Saturday, June 15, 2024
Homeदेश-समाजजमात ने की इस्लामी ड्रेस की डिमांड, दिसंबर से पहनने लगीं बुर्का: अल्लाह हू...

जमात ने की इस्लामी ड्रेस की डिमांड, दिसंबर से पहनने लगीं बुर्का: अल्लाह हू अकबर वाली लड़की को जमीयत देगा ₹5 लाख, पाकिस्तान से भी वाहवाही

कॉलेज प्रशासन का कहना है कि कॉलेज में 150 के करीब मुस्लिम छात्राएँ हैं लेकिन कभी ऐसी माँग नहीं की गई। कॉलेज के अनुसार, ये 8 लड़कियाँ सीएफआई से जुड़ी हुई हैं। लड़कियों ने भी माना है कि इन्होंने कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया के लोगों से काउंसलिंग ली थी।

कर्नाटक में शुरू हुए बुर्के विवाद के कनेक्शन धीरे-धीरे इस्लामी कट्टरपंथियों से जुड़ते जा रहे हैं। पिछले दिनों एक रिपोर्ट सामने आई थी जिसमें बताया गया था कि कैसे हिजाब पहन कर क्लास में बैठने की जिद्द करने वाली मुस्लिम छात्राएँ पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के छात्र संगठन ‘कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया’ से संपर्क में आई थीं। उसके बाद उन्हें हिजाब पहनने का ख्याल आना शुरू हुआ और इसके बाद उन्होंने अपनी स्कूल यूनिफॉर्म रूल्स को ताक पर रख कर अपनी जिद्द पकड़ ली। उनके द्वारा शुरू किए गए इस बवाल के बाद जब हिंदुओं ने इसका विरोध किया, तो कुछ जगह उन पर पत्थरबाजी हुई और एक जगह एक मुस्लिम छात्रा हिंदू भीड़ के आगे आकर अल्लाह-हू-अकबर का नारा देकर पाकिस्तान तक में फेमस हो गई।

हिजाब पहनने की माँग शुरू हुई CFI काउंसलिंग के बाद

बता दें कि कॉलेज प्रशासन का कहना है कि कॉलेज में 150 के करीब मुस्लिम छात्राएँ हैं लेकिन कभी ऐसी माँग नहीं की गई। कॉलेज के अनुसार, ये 8 लड़कियाँ सीएफआई से जुड़ी हुई हैं। लड़कियों ने भी माना है कि इन्होंने कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया के लोगों से काउंसलिंग ली थी। इनका कहना है कि शुरू में इन्हें लगा कि इनके अभिभावकों ने कोई फॉर्म साइन किया है जिसमें हिजाब पहनना प्रतिबंधित है। लेकिन बाद में पता चला कि ऐसा कुछ नहीं है। लड़कियों के अनुसार हिजाब के लिए उनके घरवालों ने कॉलेज से बात की थी मगर उसकी सुनवाई नहीं हुई। इसलिए वह स्कूल में खुद ही हिजाब पहनकर आ गईं। रिपोर्ट बताती है कि अक्टूबर के माह में कुछ मुस्लिम लड़कियों ने एबीवीपी के प्रोटेस्ट में भाग लिया था। जब पीएफआई ने इसे देखा तो वो नाराज हो गए और बताया कि मुस्लिमों को नहीं पता था कि वो एबीवीपी का प्रदर्शन है। उनकी सीएफआई द्वारा काउंसलिंग कर दी गई है।

सऊदी से फंड पाने वाले संगठन जमात-ए-इस्लामी हिंद चाहता है स्कूलों में बुर्का

जानकारी के अनुसार, इस पूरे मामले में न केवल कट्टरपंथी समूह पीएफआई का छात्र संगठन अपनी भूमिका अदा कर रहा है बल्कि जमात-ए-इस्लामी हिंद भी लड़कियों को हिजाब पहनाने के लिए सक्रिय है। 30 दिसंबर 2021 को इसके छात्र संगठन ‘स्टूडेंट्स इस्लामिक ऑर्गेनाइजेशन’ ने प्रशासन अधिकारियों से इस्लामी ड्रेस कोड लागू करवाने के लिए मुलाकात की थी। ये जमात-ए- इस्लामी हिंद के बारे में बता दें कि इन्हें इस्लामी ड्रेस कोड लागू करवाने के लिए सऊदी अरब से पैसा आता है। ये खुलासा पिछले वर्ष क्लबहाउस चर्चा के समय हआ था कि इन संगठनों को जेद्दाह की अब्दुल आजिज यूनिवर्सिटी से फंड आता है। इस संगठन को भारत सरकार ने बैन भी किया हुआ है

अल्लाह-हू-अकबर कहने वाली मुस्कान को जमीयत उलेमा-ए-हिंद से 5 लाख रुपए का इनाम

इतना ही नहीं, हाल में चल रहे विवाद में एक मुस्कान खान की वीडियो वायरल हुई थी जो हिंदू भीड़ के सामने जाकर अल्लाह हू अकबर का नारा लगा रही थी। उसकी वीडियो देखने के बाद कट्टरपंथियों का परा समूह इतना खुश है कि मुस्कान खान को 5 लाख रुपए का इनाम देने की घोषणा की है। जमीयत उलेमा ए हिंद के ट्वीट में देखा जा सकता है कि हिजाब को बुनियादी अधिकार बताते हुए कहा गया कि इससे किसी को वंचित नहीं रखा जा सकता। बुर्का पहन सड़क पर उतरी मुस्कान खान की तारीफें पाकिस्तान में भी हुई हैं। उनके द्वारा लगाए गए अल्लाह हू अकबर के नारे को ‘हिंदुत्व को जवाब’ बताया जा रहा है। मुश्ताक अहमद उसके लिए लिखथे हैं कि ये लड़की हिंदुत्व के घोर अंधेरे में उनके लिए एक उजाला है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

कर्नाटक में बढ़ाए गए पेट्रोल-डीजल के दाम: लोकसभा चुनाव खत्म होते ही कॉन्ग्रेस ने शुरू की ‘वसूली’, जनता पर टैक्स का भार बढ़ा कर...

अभी तक बेंगलुरु में पेट्रोल 99.84 रुपये प्रति लीटर और डीजल 85.93 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था, लेकिन नए आदेश के बाद बढ़ी हुई कीमतें तत्काल प्रभाव से लागू हो गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -