Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाजबकरीद की ढील का दिखने लगा असर? केरल में 1 दिन में कोरोना संक्रमण...

बकरीद की ढील का दिखने लगा असर? केरल में 1 दिन में कोरोना संक्रमण के 22129 केस, 156 मौतें भी

उत्तरी केरल के मुस्लिम बहुल इलाकों में सबसे ज्यादा केस रिकॉर्ड किए गए हैं। मलप्पुरम जिले ने एक ही दिन में 4,037 मामलों के साथ सबसे अधिक पॉजिटिव मामले दर्ज किए।

देश भर में जहाँ कोरोना की दूसरी लहर के बाद बढ़ाई गई सख्तियों ने स्थिति को नियंत्रित किया, वहीं केरल में बकरीद पर दी गई रियायतों ने हालात को बेकाबू कर दिया है। वहाँ केवल एक दिन में 22 हजार से ज्यादा केस आए हैं और एक ही दिन में 156 मौतें भी दर्ज हुई हैं। इन आँकड़ों के साथ ही केरल वह पहला राज्य बन गया है जहाँ पिछले 50 दिन में 20 हजार के ऊपर मामले आए हों।

साभार: Covid19india.org

रिपोर्ट्स के मुताबिक राज्य में पॉजिटिविटी रेट 12.35% है। मई के बाद यह पहली दफा है कि राज्य में कोविड केसों का आँकड़ा 22 हजार पार किया हो। पूरे देश भर में रिपोर्ट हुए कोविड केसों में 53 % मामले अकेले केरल से आए हैं। पिछले 24 घंटों में जहाँ भारत में 42, 917 नए केस रिपोर्ट हुए, रिकवरी 41, 653 लोगों की हुई। ऐसे में अकेले केरल से आए एक दिन के आँकड़े (22129) चौंकाने वाले हैं।

साभार: Covid19india.org

पिछले दो हफ्तों से केरल में औसतन हर दिन 15 हजार केस दर्ज हो रहे थे। लेकिन मंगलवार को इसमें अचानक बढ़त देखने को मिली। अब तक राज्य में कुल केसों की संख्या 33, 87, 716 है। महाराष्ट्र के बाद केसों की गिनती के मामले में केरल दूसरे नंबर पर है। यहाँ अब भी 1.45 केस एक्टिव हैं जबकि महाराष्ट्र में 82000 केस एक्टिव हैं। वहीं मंगलवार को हुई 156 मौतों को मिलाकर वहाँ मरने वालों की कुल संख्या 16, 326 पहुँच गई है।

साभार: Covid19india.org

उत्तरी केरल के मुस्लिम बहुल इलाकों में सबसे ज्यादा केस रिकॉर्ड किए गए हैं। मलप्पुरम जिले ने एक ही दिन में 4,037 मामलों के साथ सबसे अधिक पॉजिटिव मामले दर्ज किए। इसके बाद त्रिशूर में 2,623; कोझीकोड में 2,397; एर्नाकुलम में 2,352; पलक्कड़ में 2,115; कोल्लम में 1,914; कोट्टायम में 1,136; तिरुवनंतपुरम में 1,100; कन्नूर में 1,072; अलाप्पुझा में 1,064; कासरगोड में 813; वायनाड में 583; पठानमथिट्टा में 523 और इडुक्की में 400 केस दर्ज हुए हैं।

साभार: Covid19india.org

माना जा रहा है कि केरल में जिस तरह से आँकड़ों में उछाल देखने को मिला है इसके पीछे का कारण पिनराई विजयन सरकार द्वारा बकरीद में दी गई राहत है। कई लोग इस पर ट्वीट कर रहे हैं। भाजपा नेता संबित पात्रा ने भी सवाल खड़े किए हैं। उनका कहना है, “बकरीद के समय 3 दिन की जो छूट केरल सरकार ने दी, उस पर सुप्रीम कोर्ट ने भी चिंता जताई और कहा कि ‘कावड़ यात्रा के मामले में हमने जो फैसला दिया है, उन हिदायतों का पालन बकरीद के समय केरल सरकार को भी करना चाहिए।’ मगर तुष्टिकरण की राजनीति जीती और सुप्रीम कोर्ट की इन हिदायतों का पालन केरल की सरकार ने किया। जिसका नतीजा है आज 22,000 केस आना।”

बता दें कि केरल सरकार ने बकरीद की वजह से 18, 19 और 20 जुलाई को लॉकडाउन में छूट दी थी। 21 जुलाई को बकरीद थी। ऐसे में त्योहार से जुड़ी खरीदारी के मद्देनजर प्रतिबंधों में ढील दी गई थी। साथ ही मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) की ओर से दी गई जानकारी में कहा गया था कि ए, बी और सी कैटेगरी की जरूरी सामान वाली दुकानों के साथ ही कपड़ा, इलेक्ट्रॉनिक्स और फैंसी ज्वैलरी की भी दुकानों को रात 8 बजे तक खोले जाने की अनुमति है।

इस मामले पर शीर्ष अदालत ने भी केरल सरकार को फटकार लगाई थी। कोर्ट ने बकरीद में दी गई राहत मामले पर सुनवाई करते हुए कहा था कि यह चौंकाने वाली स्थिति है कि केरल सरकार ने लॉकडाउन मानदंडों में ढील देने में व्यापारियों की माँग को मान लिया। इसी के साथ सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर सरकार की ओर से दी गई ढील के चलते राज्य में कोरोना का संक्रमण फैलता है तो कोर्ट उचित कार्रवाई करेगी। बेंच ने सुनवाई में साफ कहा था कि किसी भी तरह का दबाव भारत के नागरिकों के जीवन के सबसे कीमती अधिकार से ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं हो सकता है। अगर कोई अप्रिय घटना होती है तो कोई भी जनता इसे संज्ञान में ला सकती है और उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe