Thursday, April 15, 2021
Home देश-समाज नक्सलियों ने बनाया था 'U व्यूह', 15 दिन किया इंतजार: हत्या से पहले काटे...

नक्सलियों ने बनाया था ‘U व्यूह’, 15 दिन किया इंतजार: हत्या से पहले काटे इंस्पेक्टर के हाथ, टीम लीडर पर जवानों से अधिक हमले

'U शेप' व्यूह 15 दिन पहले बना ली गई थी। 3 गाँव खाली करा लिए गए थे। जब सुरक्षाबल इस जाल में फँसे तो टीम का नेतृत्व कर रहे जवानों पर अधिक हमले किए गए। ऐसा करके नक्सलियों ने...

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में हुए नक्सली हमले में 22 जवानों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। सशस्त्र बलों को गुप्त सूचना मिली थी कि एक बड़ा माओवादी कमांडर वहाँ छिपा हुआ है, जिसके बाद वो इलाके में पहुँचे थे। बीजापुर में हुए इस हमले में नक्सलियों ने ‘U’ शेप का व्यूह बनाया हुआ था। यहाँ तक कि सशस्त्र बलों तक वो ‘गुप्त सूचना’ भी उन्होंने ही पहुँचवाई थी। इसके बाद वो जैसे ही इलाके में पहुँचे, माओवादियों ने अपना जाल बिछा कर हमला बोल दिया।

इस माओवादी हमले का नेतृत्व प्रतिबंधित संगठन के ‘बटालियन नंबर 1’ का कुख्यात कमांडर माडवी हिडमा कर रहा था, जिसकी तलाश पुलिस को कई वर्षों से है। उसने अपने साथ 300 की संख्या में नक्सलियों को जुटाया और आसपास के 3 गाँवों को खाली करा लिया। जानबूझ कर जवानों को जंगल वाले इलाके में ले जाया गया। जब तक जवानों को इसका पता चलता, वो फँस चुके थे और भौगोलिक रूप से भी सही स्थिति में नहीं थे।

वो जगह ऐसी थी, जहाँ दोनों तरफ से पहाड़ियाँ थीं और माओवादियों की फायरिंग चालू थी। जवान न भाग सकते थे और न उनके पलटवार का ज्यादा असर होता। जब जवानों ने वहाँ से लौटने की कोशिश की तो उन्हें घेर लिया गया। ‘U शेप व्यूह’ के बारे में बता दें कि इसमें भागने के लिए एक ही जगह होती है – वो रास्ता, जहाँ से आपने एंट्री ली हो। जीरागाँव 3 ओर से पहाड़ियों से घिरा है और लौटते हुए जवानों पर ताबड़तोड़ फायरिंग की गई।

जब वो वापस उसी रास्ते से लौटने लगे, तब माओवादियों ने उन्हें घेर लिया। बता दें कि महाभारत युद्ध के तीसरे दिन जब भीष्म पितामह ने दुर्योधन के साथ मिल कर ‘गरुड़’ के आकार की व्यूह रचना की थी, तब पांडवों ने ‘U शेप’ का व्यूह बना कर ही उसे ध्वस्त करने में सफलता पाई थी। इसी ‘U शेप’ एनकाउंटर का सामना जवानों को बीजापुर में करना पड़ा। माडवी हिडमा ने बस्तर के विभिन्न इलाकों से नक्सलियों को बुलाया था।

उसकी साजिश काफी पुरानी थी, लेकिन सशस्त्र बलों ने 15 दिनों तक क्षेत्र में जाना उचित नहीं समझा। वो बौखलाता जा रहा था क्योंकि इतने दिनों तक इतनी बड़ी संख्या में नक्सलियों के रहने और राशन-पानी की व्यवस्था में खासा खर्च आ रहा था। शुक्रवार (अप्रैल 2, 2021) को 1700 जवानों ने सुकमा और बीजापुर में तलाशी अभियान शुरू किया था। 11 बजे अभियान शुरू हुआ और 45 मिनट बाद 450 जवानों का एक दल जोनगुडा, जीरागाँव और टेकलगुड़ुम से अपने कैम्प लौट रहा था।

तीनों गाँव पहले ही नक्सलियों द्वारा खाली करा लिए गए थे। जंगलों और पत्थरों के कारण ये नक्सलियों का गढ़ है और वो उसी का फायदा उठा कर छिपे हुए थे। ये भी माना जा रहा है कि पुलिस-प्रशासन ने माओवादियों की क्षमता को कम कर के आँका। माओवादियों की संख्या के बारे में उन्हें पता था लेकिन रणनीतिक योजना नहीं बनाई गई। नक्सलियों ने पहले ही सारी प्रैक्टिस कर ली थी। टीम का नेतृत्व कर रहे जवानों पर अधिक हमले किए गए।

फील्ड कमांडरों को निशाना बनाया गया। CRPF कोबरा और ‘डिस्ट्रिक्ट रिज़र्व गार्ड (DRG)’ के फील्ड कमांडरों को निशाना बनाया गया। सिल्गेर गाँव में छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा कैम्प स्थापित करने के फैसले से माओवादी भड़के हुए थे। इस कैम्प के बनने से बीजापुर और सुकमा के बीच माओवादियों का ‘सेफ रूट’ ख़त्म हो जाता। मार्च से जुलाई के बीच हर साल नक्सलियों के खिलाफ वार्षिक ऑपरेशन चलाया जाता है।

इस हमले में 31 जवान घायल हुए हैं और कई अभी भी गायब बताए जा रहे हैं। माओवादियों की एक टुकड़ी ने एक इंस्पेक्टर की हत्या से पहले उनका हाथ काट डाला और फिर हथियार लूट कर फरार हो गए। उन्होंने बुलेटप्रूफ जैकेट्स और बंदूकें भी लूट ली। कुछ जवान डिहाइड्रेशन की वजह से बलिदान हो गए। डेढ़ दर्जन के करीब नक्सलियों की लाशें भी मिली हैं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह असम में चुनावी अभियान बीच में छोड़ कर दिल्ली लौटे और बैठकें की।

माडवी हिडमा की उम्र लगभग 40 वर्ष है। वह सुकमा जिले के पुवर्ती गाँव का रहने वाला है। 90 के दशक में वह नक्सली बना था। नक्सल कमांडर माडवी हिडमा कई नामों से जाना जाता है। मसलन, संतोष उर्फ इंदमुल उर्फ पोडियाम भीमा। बताया जाता है कि छत्तीसगढ़ पुलिस समेत कई नक्सल प्रभावित राज्यों की पुलिस इस मोस्टवांटेड नक्सली की तलाश में है। हिडमा पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी (PLGa) बटालियन नंबर 1 का प्रमुख है और ऐसे घातक हमले करने के लिए जाना जाता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

कोरोना पर कुंभ और दूसरे राज्यों को कोसा, खुद रोड शो कर जुटाई भीड़: संजय राउत भी निकले ‘नॉटी’

संजय राउत ने महाराष्ट्र में कोरोना के भयावह हालात के लिए दूसरे राज्यों को कोसा था। कुंभ पर निशाना साधा था। अब वे खुद रोड शो कर भीड़ जुटाते पकड़े गए हैं।

‘वीडियो और तस्वीरों ने कोर्ट की अंतरात्मा को हिला दिया है…’: दिल्ली दंगों में पिस्टल लहराने वाले शाहरुख को जमानत नहीं

दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली दंगों के आरोपित शाहरुख पठान को जमानत देने से इनकार कर दिया है।

ESPN की क्रांति, धार्मिक-जातिगत पहचान खत्म: दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के मैच की कॉमेंट्री में रिकॉर्ड

ESPN के द्वारा ‘बैट्समैन’ के स्थान पर ‘बैटर’ और ‘मैन ऑफ द मैच’ के स्थान पर ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ जैसे शब्दों का उपयोग होगा।

‘बेड दीजिए, नहीं तो इंजेक्शन देकर उन्हें मार डालिए’: महाराष्ट्र में कोरोना+ पिता को लेकर 3 दिन से भटक रहा बेटा

किशोर 13 अप्रैल की दोपहर से ही अपने कोरोना पॉजिटिव पिता का इलाज कराने के लिए भटक रहे हैं।

बाबा बैद्यनाथ मंदिर में ‘गौमांस’ वाले कॉन्ग्रेसी MLA इरफान अंसारी ने की पूजा, BJP सांसद ने उठाई गिरफ्तारी की माँग

"जिस तरह काबा में गैर मुस्लिम नहीं जा सकते, उसी तरह द्वादश ज्योतिर्लिंग बाबा बैद्यनाथ मंदिर में गैर हिंदू का प्रवेश नहीं। इरफान अंसारी ने..."

प्रचलित ख़बरें

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,216FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe