Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाज'कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो में मुस्लिम' : सिर्फ इतना लिखने पर ‘भिकू म्हात्रे’ को कर्नाटक...

‘कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो में मुस्लिम’ : सिर्फ इतना लिखने पर ‘भिकू म्हात्रे’ को कर्नाटक पुलिस ने गिरफ्तार किया, बोलने की आजादी का गला घोंट लोकतंत्र बचा रही INDI?

भिकू म्हात्रे नाम के यूजर ने कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो पर बात रखी थी, जिसकी वजह से उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

कर्नाटक की कॉन्ग्रेस सरकार ने शनिवार (18 मई 2024) को देर शाम एक सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर को गोवा से गिरफ्तार कर लिया है। सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर ‘भिकू म्हात्रे’ नाम के फिक्शनल नाम से एक्स पर अपनी राय रखते हैं। उन्होंने कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो पर बात रखी थी, जिसकी वजह से उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। खास बात ये है कि कॉन्ग्रेस के जिस मेनिफेस्टो पर लिखने के बारे में ‘भिकू म्हात्रे’ को गिरफ्तार किया गया है, उसी मेनिफेस्टो का प्वॉइंट नंबर-16 ‘अभिव्यक्ति की आजादी‘ की बात करता है।

भिकू म्हात्रे के बेटे नागेश नाईक ने इसकी सूचना एक्स पर दी। नागेश नाईक ने लिखा, “मेरे पिता @MumbaiChaDon को कर्नाटक की बेंगलुरु पुलिस गिरफ्तार करके ले गई है। ट्विटर ने ई-मेल के माध्यम से सावधान किया था, लेकिन अचानक शाम को पुलिस ने दरवाजे पर दस्तक दिया और मेरा पिता को साथ ले गई। महत्वहीन एफआईआर के नाम पर ये किया गया।”

बताया जा रहा है कि उन्होंने एक्स पर एक पोस्ट किया था, जिसमें कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो में मुस्लिम शब्द के इस्तेमाल की बात कही थी। बेंगलुरु पुलिस द्वारा दर्ज एफआईआर में उस ट्वीट का जिक्र है। जिसमें भिकू म्हात्रे ने लिखा था, ‘ये हर लिबरल और पिद्दी के मुँह पर मारो, जो ये कह रहा है कि कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो में ‘मुस्लिम’ शब्द का जिक्र नहीं है। इसमें एससी/एसटी का भी जिक्र है।’ उन्होंने कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो से जुड़ी सामग्री भी पोस्ट की थी।

इससे पहले, शनिवार (18 मई 2024) को खुद भिकू म्हात्रे (एक्स प्रोफाइल नाम) ने ही एक्स द्वारा भेजे गए मेल की सूचना दी थी, जिसमें एक्स ने एफआईआर की सूचना दी थी और सावधान किया था। उन्होंने लिखा था, ‘ तो कॉन्ग्रेस मुझे सच बोलने के लिए दबाना चाहती है। मैं किसी भी अन्याय के खिलाफ लड़ाई के लिए तैयार हूँ और पूरी न्यायिक लड़ूँगा, चाहे इसके लिए मुझे सर्वोच्च न्यायालय तक ही क्यों न जाने पड़े। मैंने कभी भी किसी को नुकसान पहुँचाने वाला या कम्युनल कमेंट पोस्ट नहीं लिखा है।’

दरअसल, एक्स ने उन्हें मेल के माध्यम से सूचित किया था, “हमें बेंगलुरु सिटी मजिस्ट्रेट की तरफ से आपके एक्स अकाउंट (@MumbaichaDon) को लेकर कोर्ट ऑर्डर मिला है, जिसमें आपके अकाउंट से जुड़ी जानकारी माँगी गई है।” एक्स ने आगे लिखा था कि हम आपको कानूनी सहायता तो नहीं दे सकते, लेकिन आप अपने वकील से इस बारे में जरूर चर्चा कर लें।

भारतीय जनता पार्टी के महासचिव विनोद तावड़े ने कॉन्ग्रेस पर जोरदार हमला बोला। उन्होंने कहा कॉन्ग्रेस मेनिफेस्टो पर अपनी राय रखने वाले @MumbaiChaDon की कर्नाटक पुलिस द्वारा गिरफ्तारी की निंदा करता हूँ। ये अभिव्यक्ति की आजादी पर हमले का बेहद खराब और खतरनाक उदाहरण है। कॉन्ग्रेस वालों को ये समझने की जरूरत है कि विभिन्न विचारों से लोकतंत्र मजबूत होता है, विचारों को कुचलने से नहीं।

इस मामले में एक्स पर कई लोगों ने कॉन्ग्रेस की निंदा की है। बता दें कि ये पहला मामला नहीं है, जिसमें एक्स पर रखे गए विचारों की वजह से कॉन्ग्रेस की सरकारों ने इतना बड़ा कदम उठाया हो। पहले भी ऐसे मामले आ चुके हैं। पंजाब की आम आदमी पार्टी की सरकार ने तो मुजफ्फरनगर से यूट्यूबर रचित को दिन-दहाड़े उठा लिया था। वो दिल्ली से एक पारिवारिक विवाह समारोह में शामिल होने गए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

शराब घोटाले में जेल में ही बंद रहेंगे दिल्ली के CM केजरीवाल, हाई कोर्ट ने जमानत पर लगाई रोक: निचली अदालत के फैसले पर...

हाई कोर्ट ने कहा कि निचली अदालत ने मामले के पूरे कागजों पर जोर नहीं दिया जो कि पूरी तरह से अनुचित है और दिखाता है कि अदालत ने मामले के सबूतों पर पूरा दिमाग नहीं लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -