Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजराजा बेटे पर हत्या करवाने का आरोप, माँ बिहार पुलिस को हड़का रही: कहा-...

राजा बेटे पर हत्या करवाने का आरोप, माँ बिहार पुलिस को हड़का रही: कहा- कोई चोर चिल्लर है जो भाग जाएगा… RJD नेता बीमा भारती की हनक देखी आपने?

बीमा भारती ने आरोप लगाया कि उनके बेटे को जबरन इस मामले में फंसाया जा रहा है और इसके लिए दूसरे लोगों पर दबाव डाल कर बयान दिलवाए गए हैं। उन्होंने सरकार पर पक्षपात के आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि उनका बेटा थाने पहुँच जाएगा।

पूर्णिया की राजद नेता बीमा भारती के पटना स्थित आवास पर बिहार पुलिस ने दबिश दी है। यहाँ पुलिस उनके बेटे राजा के संबध में तलाश करते हुए पहुँची थी। राजा पूर्णिया के एक बड़े कारोबारी की हत्या करवाने के मामले में फरार है। उसके कुछ साथियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

पुलिस की एक टीम मंगलवार (18 जून, 2024) को बीमा भारती के पटना स्थित आवास पहुँची और राजा के विषय में जानकारी हासिल करने का प्रयास किया। पुलिस को घर पर देख कर बीमा भारती भड़क गईं। बीमा भारती ने कहा, “अचानक से आप लोग आ गए हैं, जाँच कीजिएगा जाएगा थाना। कोई चोर-चिल्लर नहीं है जो भाग जाएगा। किसी के बेटा को मार मार के उनका नाम उगलवाईएगा। यहाँ महिला हैं, किसी के सरकारी आवास में घुस गए हैं।”

उन्होंने कहा, “वो पहुँच जाएगा थाना, पूछताछ करते रहिएगा। जहाँ भवानीपुर थाना है, वहाँ पहुँच जाएगा।” बीमा भारती ने आरोप लगाया कि उनके बेटे को जबरन इस मामले में फंसाया जा रहा है और इसके लिए दूसरे लोगों पर दबाव डाल कर बयान दिलवाए गए हैं। उन्होंने सरकार पर पक्षपात के आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि उनका बेटा थाने पहुँच जाएगा।

गौरतलब है कि बीमा भारती का बेटे राजा पर पूर्णिया के व्यापारी गोपाल यादुका की हत्या के लिए ₹5 लाख की सुपारी देने का का आरोप है।

बीमा भारती के बेटे पर क्या आरोप?

पुलिस ने इस मामले में बताया था कि संजय नाम के एक शख्स से गोपाल यादुका का जमीनी विवाद था। वह गोपाल यादुका की हत्या करवाने के लिए शूटर तलाश रहा था। संजय, राजा का दोस्त है। जब उसे शूटर नहीं मिले तो उसने अपनी यह परेशानी बीमा भारती के बेटा राजा को बताई, इसके बाद राजा ने हत्या करवाने के लिए शूटर उपलब्ध करवाए।

हत्या के लिए ₹5 लाख में डील तय हुई थी। इसके लिए विशाल नाम के शूटर को सुपारी दी गई थी। विशाल ने एक विकास यादव नाम के एक और अपराधी को अपने साथ इस हत्या के लिए शामिल किया था। दोनों ने 2 जून, 2024 को सुबह ही गोपाल यादुका की हत्या कर दी। इस दौरान वह भवानीपुर में अपनी दुकान खलने गए हुए थे। हत्या के दौरान ब्रजेश यादव और संजय भी मौजूद थे। ब्रजेश यादव भी राजा का दोस्त है।

इस हत्या के बाद यह चारों राजा के पास कडवा वासा इलाके में इकट्ठा हुए जहाँ सबने मिलकर मटन पार्टी की। राजा ने इस दौरान ब्रजेश यादव को ₹48,00 और विकास यादव को ₹50,000 दिए। विकास को हत्या से पहले भी ₹76,000 भेजे जा चुके थे। पुलिस ने हत्या के खुलासे के बाद विकास यादव, ब्रजेश यादव और संजय को गिरफ्तार कर लिया है। राजा इस हत्या के खुलासे के बाद फरार हो गया है। उसकी तलाश की जा रही है। इसी क्रम में पुलिस बीमा भारती के आवास पर पहुँची थी।

दूसरी तरफ बीमा भारती पूर्णिया से हालिया लोकसभा चुनाव हारने के बाद अब विधानसभा उपचुनाव में उतरने जा रही हैं। मंगलवार (18 जून, 2024) को बीमा भारती ने स्पष्ट किया है कि उन्हें राजद विधानसभा उपचुनाव के लिए भी टिकट दे रही है। उन्होंने कहा है कि इस सीट से वह खुद या उनके पति चुनाव लड़ेंगे। बीमा भारती का बेटा राजा लोकसभा चुनाव के दौरान तेजस्वी यादव के बगल में खड़ा देखा गया था। बीमा भारती रुपौली विधानसभा से पाँच बार की विधायक हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -