Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजBreaking: ट्रेन के बाद अब हवाई जहाज भी बंद, 24 मार्च से सभी घरेलू...

Breaking: ट्रेन के बाद अब हवाई जहाज भी बंद, 24 मार्च से सभी घरेलू उड़ान सेवाओं पर रोक

लॉकडाउन और कर्फ्यू की चर्चा के बीच लोग पैनिक होकर शहर छोड़ने लगे थे और अपने घर की ओर भागने लगे थे। अब एक राज्य से दूसरे राज्य में जाना मुश्किल होगा - मतलब संक्रमण का फैलाव थमेगा।

सरकार ने ट्रेनों के बाद अब सारी फ्लाइट सेवाओं पर भी रोक लगा दी है। नए आदेश के मुताबिक़, सभी कमर्शियल उड़ान मंगलवार (मार्च 24, 2020) की आधी रात के बाद से बंद हो जाएँगे। हालाँकि, कार्गो फ्लाइट्स के लिए ये पाबन्दी लागू नहीं होगी। बता दें कि रेलवे ने सारी पैसेंजर और एक्सप्रेस ट्रेनों के आवागमन पर पहले ही रोक लगा दी है। केवल सामान ढोने वाले ट्रेनें ही चल रही हैं, जिन्हें गुड्स ट्रैन कहा जाता है। अब फ्लाइट सेवाओं पर भी पाबन्दी लगा दी गई है।

बता दें कि लॉकडाउन और कर्फ्यू की चर्चा के बीच लोग पैनिक होकर शहर छोड़ने लगे थे और अपने घर की ओर भागने लगे थे। दिल्ली और महारष्ट्र जैसे राज्यों से यूपी-बिहार जाने वाली ट्रेनों में भारी भीड़ देखी गई थी। कई लोगों ने तो फ्लाइट से जाना उचित समझा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपील कर चुके हैं कि लोग पैनिक न हों और जो जहाँ है, वहीं रहने का प्रयास करें। अब लॉकडाउन के बाद एक राज्य से दूसरे राज्य में जाना मुश्किल होगा।

विभिन्न सरकारों ने ये भी कहा है कि लॉकडाउन के दौरान राशन की दुकानें खुली रहेंगी और मेडिकल सेवाओं पर कोई रोक नहीं लगेगी, इसीलिए पैनिक होने की ज़रूरत नहीं है। फ्लाइट सेवाओं को बंद करने का फ़ैसला कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के मद्देनज़र लिया गया है। इंटरनेशनल फ्लाइट्स से आने वाले यात्रियों को पहले से ही 14 दिन क्वारंटाइन में रहना अनिवार्य कर दिया गया था। पीएम मोदी ने लोगों से लॉकडाउन का पालन करने की सलाह दी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe