Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज18 जनवरी से 23 मार्च के बीच विदेशों से भारत आए 15 लाख से...

18 जनवरी से 23 मार्च के बीच विदेशों से भारत आए 15 लाख से ज़्यादा यात्री, केंद्र ने राज्‍यों से कहा सब पर रखें निगरानी

कैबिनेट सचिव गाबा ने राज्य सरकारों से यह भी कहा कि भारत में बाहर से आने वाली कामर्शियल फ्लाइट्स पर बैन लगाने के पहले जितने अंतरराष्ट्रीय यात्री बाहर से आए थे उनकी मॉनिटरिंग बढ़ाई जाए।

देश के टॉप मोस्ट ब्यूरोक्रेट कैबिनेट सचिव राजीव गाबा ने आज सभी राज्‍यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के सचिवों से कहा कि बीती 18 जनवरी से 23 मार्च के बीच 15 लाख अंतरराष्ट्रीय यात्री भारत आए हैं, जिनकी सही प्रकार से निगरानी की जानी चाहिए थी, किन्तु ऐसा प्रतीत होता है कि जितने यात्रियों की निगरानी अपेक्षित थी और जितनों की मॉनिटरिंग की गई उस के बीच एक बड़ा फासला रह गया है, जो कोरोना महामारी के खिलाफ हमारी लड़ाई को काफी क्षति पहुँचा सकता है।

कैबिनेट सचिव गाबा ने राज्य सरकारों से यह भी कहा कि भारत में बाहर से आने वाली कामर्शियल फ्लाइट्स पर बैन लगाने के पहले जितने अंतरराष्ट्रीय यात्री बाहर से आए थे उनकी मॉनिटरिंग बढ़ाई जाए। मीडिया के अनुसार ये पहली बार नहीं है कि केंद्र ने राज्यों को उन भारतीय तथा गैर भारतीय लोगों पर निगाह रखने को कहा है जो बीते दिनों बाहर से आए हैं। इससे पहले भी स्वास्थ्य मंत्रालय राज्यों से इस संदर्भ में और अधिक प्रयास करने को कहता आया है लेकिन राज्यों से अपेक्षित प्रतिक्रिया न आने पर आज कैबिनेट सेक्रेटरी को इस बारे में दिशा निर्देश जारी करने पड़े।

ध्यातव्य है कि कोरोना से संबंधित मीडिया रिपोर्ट्स में लगातार ऐसे समाचार जगह बनाते रहें हैं जहाँ कहीं किसी बाहर से यात्री ने अपनी क्वारंटाइन मुहर इत्र से मिटा दी तो कहीं बाहर से आए लोग जाँच पड़ताल से बचने के लिए देश के भीतर हवाई यात्रा की जगह ट्रेनों और बसों के जरिए यात्रा करते पाए गए। मीडिया में आई एक रिपोर्ट में कहा गया था कि विदेशों से आने वाले कुछ यात्री अपना कोरोना संक्रमण छिपाने के लिए की जाने वाली थर्मल जाँच से पहले पैरासिटामॉल की दवाएं ले रहे थे। जानकारों के अनुसार कोरोना संक्रमित मरीज का यह बर्ताव न सिर्फ उसके खुद के लिए बल्कि सारे समाज और देश के लिए बेहद खतरनाक और गैर जिम्मेदाराना है।

याद रहे कि दिसंबर में चीन के वुहान से शुरू हुआ यह कोरोना वायरस संक्रमण आज पूरी दुनिया में फैल चुका है। जिसमें कोरोना के सबसे अधिक पॉजिटिव केसों के मामलों में अमेरिका अब चीन को भी पीछे कर पहले स्थान पर पहुंच गया है। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 81,321 हो गई है। पूरी दुनिया में जानलेवा कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या अब बढ़कर पाँच लाख से अधिक हो गई है जिसमें से 22,000 के ज्यादा लोग इस महामारी के कारण जान गँवा चुके हैं। इसकी वजह से दुनिया की एक तिहाई आबादी आज लगभग 2.8 अरब लोग पूरी दुनिया में लॉकडाउन की स्थिति में हैं। वहीं भारत में अबतक 724 कोरोना पॉजिटिव केसेस की पुष्टि हो चुकी है, जिनमें से 17 की मौत इस बीमारी के कारण हुई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe