंदोलन में शामिल ‘किसानों’ ने भी जताई खुशी

किसानों के विरोध प्रदर्शन में शामिल हो चुके गोल्टा ने सरकार के फैसले पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि समय पर एमएसपी रेट के अनुसार हुई बिक्री से उन्हें काफी मदद मिली है।

13 साल के नाबालिग का जबरन लिंग परिवर्तन करवाकर होता रहा बलात्कार, स्टेशन पर मँगवाई गई भीख: केस दर्ज

शुभम का लिंग परिवर्तन करवाने के बाद आरोपितों ने मिलकर उसका सामूहिक बलात्कार किया और पैसे के बदले दूसरे लोगों से भी उसका बलात्कार करवाया।
00:06:17

अजीत भारती छोड़ रहे हैं ऑपइंडिया, ऑक्सफोर्ड से आया बुलावा | Ajeet Bharti roasts Nidhi Razdan

आज जब श्री भारती जी के पास यह खबर आई कि उन्हें ऑक्सफोर्ड से प्रोफेसरी का बुलावा आया है तो उन्होंने भारी हृदय से सीईओ को त्यागपत्र सौंप दिया।

कॉन्ग्रेस नेता ने दिया ममता बनर्जी को विलय का सुझाव, कहा- BJP को हराने का नहीं है कोई दूसरा विकल्प

कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने टीएमसी पर निशाना साधते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आगामी चुनावों में अकेली बीजेपी के खिलाफ नहीं लड़ सकती हैं।

श्री अजीत भारती जी को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने असोसिएट प्रोफेसर नियुक्त किया, ऑपइंडिया से विदाई तय

श्री अजीत भारती को उनके मित्र अलख सुंदरम् ने बताया कि गोरों की जमीन पर जाते ही मुँह पर मुल्तानी मिट्टी लगा कर घूमें ताकि ऑक्सफोर्ड में उन्हें ब्राउन समझ कर कोई दुष्टता न कर दे।

मलेशिया ने कर्ज न चुका पाने पर जब्त किया पाकिस्तान का विमान: यात्री और चालक दल दोनों को बेइज्‍जत करके उतारा

मलेशिया ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखाते हुए PIA (पाकिस्‍तान इंटरनेशनल एयरलाइन्‍स) के एक बोईंग 777 यात्री विमान को जब्त कर लिया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
380,000SubscribersSubscribe