Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजUP में जज साहब का गायब हो गया कुत्ता, बरेली में 14 पर हुई...

UP में जज साहब का गायब हो गया कुत्ता, बरेली में 14 पर हुई FIR: पड़ोसी डंपी अहमद पर जताया शक, मारपीट-दुर्व्यवहार का भी आरोप

उत्तर प्रदेश के बरेली में एक जज साहब का कुत्ता गायब हो गया है। जज साहब लखनऊ में रहते हैं, लेकिन उनका परिवार बरेली में ही रहता है।

उत्तर प्रदेश के बरेली में एक जज साहब का कुत्ता गायब हो गया है। इस मामले में अब जज के पड़ोसी डंपी अहमद समेत 14 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। इस एफआईआर में मारपीट, बेटियों से दुर्व्यवहार का भी आरोप है। जज साहब लखनऊ में रहते हैं, लेकिन उनका परिवार बरेली में ही रहता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला बरेली के इज्जत नगर का है। जज साहब की पत्नी का आरोप है कि 16 मई को डंपी अहमद, उनकी पत्नी और साथ आए लोगों ने दुर्व्यवहार किया। डंपी अहमद और उनके साथियों ने उनके साथ ही उनकी 2 बेटियों को भी धमकाया। लेकिन 18 मई को उन्होंने उनके कुत्ते को गायब कर दिया। जज के परिवार ने आशंका जताई है कि उनके कुत्ते को शायद जान से मार डाला गया है। इस मामले में पुलिस ने पशु क्रूरता अधिनियम का भी केस जोड़ा है।

जानकारी के मुताबिक, 16 मई की देर शाम को डंपी अहमद की पत्नी ने उनके कुत्ते द्वारा काटे जाने की शिकायत की और वो जज के घर पहुँची, तभी डंपी अहमद ने जज की बेटियों के साथ बदसलूकी की। उसने पास के गाँव से एक दर्जन से अधिक साथियों को बुला लिया और पूरे परिवार को जमकर धमकाया। जज साहब ने वॉट्सऐप पर कॉल किया, तो उन्हें भी धमकाया। इस दौरान पुलिस को फोन किया गया, तो पुलिस के पहुँचने से पहले ही सभी फरार हो गए।

जज की पत्नी ने आरोप लगाया है कि 18 मई की रात उनके पालतू कुत्ते को ‘गायब’ कर दिया गया। उन्हें शक है कि आरोपितों ने ही कुत्ते को गायब कर दिया है, वो उसकी जान भी ले सकते हैं। इस पूरे प्रकरण से जज का परिवार खौफ में है।

इज्जत नगर थाने के प्रभारी निरीक्षक जयशंकर सिंह ने बताया कि जज की पत्नी की तहरीर पर एक नामजद सहित कई अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जाँच की जा रही है। इस मामले में डंपी अहमद और उसके करीब 14 अज्ञात साथियों के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम के साथ ही कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जूलियन असांजे इज फ्री… विकिलीक्स के फाउंडर को 175 साल की होती जेल पर 5 साल में ही छूटे: जानिए कैसे अमेरिका को हिलाया,...

विकिलीक्स फाउंडर जूलियन असांजे ने अमेरिका के साथ एक डील कर ली है, इसके बाद उन्हें इंग्लैंड की एक जेल से छोड़ दिया गया है।

‘जिन्होंने इमरजेंसी लगाई वे संविधान के लिए न दिखाएँ प्यार’: कॉन्ग्रेस को PM मोदी ने दिखाया आईना, आपातकाल की 50वीं बरसी पर देश मना...

इमरजेंसी की 50वीं बरसी पर पीएम मोदी ने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा। साथ ही लोगों को याद दिलाया कि कैसे उस समय लोगों से उनके अधिकार छीने गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -