Monday, November 29, 2021
Homeदेश-समाजकानपुर लव जिहाद: मुख्तार से राहुल विश्वकर्मा बन हिंदू लड़की को फँसाया, पहले भी...

कानपुर लव जिहाद: मुख्तार से राहुल विश्वकर्मा बन हिंदू लड़की को फँसाया, पहले भी एक और हिंदू लड़की को बना चुका है बेगम

शादी के बाद हिन्दू लड़की को हाल ही में पता चला कि जिस मुख्तार के प्यार में आकर उसने अपने परिजनों को बिना बताए शादी की थी वह पहले से ही शादीशुदा है और उसके बच्चें भी है। इतना ही नहीं मुख्तार की पहली पत्नी भी हिन्दू समुदाय की है। यह सच्चाई जानने के बाद युवती के पैरों तले जमीन खिसक गई।

लव जिहादियों का अड्डा बन चुके कानपुर से लव जिहाद का एक और चौकाने वाला मामला सामने आया है। मामला कानपुर स्थित नौबस्ता का है। जहाँ मुख्तार अहमद से राहुल विश्वकर्मा बने युवक ने हिंदू लड़की को अपने प्रेमजाल में फँसाया और उसे अपने झाँसे में लेते हुए जबरन इस्लाम धर्म कबूल करवा लिया। बाद में मरियम फातिमा बना कर कोर्ट मैरिज कर ली।

रिपोर्ट के अनुसार, मछलिययाँ में रहने वाले 32 साल के मुख्तार अहमद ने हिंदू लड़की से राहुल बन कर दोस्ती की थी। 22 वर्षीय लड़की आवास विकास में रहने वाली है। साथ ही वह पॉलिटेक्निक की छात्रा है। दोस्ती के बाद मुख्तार ने लड़की को झूठे दावे करते हुए अपने प्यार में फँसा लिया और उसे धर्म के प्रति बरगलाने लगा। अहमद ने लड़की का ब्रेनवाश किया और बिना किसी की जानकारी के 17 अप्रैल 2019 को कोर्ट मैरिज कर ली। जिसके बाद यह बात सबसे छिपाते हुए दोनों अपने-अपने घर रहने लगे गए।

वहीं शादी के बाद लड़की को हाल ही में पता चला कि जिस मुख्तार के प्यार में आकर उसने अपने परिजनों को बिना बताए शादी की थी वह पहले से ही शादीशुदा है और उसके बच्चें भी है। इतना ही नहीं मुख्तार की पहली पत्नी भी दूसरे समुदाय की है। यह सच्चाई जानने के बाद युवती के पैरों तले जमीन खिसक गई। उसे विश्वास ही नहीं हो रहा था कि इतने महीनों से बात करने के बावजूद मुख्तार ने उसे शादी और बच्चे की भनक भी नहीं लगने दी।

पीड़िता के पिता ने घटना की जानकारी पुलिस को देते हुए आरोपित के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया है। पिता ने अपनी शिकायत में बताया कि कुछ हफ़्तो पहले उन्होंने अपनी बेटी को फोन पर किसी से लड़ते हुए देखा। जिसके बाद पिता ने बेटी का फोन छीन कर उससे पूछताछ की। जिसपर लड़की ने बताया कि कुछ महीनों पहले उसने राहुल नाम के शख्स से शादी कर ली थी और वह उसी से बात करती है। यह सुनते ही परिजनों के होश उड़ गए। राहुल का असली नाम जानने के बावजूद युवती ने घरवालों को उसका असली नाम नहीं बताया उस वक्त।

फोन जब्त होने और परिजनों के सख्ती की वजह से युवती लड़के से न बात कर पाई न ही मिल पाई। जिसके एक हफ्ते बाद मुख्तार खुद लड़की के घर पहुँच गया। मुख्तार ने कहा कि वह उसकी पत्नी है और वो उसे अब घर ले जाना चाहता है। जिस पर नाराजगी जाहिर करते हुए परिजनों ने जब अपनी लड़की को बचाने की कोशिश की तो वह धक्का मुक्की पर उतर आया और जबरन उसे साथ ले जाने लगा।

मामले को बिगड़ता देख पीड़िता के पिता ने पुलिस को इसकी सूचना दे दी। जिसके बाद पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। पुलिस की पूछताछ में जब युवक ने अपना असली नाम मुख्तार अहमद बताया तो स्वजनों को और बड़ा धक्का लगा। जब लड़की से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि मुख्तार ने उससे राहुल बनकर दोस्ती की थी। उसने इस तरह से मुझे अपने काबू में कर लिया था कि वह जो कहता मैं करती चली जाती। उसने फिर परिजनों से अपने मरियम फातिमा बनने को लेकर भी खुलासा किया।

लड़की ने बताया मुख्तार ने निक़ाह करते समय बीवी बच्चों की बात उससे नहीं बताई थी। उसने बाद में बताया कि वह शादीशुदा है और उसके बच्चे भी है। लेकिन पहली बीवी से उसने तलाक ले लिया है और वह उसके साथ नहीं रहती। पिता ने मामले में पुलिस वालों से अनुरोध किया कि उन्हें उनकी बेटी वापस चाहिए। धोखाधड़ी से इस शादी को अंजाम दिया गया है। इसके अलावा पिता ने आरोपित के खिलाफ सख्त कार्रवाई की माँग भी की है।

गौरतलब है कि कानपुर में लव जिहाद के मामलों की जाँच एसआईटी द्वारा की जा रही है। वहीं इस मामले को भी एसआईटी को सौंप दिया गया है। परिजनों की शिकायत पर मामले की जाँच और पीड़िता से पूछताछ की जा रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe