Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाज'तुम्हारे भगवान भिखारी…तुम्हें क्या देंगे जब खुद भीख माँगते हैं': महाराष्ट्र के आलंदी में...

‘तुम्हारे भगवान भिखारी…तुम्हें क्या देंगे जब खुद भीख माँगते हैं’: महाराष्ट्र के आलंदी में हिंदुओं को ईसाई बनाने का प्रयास, 14 पर मुकदमा दर्ज

शिकायतकर्ता के मुताबिक, धर्मांतरण कराने आए लोगों ने हिंदू देवी-देवताओं को गाली बकी। वासुदेव अवतार को देखकर कहा- "तुम्हारा भगवान तो खुद भीख माँगता है तुम्हें क्या देगा। तुम्हें जीसस को पूजना चाहिए।"

महाराष्ट्र के पुणे जिले से जबरन धर्मांतरण का मामला सामने आया है। यहाँ आलंदी क्षेत्र के मरकल गाँव में पैसे का लालच देकर कुछ लोगों को ईसाई बनाने की कोशिश की जा रही थी। इस सिलसिले में आलंदी पुलिस स्टेशन में 14 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है। आरोपितों में तीन महिलाएँ और एक नाबालिग भी शामिल है। आरोपितों पर दो समुदायों के बीच नफरत फ़ैलाने का भी आरोप लगाया गया है।

ऑपइंडिया को मिली एफआईआर के मुताबिक, इस सिलसिले में रविवार (15 जनवरी) को मरकल के रहने वाले हिंदू व्यक्ति प्रसाद सालुंखे ने आलंदी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी। अपनी शिकायत में उन्होंने प्रदीप वाघमारे, प्रशांत वाघमारे, रौनक शिंदे, अशोक पंधारे, तेजस चांदने, मुकेश विश्वकर्मा, लक्ष्मण नायडू, एम बी यून, जे यून और इशाल साल्वे का नाम दिया। इनमें तीन महिलाएँ और एक 17 साल के लड़के का भी नाम है।

सालुंखे ने कहा कि उन्हें और उनके परिवार को ईसाई बनाने के लिए इन लोगों ने बहुत प्रताड़ित किया। उन्होंने बताया कि 15 जनवरी को दो लोग- प्रदीप वाघमारे और प्रशांत वाघमारे उनके इलाके में आए और पूछा कि क्या वो ईसाई धर्म के बारे में जानते हैं। इसके बाद उन्होंने लोगों को पैसों का लालच दिया, बिजनेस चलाने में मदद करने का वादा किया और फिर सालुंखे के परिवार को ईसाई बनने को बोला।

ऑपइंडिया को मिली एफआईआर

शिकायतकर्ता कहता है, “बाद में उन्होंने (आरोपितों) हिंदू देवी-देवताओं की तस्वीर हमारे घर में देखी और देखते ही उन्हें गाली देने लगे। उन लोगों ने कहा कि हमें चर्च जाना चाहिए, यीशु को पूजना चाहिए। मैंने उन्हें कहा कि हम हिंदू हैं, सिर्फ शिव चरित्र परायण पढ़ते हैं। इस पर उन्होंने कहा हिंदू ग्रंथ पढ़ने का कोई फायदा नहीं है। हिंदुओं के भगवानों को पूजने से कुछ नहीं होगा।”

सालुंखे द्वारा दी गई कंप्लेन के अनुसार, इन लोगों ने हिंदू भगवानों को भिखारी भी कहा। शिकायत में लिखा है, “उन्होंने (आरोपितों ने) वासुदेव अवतार को दिन में सड़क पर देखा और पूछा कि ये कौन हैं। हमने बताया कि ये हमारे भगवान हैं जो हिंदू स्थानीयों से भिक्षा लेते हैं। इस पर उन्होंने कहा कि ‘तुम्हारा भगवान तुम्हें क्या बचाएगा जब वो खुद भीख माँगता है’ मैं ये अपमान बर्दाश्त नहीं कर पाया। मैंने अपने दो दोस्तों को बुलया। उन लोगों ने बताया कि उनके साथ भी ऐसा ही हुआ है, उनके सामने भी हिंदू भगवानों को उलटा-सीधा बोला गया है। हमने मिलकर पुलिस को बुलाया और शिकायत दी। 14 आरोपित चिह्नित किए गए जो हिंदुओं को पैसे का लालच देकर उन्हें ईसाई बनने के लिए कह रहे थे।।”

ऑपइंडिया को प्राप्त हुई एफआईआर

पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 153 (ए), 298, 34 के तहत मामला दर्ज किया है। वहीं एक पुलिस अधिकारी का कहना है कि आरोपित गाँव में धर्मप्रसार के लिए आए थे। मामले में अभी तक कोई गिफ्तारी नहीं हुई है। अधिकारी ने कहा कि आरोपितों के खिलाफ नोटिस जारी कर दिया गया है।

धर्मांतरण कराने वालों के हौसले इतने बुलंद हैं कि घटना के एक दिन पहले शनिवार (14 जनवरी 2023) को धर्मांतरण की बढ़ती घटनाओं के विरोध में यहाँ हिन्दू संगठनों ने जुलूस निकाला था। बावजूद इसके एक दिन बाद ही अवैध धर्मांतरण की गतिविधि शुरू कर दी गई। इससे पहले आलंदी इलाके में ही लाल अंगूर के रस को यीशु का खून बताकर पिलाने और धर्मांतरण करने की कोशिश का मामला सामने आया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

वामपंथी सरकार ने चलवाई गोली, मारे गए 13 कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता: जानें क्यों ममता बनर्जी मना रहीं ‘शहीद दिवस’, TMC ने हाईजैक किया कॉन्ग्रेस का...

कभी शहीद दिवस कार्यक्रम कॉन्ग्रेस मनाती थी, लेकिन ममता बनर्जी ने कॉन्ग्रेस पार्टी से अलग होने के बाद युवा कॉन्ग्रेस के 13 कार्यकर्ताओं की हत्या को अपने नाम के साथ जोड़ लिया और उसका इस्तेमाल कम्युनिष्टों की जड़ काटने में किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -