Tuesday, May 21, 2024
Homeदेश-समाजबाइक पर सवार होकर गुरुद्वारे में आए और बाबा तरसेम सिंह को गोली मार...

बाइक पर सवार होकर गुरुद्वारे में आए और बाबा तरसेम सिंह को गोली मार चले गए… एक शूटर को उत्तराखंड STF ने हरिद्वार में किया ढेर, दूसरा फरार

28 मार्च, 2024 को नानकमत्ता गुरुद्वारे के भीतर घुस कर दो बाइकसवारों ने डेरा प्रमुख बाबा तरसेम सिंह को मार दिया था। यह हत्यारे बाइक पर आए और गुरुद्वारे के बाहर बैठे बाबा तरसेम सिंह को कई गोलियाँ मार कर भाग गए। इन दोनों हत्यारों की पहचान अमरजीत सिंह और सरबजीत सिंह के रूप में हुई थी।

उत्तराखंड के नानकमत्ता गुरुद्वारे के कारसेवा प्रमुख बाबा तरसेम सिंह की हत्या का आरोपित अमरजीत सिंह एक एनकाउंटर में मारा गया। बाबा तरसेम की सिंह की हत्या के आरोपित अमरजीत सिंह को उत्तराखंड पुलिस की स्पेशल टास्क फ़ोर्स ने हरिद्वार में मार गिराया। हत्या में शामिल दूसरा आरोपी अभी भी फरार है। इन दोनों ने मिलकर उधम सिंह नगर के नानकमत्ता में स्थित प्रसिद्ध गुरुद्वारे के अंदर घुस कर बाबा तरसेम की हत्या गोली मार कर हत्या कर दी थी।

बाबा तरसेम सिंह की हत्या करने वाले अमरजीत सिंह के साथ उत्तराखंड STF और हरिद्वार पुलिस का यह एनकाउंटर हरिद्वार के भगवानपुर इलाके में हुआ। पुलिस ने बताया कि वह आरोपितों की तलाशी के लिए इमली खेड़ा मार्ग पर चेकिंग अभियान चला रही थी। इसी दौरान बाइक पर दो लोग आए और पुलिस को देख कर कलियर की तरफ भागने लगे।

पुलिस ने जब उनका पीछा किया तो उन्होंने फायर झोंक दिया। पुलिस की जवाबी कार्रवाई में इनमें से एक घायल हो गया जबकि दूसरा भागने में सफल रहा। पुलिस घायल अपराधी को अस्पताल ले गई लेकिन उसे मृत घोषित कर दिया गया। मरने वाले की पहचान अमरजीत सिंह निवासी अमृतसर के रूप में हुई है। उस पर बाबा तरसेम सिंह की हत्या समेत 16 से अधिक मामले दर्ज थे। अमरजीत सिंह पर उत्तराखंड पुलिस ने ₹50,000 का इनाम घोषित किया हुआ था। यह बाबा तरसेम सिंह की हत्या का मुख्य आरोपित था।

गौरतलब है कि 28 मार्च, 2024 को नानकमत्ता गुरुद्वारे के भीतर घुस कर दो बाइकसवारों ने डेरा प्रमुख बाबा तरसेम सिंह को मार दिया था। यह हत्यारे बाइक पर आए और गुरुद्वारे के बाहर बैठे बाबा तरसेम सिंह को कई गोलियाँ मार कर भाग गए। इन दोनों हत्यारों की पहचान अमरजीत सिंह और सरबजीत सिंह के रूप में हुई थी। सरबजीत बाइक चला रहा था जबकि अमरजीत ने बन्दूक पकड़ी हुई थी और उसी ने इस हत्या को अंजाम दिया था। इस मामले में दर्ज किए गए मुकदमे में अमरजीत मुख्य आरोपित बनाया गया था।

जहाँ अमरजीत को उत्तराखंड पुलिस ने मार गिराया है तो वहीं सरबजीत अब भी फरार है। पुलिस उसकी तलाश में जुटी हुई है। बाबा तरसेम सिंह की हत्या के मामले में तीन और आरोपितों की गिरफ्तारी की गई थी। यह उत्तर प्रदेश के पीलीभीत और उधम सिंह नगर जिले के रहने वाले हैं। इन पर इस हत्या में मदद करने का आरोप है। बाबा तरसेम सिंह की हत्या के मामले ने काफी तूल पकड़ा था। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी नानकमत्ता पहुँच कर इस मामले में शोक व्यक्त किया था बाबा तरसेम सिंह को श्रृद्धांजलि अर्पित की थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

‘हिन्दुओं को बदनाम करने के लिए बनाई फिल्म’: मलयालम सुपरस्टार ममूटी का ‘जिहादी’ कनेक्शन होने का दावा, ‘ममूक्का’ के बचाव में आए प्रतिबंधित SIMI...

मामला 2022 में रिलीज हुई फिल्म 'Puzhu' से जुड़ा है, जिसे ममूटी की होम प्रोडक्शन कंपनी 'Wayfarer Films' द्वारा बनाया गया था। फिल्म का डिस्ट्रीब्यूशन SonyLIV ने किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -