Monday, June 24, 2024
Homeदेश-समाजअंकिता को जलाकर मारने के केस से हटाया गया DSP नूर मुस्तफा: शाहरुख को...

अंकिता को जलाकर मारने के केस से हटाया गया DSP नूर मुस्तफा: शाहरुख को बचाने का आरोप, पूर्व CM ने दिए हिंदू विरोधी होने के और भी सबूत

पूयव सीएम ने पूछा, "आदिवासियों के नाम पर घड़ियाली आँसू बहाने वाले सीटीबाज मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी, बताइए न, ऐसे अधिकारी को जेल में होना चाहिए या नहीं?"

झारखंड के दुमका में शाहरुख़ हुसैन नामक व्यक्ति ने अंकिता सिंह नाम की नाबालिग हिन्दू लड़की के शरीर पर पेट्रोल छिड़क कर आग लगा दिया, जिससे इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। उधर राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अपने विधायकों संग लतरातू में पिकनिक मनाते रहे। शाहरुख़ को पुलिस की हिरासत में हँसते हुए और मूँछों पर ताव देते हुए देखा गया, जिससे पता चलता है कि उसे पुलिस-प्रशासन का कोई भय नहीं है।

इसका कारण है स्थानीय DSP नूर मुस्तफा, जिस पर आरोप है कि वो हत्यारे को बचा रहा है। विरोध प्रदर्शन कर रहे हिन्दुओं ने कहा कि उन्हें प्रशासन से शिकायत हैं, क्योंकि वो हमेशा से हिन्दुओं का विरोध करती है। वहीं झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने कुछ दस्तावेज साझा करते हुए कहा है कि अंकिता हत्या कांड में अभियुक्त शाहरुख़ को बचाने के प्रयास में निशाने पर आये डीएसपी नूर मुस्तफ़ा के आदिवासी विरोधी एवं कम्यूनल होने का यह एक प्रमाण है।

उन्होंने जानकारी दी कि आदिवासियों के एक शोषक ज़ुल्फ़िकार पर ST एक्ट का मामला दर्ज हुआ और वह जेल भी गया, लेकिन मुस्तफ़ा ने 90 दिनों तक चार्जशीट नहीं की। उनके द्वारा शेयर किए गए दस्तावेज में जज के हस्ताक्षर के साथ यही बात लिखी है। भाजपा नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा कि इसी आधार पर ज़ुल्फ़िकार को जमानत मिल है। उन्होंने जानकारी दी कि उसके बाद डीएसपी नूर मुस्तफ़ा ने उसके जेल से निकल जाने के कुछ देर बाद चार्जशीट कर दिया।

बाबूलाल मरांडी ने पूछा, “आदिवासियों के नाम पर घड़ियाली आँसू बहाने वाले सीटीबाज मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी, बताइए न, ऐसे अधिकारी को जेल में होना चाहिए या नहीं?” फ़िलहाल इस केस से नूर मुस्तफा को हटा दिया गया है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री रघुबर दास ने भी झारखंड में डेमोग्राफी बदलाव की साजिश को लेकर बड़े आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि दुमका की घटना से सारा मानवता, समाज और झारखंड शर्मसार हुआ है। उन्होंने दावा किया कि राज्य में आदिवासी बच्चियों और महिलाओं के साथ 1000 से ज़्यादा मामले हुए हैं।

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुबर दास ने कहा, “यह साधारण घटना नहीं है, क्योंकि एक संप्रदाय विशेष के लोग ‘लव जिहाद’ के माध्यम से डेमोग्राफी बदलना चाहते हैं। यह सिर्फ डेमोग्राफी ही नहीं बदलना चाहते हैं, बल्कि ज़मीन का भी जिहाद कर रहे हैं। बंग्लादेशी जिहादियों ने अब तक 10,000 एकड़ ज़मीन हड़प ली है। मैं सरकार से माँग करता हूँ की SIT गठन कर इसपर फ़ास्ट ट्रैक मामला चलाया जाए।” भाजपा दुमका की घटना को लेकर JMM-कॉन्ग्रेस सरकार पर लगातार हमलावर है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चर्च में फायरिंग, यहूदियों के धर्मस्थल को जलाया, पादरी का काटा गला: आतंकी हमले में रूस के 15 पुलिसकर्मियों की मौत, 6 आतंकवादी भी...

रूस में हुए आतंकी हमले में 15 से ज्यादा पुलिसकर्मियों की मौत हो गई, पादरी का सिर कलम कर दिया गया और 25 से ज्यादा घायल बताए जा रहे हैं।

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -