Wednesday, June 26, 2024
Homeदेश-समाजजो हिंदू लड़की निकाह कर बनी मुस्लिम और फिर आतंकी... उसकी माँ ने कहा...

जो हिंदू लड़की निकाह कर बनी मुस्लिम और फिर आतंकी… उसकी माँ ने कहा – ‘बेटी को सजा मिले’

10वीं और 12वीं में अच्छे नंबर लाने वाली प्रज्ञा देबनाथ ने कॉलेज में संस्कृत पढ़ने का निर्णय लिया। इसी दौरान उसका संपर्क एक लड़के से हुए, जो आतंकवादी था। दोनों के बीच प्रेम-सम्बन्ध प्रगाढ़ होते चले गए और एक दिन...

ढाका पुलिस की काउंटर टेररिज्म एंड ट्रांसनेशनल क्राइम (सीटीटीसी) की इकाई ने शुक्रवार (जुलाई 17, 2020) को आएशा जन्नत नामक एक युवती को गिरफ्तार किया था, जिसका नाम पहले प्रज्ञा देबनाथ था। वो पश्चिम बंगाल के हुगली की निवासी है, जो पहले संस्कृत की छात्रा थी। इस्लामी धर्मान्तरण के बाद कट्टरता की आग में ऐसी कूदी कि अब वो आतंकी संगठनों में भर्ती करती है।

इससे अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि पश्चिम बंगाल में इस्लामी धर्मान्तरण और माइंडवॉश का कैसा खतरनाक खेल चल रहा है। कोलकाता ही नहीं बल्कि पश्चिम बंगाल के अन्य जिलों में, गाँवों में असली खेल चल रहा है। आएशा जन्नत (पहले प्रज्ञा देबनाथ) बंगाल की धनियाखाली कॉलेज में पढ़ाई करती थी। उसकी माँ गीता कपड़ों की सिलाई कर के परिवार का पालन-पोषण करती है। लॉकडाउन में उसके पिता प्रदीप की भी नौकरी छिन गई।

प्रदीप बतौर सिक्योरिटी गार्ड काम करते थे। दसवीं और बारहवीं की परीक्षाओं में अच्छे नंबर लाने वाली प्रज्ञा देबनाथ (अब आएशा जन्नत) ने कॉलेज में संस्कृत पढ़ने का निर्णय लिया। इसी दौरान उसका संपर्क एक लड़के से हुए, जो आतंकवादी था। दोनों के बीच प्रेम-सम्बन्ध प्रगाढ़ होते चले गए और एक दिन अचानक से प्रज्ञा देबनाथ ने अपनी माँ को फोन कर के बताया कि उसने इस्लाम अपना कर अपने बॉयफ्रेंड से निकाह कर लिया है और अब आएशा जन्नत बन गई।

उसी लड़के ने प्रज्ञा देबनाथ को ऑनलाइन बंगाल व बांग्लादेश के आतंकी संगठनों से परिचय कराया। प्रज्ञा देबनाथ सितम्बर 24, 2016 को किताब खरीदने के बहाने घर से बाहर जो निकली, उसके बाद वापस नहीं लौटी। बस उसके परिवार तक उसका कॉल ही आया, जिसने सबके होश उड़ा दिए। वो बांग्लादेश में जन्नतुल तस्नीम नाम से काम करती थी। आतंकी के तौर पर उसका नाम आएशा जन्नत रखा गया।

आतंकी आएशा जन्नत का सफर

अधिकतर आतंकी संगठन अपने आतंकियों को ऐसे ही कई नामों से काम करने की सलाह देते हैं। आएशा ने ऑनलाइन माध्यमों का इस्तेमाल कर के युवाओं को भड़काना शुरू कर दिया। इसके बाद वो बांग्लादेश के ही एक अनरजिस्टर्ड मदरसा में पढ़ाने लगी। बांग्लादेश को वैसे भी ‘टेरर इन्ट्रोडक्शन प्रोग्राम’ का अड्डा माना जाता है। आएशा जमात-उल-मुजाहिद्दीन के महिला प्रकोष्ठ की सबसे बड़ी सरगना तब बन गई, जब उसकी मुखिया आसमानी खातून को गिरफ्तार किया गया।

वो मार्च 2020 से ये काम देख रही थी। उसने ओमान में स्थित एक बांग्लादेशी टेरर फाइनेंसर से निकाह किया, जो काफ़ी अमीर है। हालाँकि, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में ये भी कहा गया है कि आएशा स्कूल के दौरान ही किसी के संपर्क में आने के बाद कन्वर्ट हो गई थी। यह और बात है कि पूछताछ में उसने बताया था कि उसका जबरन धर्मांतरण हुआ था, जब वो कक्षा 9 में थी। उसकी उम्र महज 25 साल ही है, लेकिन उसने आतंक की दुनिया में कई सीढ़ियाँ बड़ी कम उम्र में लाँघ लीं।

आएशा ने साल 2016 से ही ढाका में घूमना शुरू कर दिया था। सबसे पहले उसने नकली जन्म प्रमाण पत्र बनवाया। इसकी मदद से बांग्लादेशी पहचान पत्र भी बनवाया। इतने के अलावा उसके पास एक भारतीय पासपोर्ट भी बरामद हुआ है। आएशा ने ओमान में रह रहे आमिर हुसैन सद्दाम नाम के बांग्लादेशी युवक से फोन पर ही शादी की थी। उसने ढाका में घर लिया और शहर के ही केरानीगंज और नारायणगंज इलाके में स्थित मदरसे में धार्मिक शिक्षक बन गई थी।

‘द न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ की खबर के अनुसार, उसके गाँव के लोग अभी भी उसे एक होनहार विद्यार्थी के रूप में ही जानते हैं, जो साइकिल से पढ़ने जाती थी और लोगों से हँस-बोल कर मिलती थी। उसकी माँ को वो दिन अब भी याद है जब वो हमेशा के लिए घर छोड़ कर निकल गई थी। फोन ऑफ आने के बाद परिवार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। जब उसने इस्लाम अपनाने की फोन पर जानकारी दी थी, तब उसने फोन पर कहा था कि वो अंतिम बार उनसे बात कर रही है और उनकी दुआ चाहती है।

उसके पड़ोसी कहते हैं कि वो काफी शर्मीली थी और उन्हें इसका अंदाज़ा तक नहीं था कि वो आतंकी बन जाएगी। सब उसे एक सीधी-सादी कॉलेज की लड़की के रूप में ही याद करते हैं। उसकी माँ गीता को स्थानीय मीडिया से अपनी बेटी की गिरफ़्तारी की खबर मिली। उन्होंने सोचा था कि वो अपनी बेटी को अब शायद कभी नहीं देख पाएगी। वो चाहती हैं कि क़ानून के मुताबिक उनकी बेटी को सज़ा मिले।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -