Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजबिहारी हैं तो गाली मिलेगी... भले IPS हों: हंटर वाली DG पर IG विकास...

बिहारी हैं तो गाली मिलेगी… भले IPS हों: हंटर वाली DG पर IG विकास वैभव का आरोप, नीतीश कुमार से नहीं संभल रहे अफसर?

"सबसे अधिक दुख तब हुआ जब 9वीं कक्षा की अनुभूति के पश्चात पुन: बिहारी बोलकर इसलिए गाली दिया गया चूँकि उनका मानना है कि बिहार के मुख्यमंत्री ने उन्हें DG के लिए योग्य नहीं माना और नहीं चुना।"

बिहार कैडर के आईपीएस अधिकारी विकास वैभव के सोशल मीडिया पोस्ट वायरल हो रहे हैं। उन्होंने ट्विटर और फेसबुक पर पोस्ट करते हुए अपने विभाग की डीजी शोभा अहोतकर पर गाली देने का आरोप लगाया है। उनके फेसबुक और ट्विटर अकाउंट से बाद में पोस्ट डिलीट कर दिए गए लेकिन पोस्ट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है।

होमगार्ड और फायर डिपार्टमेंट में पोस्टेड आईजी विकास वैभव सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। विकास वैभव ने सोशल मीडिया पर अपना दर्द बयाँ करते हुए अपने ही डिपार्टमेंट की डीजी शोभा अहोतकर पर गाली गलौज करने का आरोप लगाया है। पोस्ट में आईपीएस अधिकारी विकास वैभव ने लिखा था, “मुझे होमगार्ड और फायर डिपार्मेंट में आईजी का दायित्व 18 अक्टूबर, 2022 को दिया गया था। तब से ही सभी नव दायित्वों के निर्वहन हेतु हरसंभव प्रयास कर रहा हूँ। प्रतिदिन तब से ही अनावश्यक ही DG मैडम के मुख से गालियाँ ही सुन रहा हूँ! परंतु यात्री मन आज वास्तव में द्रवित है।

आईपीएस विकास वैभव के ट्वीट का स्क्रीन शॉट

विकास वैभव का यह पोस्ट अब उनके सोशल मीडिया अकाउंट्स पर उपलब्ध नहीं है। उनके ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है। इसके अलावा ट्विटर और फेसबुक पर उनके कुछ और पोस्ट हैं, जो इतना बतलाने के लिए काफी हैं कि डिपार्मेंट में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है।

8 और 9 फरवरी की आधी रात को आईपीएस अधिकारी विकास वैभव ने ट्वीट किया “यात्री मन व्याकुल है!बंधनों से मुक्त होना चाहता है! परिस्थितियाँ भले अवरोध उत्पन्न करती प्रतीत हो रहीं हों परंतु यात्री मन यह भी जानता है कि यात्री मन को कोई बांध नहीं सकता है! जो निर्धारित है वह स्वयं अपना मार्ग प्रशस्त करेगा! शेष सब माया ही है परंतु कर्म महत्वपूर्ण है!”

इस पोस्ट के साथ एक ऑडियो भी सुना जा सकता है, जिसमें वे भीड़ से अलग रास्ता चुनने की बात कर रहे हैं। विकास कहते हैं कि यह रास्ता मैंने खुद चुना है और इसके लिए मैं खुद जिम्मेदार हूँ। इस रास्ते में मुश्किलें बहुत आईं जिनसे मैं लड़ रहा हूँ। मुझे मजा आता है इन परेशानियों में।

इसके अलावा फेसबुक पर उनके 2 स्लाइड भी वायरल हैं। जिसमें पहले स्लाइड में उन्होंने लिखा है कि सबसे अधिक दुख तब हुआ जब 9वीं कक्षा की अनुभूति के पश्चात पुन: बिहारी बोलकर इसलिए गाली दिया गया चूँकि उनका मानना है कि बिहार के मुख्यमंत्री ने उन्हें DG के लिए योग्य नहीं माना और नहीं चुना। चूँकि DG बनने के लिए उनके द्वारा Homeguards and Fire Services के लिए कार्य किया जा रहा था परंतु निराशा में भी ऐसी पराकाष्ठा हुई कि वचनों पर भी नियंत्रण नहीं रहा, सच में द्रवित हूँ। महाराष्ट्र में अनेक महापुरुष मेरे आदर्श हैं। छत्रपति शिवाजी तथा स्वातंत्रवीर प्रेरणा हैं। यात्रीमन गतिमान है और रहेगी। ऊँ।’

दूसरी स्लाइड में लिखा गया है कि उनकी पत्नी तथा माता को संबोधित करके उन्हें वरीय डीजी मैडम ने एकान्त में गाली दी। विकास वैभव ने लिखा कि वो रिकॉर्डिंग कर सकते थे, इसलिए मोबाइल साथ लाने से मना किया गया। उन्होंने आगे लिखा:

“सच में दुखी हूँ। संन्यास हेतु यात्री मन वास्तव में आशान्वित है परंतु किंकर्तव्यविमूढ़ नहीं होना चाहता हूँ। भयानक रूप से द्रवित हूँ, सब माया है, ऐसे अपमान के लिए सर्वशक्तिमान से ही प्रार्थनारत हूँ।”

फेसबुक स्लाइड साभार नवभारत टाइम्स

मीडिया रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि विकास वैभव इस घटना के बाद से आहत होकर 60 दिनों की लंबी छुट्टी पर चले गए हैं। डीजी शोभा अहोतकर के बारे में आप ऐसे जान सकते हैं कि कभी वो हंटर वाली के नाम के फेमस रही हैं।

बता दें कि इसके पहले भी ऐसी कई खबरें सामने आई हैं, जिससे बिहार के प्रशासनिक अधिकारियों की बदजुबानी का पता चला है। कुछ दिन पहले सीनियर आईएएस केके पाठक का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें उन्हें अपने जूनियर अफसरों को गालियाँ देते सुना जा सकता है। उनके अलावा आईपीएस अधिकारी आईजी अमित लोढ़ा और एसएसपी आदित्य कुमार के बीच भी विवाद की खबरें सामने आती रही हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -