Saturday, June 22, 2024
Homeदेश-समाजअपनी सगाई तक कैंसल कर दी मुस्लिम पक्ष की एक महिला वकील ने, 9...

अपनी सगाई तक कैंसल कर दी मुस्लिम पक्ष की एक महिला वकील ने, 9 साल तक सिर्फ राम मंदिर मामले में…

"कोर्ट की सुनवाई 6 अगस्त से 16 अक्टूबर तक चलनी थी। इस बीच सगाई करने का मतलब था कि कोर्ट की सुनवाई में उपस्थित नहीं हो पाती। सगाई तो इंतजार कर सकती है, लेकिन कोर्ट नहीं।"

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार (नवंबर 9, 2019) को अपना फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने इस फैसले में विवादित जमीन रामलला को देने का फैसला किया है, जबकि मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही दूसरी जगह 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया। 

सुप्रीम कोर्ट ने मामले पर लगातार 40 दिन तक रोजाना सुनवाई करने के बाद 9 नवंबर को फैसला सुनाया। 40 दिनों की मैराथन सुनवाई के दौरान हिन्दू और मुस्लिम पक्ष के वरिष्ठ वकीलों ने बेहतरीन तरीके से अपनी दलीलें पेश कीं। इन वरिष्ठ वकीलों में के परासरण, राजीव धवन, सीएस वैद्यनाथन, रंजीत कुमार, जफरयाब जिलानी, पीएस नरसिम्हा, पीएन मिश्रा और एजाज मकबूल का नाम शामिल है।

रामलला के तुलसी: 92 की उम्र में लड़ा अयोध्या का धर्मयुद्ध, दलीलों से मुस्लिम पक्ष को किया चित

बता दें कि इन वकीलों के बहतरीन परफॉर्मेंस के पीछे इनके कुछ जूनियर वकीलों का भी हाथ है। इस केस में उनका साथ देने के लिए किसी जूनियर वकील ने अपनी सारी कानूनी व्यस्तताओं को दरकिनार कर दिया तो किसी ने अपनी सगाई तक को रद कर दिया। उन्होंने अपने प्रोफेशनल माँग को निजी माँग से ज्यादा तरजीह दी।

इनमें से एक हैं 50 वर्षीय वकील पी वी योगेश्वरन। जिन्होंने इस मामले पर ध्यान केंद्रित करने के लिए अन्य अदालती व्यस्तता से किनारा कर लिया। किथेई जिले में एक छोटे से गाँव उप्पुकोट्टई से आने वाले पी वी योगेश्वरन ने हिन्दू पक्ष के लिए काम किया। उन्होंने 1994 में कानून की पढ़ाई पूरी की थी और वरिष्ठ वकील एस बालकृष्णन और फिर लाला राम गुप्ता के जूनियर के रूप में सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस शुरू की।

योगेश्वरन पिछले नौ साल से अयोध्या मामले पर काम कर रहे थे। जब इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 30 सितंबर, 2010 के फैसले को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी, वो तभी से इस केस से जुड़े रहे। योगेश्वरन रोजाना स्वेच्छा से पाँच घंटे वकील भक्ति वर्धन सिंह के साथ मामले पर अध्ययन करने के लिए समर्पित थे। इसके बाद वे वरिष्ठ अधिवक्ता परासरन, वैद्यनाथन और रंजीत कुमार के साथ एक से दो घंटे तक चलने वाले ब्रीफिंग सत्र में भी शामिल होते थे।

उनके प्रपंच का गुंबद था अयोध्या, आज ढह गया, पर राम मंदिर के उत्साह में मथुरा-काशी का दर्द न दबे

योगेश्वरन ने इस बारे में बात करते हुए टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि उन्हें इस मामले पर ध्यान केंद्रित करने के लिए अदालत के सभी अन्य कामों को छोड़ना पड़ा। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले से जुड़ने के बाद उन्हें पता चला कि कैसे उनके जैसे एक साधारण वकील को सीखने के लिए पूरी ज़िंदगी लगानी होती है।

मुस्लिम पक्ष के वकील एजाज मकबूल की जूनियर वकील आकृति चौबे ने इस मामले को गहराई से जानने के लिए अपने निजी जीवन में बहुत बड़ा त्याग किया। चौबे को अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ सगाई करनी थी, लेकिन कोर्ट की सुनवाई 6 अगस्त से 16 अक्टूबर तक चलनी थी। और इस बीच उनके सगाई करने का मतलब था कि वो कोर्ट की सुनवाई में उपस्थित नहीं हो पातीं। फिर उन्होंने सोचा कि सगाई तो इंतजार कर सकती है, लेकिन कोर्ट नहीं।

बाद में उन्होंने अपने सगाई के कार्यक्रम को रद कर दिया। अब वो अपना ‘रोका’ समारोह न करके अगले साल फरवरी में सीधा शादी ही करने वाली हैं। आकृति का ब्वॉयफ्रेंड इंडियन एयरलाइंस में वकील हैं। आकृति का फैमिली बैकग्राउंड भी योगेश्वरन की तरह ही है। आकृति चौबे ने तभी अपने पिता को खो दिया था, जब वो पाँचवीं कक्षा में थीं।

दूसरे मजहब वालों ने भी दिए मंदिर होने के सबूत, ASI की रिपोर्ट भी बनी रामलला के पक्ष में फैसले का आधार

आकृति ने बताया कि उनकी माँ दिल्ली सरकार के साथ काम करती है और वो उनका काफी सपोर्ट करती हैं। चौबे ने कहा कि वो पिछले दो वर्षों से इस पर बिना किसी ब्रेक काम कर रहीं थी। आकृति ने बताया कि वो दलीलें शुरू होने के बाद रोजाना वकील राजीव धवन को ब्रीफ करती थीं।

मुस्लिम पक्ष की वकालत कर रहे धवन और जिलानी कई तथ्यों और रिकॉर्डों के लिए आकृति की मदद लिया करते थे। इसके साथ ही अन्य महिला वकील कुर्रातुलेन का भी सीनियर वकीलों का साथ देने में अहम योगदान रहा। योगेश्वर और आकृति जैसे और भी कई ऐसे जूनियर वकील हैं, जिन्होंने इस केस में काफी मेहनत की है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NEET पेपरलीक का मास्टरमाइंड निकाल बिहार का लूटन मुखिया, डॉक्टर बेटा भी जेल में: पत्नी लड़ चुकी है विधानसभा चुनाव, नौकरी छोड़ खुद बना...

नीट पेपर लीक के मास्टरमाइंड में से एक संजीव उर्फ लूटन मुखिया। वह BPSC शिक्षक बहाली पेपर लीक कांड में जेल जा चुका है। बेटा भी जेल में है।

व्यभिचारी वैष्णव आचार्य, पत्रकार ने खोली पोल, अंग्रेजों के कोर्ट में मुकदमा… आमिर खान के बेटे को लेकर YRF-Netflix की बनाई फिल्म बहस का...

माँ भवानी का अपमान करने वाले को जवाब देने कारण हकीकत राय नामक बच्चे का खुलेआम सिर कलम कर दिया गया था। इस पर फिल्म बनाएगा बॉलीवुड? या सिर्फ वही 'वास्तविक कहानियाँ' चुनी जाती हैं जिनमें गुंडा कोई साधु-संत हो?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -