Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजशोभा यात्रा पर पथराव, हिंदुओं की गाड़ियों पर लाठी-डंडे से हमला: प्राण-प्रतिष्ठा से पूर्व...

शोभा यात्रा पर पथराव, हिंदुओं की गाड़ियों पर लाठी-डंडे से हमला: प्राण-प्रतिष्ठा से पूर्व गुजरात-मुंबई में हिंसा की खबर; राम मंदिर को उड़ाने की धमकी भी

राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से पहले कुछ जगहों से हिंसा की खबरें हैं। कहीं बताया जा रहा है कि मुस्लिम भीड़ ने छतों से पत्थरबाजी की है तो कहीं पर सड़कों पर उतरकर चलती सड़क पर हिंदुओं को निशाना बनाया है। कुछ जगह तो तिलमिलाहट में इस्लामी कट्टरपंथियों ने अयोध्या के राम मंदिर को ही उड़ा डालने की धमकी दी है।

राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से पहले कुछ जगहों से हिंसा की खबरें हैं। कहीं बताया जा रहा है कि मुस्लिम भीड़ ने छतों से पत्थरबाजी की है तो कहीं पर चलती सड़क पर हिंदुओं को निशाना बनाया है। एक जगह तो तिलमिलाहट में इस्लामी कट्टरपंथी ने अयोध्या के राम मंदिर को ही उड़ा डालने की धमकी दी है।

गुजरात में पत्थरबाजी

पहली खबर गुजरात के मेहसाना की है। वहाँ राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से पहले भगवान राम की निकाली गई शोभा यात्रा पर छतों से पत्थरबाजी हुई। हिंदुओं पर ये हमले इतनी तेजी से हो रहे थे कि पुलिस को स्थिति काबू करने के लिए आँसू गैस के छोड़ने पड़े। इलाके में पुलिस बल तैनात है और पत्थरबाजों पर कार्रवाई करते हुए 15 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें महिलाएँ भी शामिल हैं।

पुलिस कार्रवाई की जानकारी देते हुए रेंज आईजी ने कहा, ”आज इलाके में जुलूस के दौरान पथराव हुआ। पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए स्थिति को नियंत्रण में कर लिया, जिससे कोई बड़ी घटना नहीं घटी। फिलहाल इलाके में शांति है और पुलिस गश्त कर रही है। फिलहाल 15 लोगों को राउंडअप किया गया है। जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।”

मुंबई में सनातन यात्रा पर भीड़ का हमला

इसी तरह मुंबई के मीरा रोड से भी खबर आ रही हैं कि सनातन यात्रा पर भीड़ ने हमला किया है। ये भीड़ इस्लामी कट्टरपंथियों की थी। कुछ वीडियोज सोशल मीडिया पर तेजी से शेयर हो रही हैं। वीडियो में दिख रहा है कि चलती सड़क पर भीड़ उन गाड़ियों को निशाना बना रही है जिनके ऊपर भगवान राम और हनुमान जी की तस्वीर के साथ भगवा पताके लगे हैं।

अराजक तत्वों को गाड़ी के शीशे तोड़ते, हिंदुओं पर हमला करते, गंदी-गंदी गाली बकते वीडियोज में साफ देखा जा सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, हिंसा का शिकार लोगों का कहना है कि वे शांति पूर्वक धर्म ध्वजा लेकर यात्रा निकाल रहे थे लेकिन तभी उनके सामने ये भीड़ आई जिसने उनके ऊपर अचानक हमला कर दिया। आरोप ये भी हैं कि हमले के दौरान भीड़ अल्लाह-हू-अकबर और नारा-ए-तकबीर के नारे लगा रही थी। ये वीडियोज विचलित करने वाली हैं। प्राण-प्रतिष्ठा से पहले हिंदुओं को निशाना बनाया गया है। फोटो में महिला के माथे से खून निकलता भी दिखा।

टाइम्स नाऊ में प्रकाशित खबर में अल्लाह-हू-अकबर और नारा-ए-तकबीर नारों का जिक्र

टाइम्स नाऊ की रिपोर्ट के अनुसार, इस मामले में नया नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज हुई है। केस को आईपीसी की धारा 307 और 153 ए के साथ अज्ञातों के विरुद्ध दर्ज किया गया है। पुलिस आरोपितों को ढूँढने का प्रयास कर रही है। सीसीटीवी खंगाले जा रहे हैं। पुलिस का कहना है कि स्थिति कंट्रोल में है इसलिए अफवाहों पर ध्यान न दें और शांति बनाए रखें। कुछ रिपोर्ट्स में इस मामले को सामान्य हाथापाई का विवाद भी कहा जा रहा है।

बिहार में ‘दाऊद इब्राहिम का आतंकी’ गिरफ्तार

मुंबई गुजरात के अलावा बिहार में भी एक कट्टरपंथी युवक मुं इंतखाब के खिलाफ कार्रवाई हुई है। इसने कॉल करके राम मंदिर को उड़ाने की धमकी दी थी। बिहार पुलिस ने कार्रवाई करते हुए इसे अररिया जिले के पलासी थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। आरोपित बलुआ कलियागंज का रहने वाला है। इसने 112 नंबर पर कॉल करके धमकी दी थी। आरोपित खुद को छोटा शकील बता रहा था। साथ ही यह भी कि वह दाऊद इब्राहिम का आतंकी है। पुलिस ने मामले की संवेदनशीलता देखते हुए आरोपित को गिरफ्तार कर लिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -