Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजबजरंग बली के पोस्टर फाड़े, झंडों पर उल्टियाँ तक की... हिन्दुओं की शोभा यात्रा...

बजरंग बली के पोस्टर फाड़े, झंडों पर उल्टियाँ तक की… हिन्दुओं की शोभा यात्रा पर रॉड लेकर कट्टर इस्लामी भीड़ का हमला, कहा – ‘देखेंगे तुम्हारे राम बचाने आते हैं कि नहीं’

इस इस्लामी हमले के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। इनमें देखा जा सकता है कि इस्लामी कट्टरपंथी कारों पर हमला करते हुए 'अल्लाह-हू-अकबर' के नारे लगा रहे हैं।

सोमवार (22 जनवरी, 2024) को अयोध्या में राम मंदिर में हुई प्राण प्रतिष्ठा से भारत का प्रत्येक हिन्दू प्रसन्न है और अपने भगवान को उनके घर में वापस देख कर उसकी आँखों में आँसू भी हैं। हालाँकि, इस ख़ुशी के मौके पर इस्लामी कट्टरपंथियों को चैन नहीं आया और उन्होंने इस दिन भी हिंसा का रास्ता चुना। गुजरात के मेहसाना से लेकर महाराष्ट्र के सोलापुर तक से हिन्दुओं पर हमले की खबरें सामने आई हैं। ठाणे के मीरा रोड से भी हिंसा की सूचना सामने आई थी।

इससे जुड़ी और जानकारियाँ अब ऑपइंडिया सामने लाया है। मीरा रोड में इस्लामी कट्टरपंथियों ने यात्रा निकाल रहे हिन्दुओं पर लोहे की रॉड और हथियारों के साथ हमला किया। बताया जा रहा है कि जिन इस्लामी कट्टरपंथियों ने हिन्दुओं पर हमला किया था, उन पर बुलडोजर कार्रवाई हुई है।

मीरा रोड में हुए हमले के विषय में अब यह जानकारी सामने आई है कि इस्लामी दंगाइयों ने हिन्दू भावनाओं को ठेस पहुँचाने के लिए बजरंग बली की छवि वाले पोस्टर भी फाड़े थे, यह भी बताया गया कि इन झंडों पर इस्लामी कट्टरपन्थियों ने उलटी तक की। ऑपइंडिया ने अपनी जाँच में पता किया है कि इस मामले में पुलिस ने अब तक 13 लोगों को गिरफ्तार किया है। हालाँकि, पुलिस ने गिरफ्तार किए गए आरोपितों के नाम नहीं बताए हैं।

ऑपइंडिया ने मीरा रोड हिंसा मामले में दर्ज की गई FIR की कॉपी भी हासिल की है। यह FIR इस हिंसा के पीड़ित विनोद जायसवाल ने दर्ज करवाई है। FIR से पता चला है कि 21 जनवरी की रात को 10:30 बजे यह घटना हुई। जायसवाल ने बताया है कि उनकी गाड़ी को 50-60 लोगों ने घेर लिया और हमला किया जबकि वह मीरा रोड पर जा रहे थे। उनकी गाड़ी पर लाठी-डंडों से हमला किया गया और इस पर लगा झंडा भी उखाड़ दिया।

FIR में उन्होंने बताया, “मैं अपनी कार चला रहा था जबकि मेरे दोस्त अपनी बाइक से चलते हुए मेरे साथ थे। हम उस दिन पूरे मुंबई में यात्रा निकाल रहे थे। जैसे ही हम मीरा रोड इलाके में पहुँचे, हम ट्रैफिक में फँस गए। इसके बाद हमने यू-टर्न लिया और भायंदर रोड की ओर बढ़ गए।

आगे उन्होंने बताया, “यहाँ सड़क जाम थी इसलिए हमने इसके बाद नयानगर की शिवार गार्डन रोड से जाने का फैसला किया। यहीं पर एक लड़के ने अचानक कार रोकी और धमकी देने लगे। उन्होंने धमकी देते कहा ‘हम तुम्हें दिखाएँगे कि अब हम कौन हैं।’ उसने कहा – देखेंगे तुम्हारे राम तुम्हें बचाने आते हैं या नहीं। इसके तुरंत बाद लगभग 50-60 लोग यहाँ पर आ गए और रॉड व लाठियों से हमला करना शुरू कर दिया।”

आगे उन्होंने लिखा, “इन लोगों ने कार के बोनट पर भगवान हनुमान का पोस्टर देखा और उस पर उल्टी कर दी। उन्होंने अल्लाह-हू-अकबर के नारे लगाए, मेरे सिर पर लोहे की रॉड से हमला कर दिया और मेरी हत्या करने की कोशिश की। इससे हमारी हिंदू भावनाओं को ठेस पहुँची है। उन्होंने मेरे साथ घूमने आई महिलाओं और बच्चों पर तक पत्थर फेंके।”

इस मामले में धारा 307 (हत्या का प्रयास), 341 (किसी को जबरदस्ती रोकना), 295ए (धार्मिक भावनाओं को जानबूझकर ठेस पहुँचाना), 153ए (दो समूहों के बीच लड़ाई करवाना) के तहत दर्ज की गई है। इस मामले में धारा 141, 143, 147, 149 और 427 धाराएँ जोड़ी गई हैं।

इस इस्लामी हमले के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। इनमें देखा जा सकता है कि इस्लामी कट्टरपंथी कारों पर हमला करते हुए ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारे लगा रहे हैं। इसी के साथ हिन्दुओं पर लाठी डंडे से वार करते हुए इस्लामी कट्टरपंथियों को देखा जा सकता है। महिलाओं पर हमले की भी वीडियो सामने आई हैं।

बताया जा रहा है कि राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह के एक दिन बाद, हिंदुओं ने भी इस्लामी दंगाइयों के हमले का प्रतिकार किया। मीरा रोड क्षेत्र में हिंदू बड़ी संख्या में इकट्ठा हुए और दंगाइयों के पथराव का जवाब दिया। यह वीडियो एक्स (पूर्व में ट्विट्टर) पर एक व्यक्ति रौशन सिन्हा द्वारा साझा किया गया था जिसमें हिन्दू दंगाइयों पर कार्रवाई की माँग कर रहे हैं।

ऑपइंडिया ने इस्लामियों के हमले के विषय में FIR करवाने वाले विनोद जायसवाल से भी बात करने की कोशिश की लेकिन वह चोट के कारण अनुपलब्ध थे। उन्हें भीमसेन जोशी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। यहाँ उनका इलाज हो रहा है।

पुलिस ने ऑपइंडिया को बताया है कि इस मामले में 13 लोगों को अभी तक गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उनकी पहचान बताने से इनकार किया, उन्होंने कहा, “यह अति-संवेदनशील मामला है। नाम उजागर करने से मजहबी हिंसा हो सकती है। मैं अन्य कोई जानकारी नहीं दे सकता। अभी माहौल शांत करने के प्रयास किए जा रहे हैं।” यहाँ पर प्रदर्शन करने वाले सकल हिन्दू समाज नाम के संगठन के लोगों ने बताया है कि गिरफ्तार किए गए लोग मुस्लिम ही हैं और कुछ हिन्दू भी गिरफ्तार किए गए थे लेकिन उन्हें छोड़ दिया गया था।

इससे पहले नया नगर, जहाँ यह हिंसा हुई है, वहाँ से हिन्दुओं को भड़काते हुए वायरल हुआ था। इसमें एक शख्स कहता है कि नयानगर इलाके में अगर हिन्दू आते हैं तो इसके भीषण परिणाम होंगे क्योंकि यहाँ मुस्लिम आबादी ज्यादा है।

वीडियो में शख्स कहता है, “भाई लोग, मुस्लिमों को उकसाना बंद करो। क्यों सोते हुए शेर को जगा रहे हो। मुंबई को यूपी समझ रखा है क्या? मुंबई किसी के बाप की जागीर नहीं है। मुंबई खुले साँड़ों का इलाका है। खुले साँड़ बम्बई में घूम रहे हो। किसलिए जो इंसान सोया है उसको जगा रहे हो। नयानगर में आने की क्या जरूरत है? तुमलोग का राम इधर नयानगर में है? यहाँ मुसलमान लोग रहते हैं, यहाँ आकर जय श्रीराम के नारे लगा रहे, उकसाने की कोशिश कर रहे, क्या हासिल हुआ इससे? यह विवादित बयान देने वाला गिरफ्तार कर लिया गया है।

मुंबई में अभी भी स्थिति चिंताजनक है। इस्लामी कट्टरपंथी लगातार हिन्दुओं पर हमला कर रहे हैं। यहाँ हिंसा ना भड़के इसके लिए यहाँ भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। इलाके में RAF भी तैनात की गई है। यहाँ पर हिन्दू समाज विरोध में रैली भी आयोजित कर रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Siddhi Somani
Siddhi Somani
Siddhi Somani is known for her satirical and factual hand in Economic, Social and Political writing. Having completed her post graduation in Journalism, she is pursuing her Masters in Politics. The author meanwhile is also exploring her hand in analytics and statistics. (Twitter- @sidis28)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिंदुओं का गला रेता, महिलाओं को नंगा कर रेप: जो ‘मालाबर स्टेट’ माँग रहे मुस्लिम संगठन वहीं हुआ मोपला नरसंहार, हमें ‘किसान विद्रोह’ पढ़ाकर...

जैसे मोपला में हिंदुओं के नरसंहार पर गाँधी चुप थे, वैसे ही आज 'मालाबार स्टेट' पर कॉन्ग्रेसी और वामपंथी खामोश हैं।

जूलियन असांजे इज फ्री… विकिलीक्स के फाउंडर को 175 साल की होती जेल पर 5 साल में ही छूटे: जानिए कैसे अमेरिका को हिलाया,...

विकिलीक्स फाउंडर जूलियन असांजे ने अमेरिका के साथ एक डील कर ली है, इसके बाद उन्हें इंग्लैंड की एक जेल से छोड़ दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -