Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजश्रमेव जयते... क्रिकेट खेल बाहर निकले श्रमिक, उत्तरकाशी की सुरंग के बाहर स्वागत को...

श्रमेव जयते… क्रिकेट खेल बाहर निकले श्रमिक, उत्तरकाशी की सुरंग के बाहर स्वागत को खड़े थे CM धामी: 16 दिन से अंदर फँसे हुए थे मजदूर

हर परियोजना के पूरे होने पर पीएम मोदी श्रमिकों को सम्मान देते रहे हैं, चाहे वो दिसंबर 2021 में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर हो या फिर जुलाई 2023 में दिल्ली का IECC कॉम्प्लेक्स।

आखिरकार 16 दिनों बाद उत्तरकाशी के सिलक्यारा स्थित सुरंग में ‘श्रम’ की जीत हुई। श्रम की जीत, अर्थात चारधाम यात्रा को आसान बनाने के लिए जो श्रमिक लगातार लगे हुए थे और ब्रह्मखाल-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक सुरंग के ध्वस्त होने के बाद फँस गए थे, उन सभी 41 मजदूरों को बाहर सुरक्षित निकाल लिया गया है। श्रम की जीत, अर्थात बाहर इनके लिए प्रार्थना कर रहे श्रमिकों के परिजनों की जीत, इनके साथी श्रमिकों की आशा की जीत।

सभी मजदूरों को बाहर निकाल लिया गया है और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उनका स्वागत किया है। माइक्रो टनलिंग क्सपर्ट क्रिस कूपर ने ही बताया है कि सही श्रमिक बाहर निकाल लिए गए हैं।

श्रम की जीत, अर्थात मशीनों से लेकर मानव संसाधन तक के श्रम की जीत, 16 दिनों से इस रेस्क्यू ऑपरेशन में लगे लोगों के श्रम की जीत, इसकी निगरानी कर रहे सत्ता में बैठे नेताओं के भी श्रम की जीत। जैसा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते रहे हैं – ‘श्रमेव जयते’। हर परियोजना के पूरे होने पर पीएम मोदी श्रमिकों को सम्मान देते रहे हैं, चाहे वो दिसंबर 2021 में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर हो या फिर जुलाई 2023 में दिल्ली का IECC कॉम्प्लेक्स। 41 श्रमिकों के सुरंग से सुरक्षित निकाले जाने के बाद ये भावना और प्रबल हुई है।

सभी श्रमिक स्वस्थ थे, चूँकि बाहर लोग उनसे संपर्क में थे इसीलिए कैमरे के जरिए उनका हालचाल पता चल रहा था। इसके बावजूद किसी भी तरह की कमी न रहे, इसीलिए उन्हें निकालने के लिए स्ट्रेचर का इस्तेमाल किया गया और चिन्यालसौर स्थित कम्युनिटी अस्पताल, उत्तरकाशी स्थित जिला अस्पताल और ऋषिकेश स्थित एम्स में सारी तैयारियाँ कर के रखी गई थीं। श्रमिकों के स्वागत के लिए बाहर फूल मालाएँ तैयार रखी गई थीं।

यहाँ तक कि सुरंग के पास भी हेल्थ ट्रेनिंग के लिए एक अस्थायी मेडिकल व्यवस्था और डॉक्टरों को तैयार रखा गया था। 8 बेड की व्यवस्था थी और डॉक्टरों की टीम ने इसकी जाँच की। एक दिन पहले पाइप के जरिए मजदूरों को क्रिकेट बैट और गेंद भी भेजी गई थी, उन्होंने क्रिकेट भी खेली थी। मजदूरों को एयरलिफ्ट करने के लिए भारतीय वायुसेना का ‘चिनूक’ हेलीकॉप्टर भी तैयार रखा गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अच्छा! तो आपने मुझे हराया है’: विधानसभा में नवीन पटनायक को देखते ही हाथ जोड़ कर खड़े हो गए उन्हें हराने वाले BJP के...

विधानसभा में लक्ष्मण बाग ने हाथ जोड़ कर वयोवृद्ध नेता का अभिवादन भी किया। पूर्व CM नवीन पटनायक ने कहा, "अच्छा! तो आपने मुझे हराया है?"

‘माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है, मैं काशी का हो गया हूँ’: 9 करोड़ किसानों के खाते में पहुँचे ₹20000 करोड़, 3...

"गरीब परिवारों के लिए 3 करोड़ नए घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मान निधि को आगे बढ़ाना हो - ये फैसले करोड़ों-करोड़ों लोगों की मदद करेंगे।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -