Friday, April 19, 2024
Homeदेश-समाजअयोध्या पर फैसला सुनाने के बाद जजों संग गुवाहाटी पहुँचे CJI गोगोई, कहा-...

अयोध्या पर फैसला सुनाने के बाद जजों संग गुवाहाटी पहुँचे CJI गोगोई, कहा- आपकी शुभकामनाएँ चाहिए

"शनिवार को भारतीय अदालत ने एक इतिहास देखा, जब अदालत ने एक आवाज में फैसला सुनाया। जहाँ हमने किसी एक न्यायाधीश की आवाज नहीं सुनी, बल्कि सभी ने एक आवाज में फैसला दिया।"

9 नवंबर को अयोध्या मामले पर अपना ऐतिहासिक फैसला सुनाने के बाद मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई सुप्रीम कोर्ट के कई न्यायधीशों से साथ गुवाहाटी पहुँचे। यहाँ वह ‘कोर्ट्स ऑफ इंडिया’ के लोकार्पण के दौरान उपस्थित रहे। वहॉं लोगों को संबोधित करते हुए वे भावुक नजर आए। उन्होंने कहा, “यह शायद मेरा आखिरी सार्वजनिक समारोह है। मैं किसी भी विवादास्पद मुद्दे पर नहीं जाना चाहता, यह अवसर भी नहीं है। मैं जीवन के दूसरे चरण में आपकी शुभकामनाएँ चाहता हूँ।”

हालाँकि इस दौरान भले ही सीजेआई अपने सुनाए फैसले पर कुछ भी कहने से बचे , लेकिन अन्य न्यायधीशों ने उनकी खुलकर तारीफ की। सुप्रीम कोर्ट के न्यायधीश जस्टिस ह्रषिकेश रॉय ने कहा, “सीजेआई रंजन गोगोई ने मिशन असंभव को संभव बना दिया हैं। उनके नेतृत्व में ये हुआ। जिसकी झलक अयोध्या विवाद पर फैसले में पूरी तरह दिखी। आज भारत माता CJI गोगोई को आशीर्वाद दे रही होंगी।”

इसके बाद जस्टिस रवीन्द्र भट ने मंच सँभालते हुए अयोध्या फैसले पर अपनी राय दी। उन्होंने कहा, “शनिवार को भारतीय अदालत ने एक इतिहास देखा, जब अदालत ने एक आवाज में फैसला सुनाया। जहाँ हमने किसी एक न्यायाधीश की आवाज नहीं सुनी, बल्कि सभी ने एक आवाज में फैसला दिया।”

समारोह में मौजूद असम मुख्यमंत्री सर्बानंनद सोनोवाल ने भी इस दौरान सीजेआई की प्रशंसा की और उन्हें असमवासियों के गर्व का कारण बताया। उन्होंने कहा कि यह एक महान दिन है। सीजेआई पर हर असमवासी को गर्व होता है। ऐतिहासिक निर्णय देने के कारण अब हर कोई जस्टिस गोगोई से खुश हैं और असम के लोग बहुत गर्व कर रहे हैं। गौरतलब है सीजेआई रंजन गोगोई आगामी 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं। इसके बाद वह अपने गुवाहाटी स्थित आवास में ही रहेंगे।

सभी जजों को लंच पर लेकर गए सीजेआई

अयोध्या मामले पर फैसला सुनाने के बाद चीफ जस्टिस रंजन गोगोई पीठ के अन्य न्यायधीशों को रात में डिनर के लिए लेकर गए। जिनमें न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति एसए नजीर, न्यायमूर्ति एसए बोबडे और न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़़ शामिल थे। खबरों के मुताबिक सीजेआई ने डिनर की घोषणा फैसला सुनाने के तुरंत बाद कर दी थी। जिसके बाद वह सभी जजों को ताज मानसिंह होटल ले गए।

पाँचों जजों की एहतियातन बढ़ाई गई सुरक्षा

ऐतिहासिक फैसला सुनाने के बाद संवैधानिक पीठ में मौजूद पाँचों जजों की सुरक्षा को बढ़ाने का भी ऐलान कर दिया गया है। हालाँकि जजों की सुरक्षा जिम्मा संभाल रहे अधिकारियों का कहना है कि गंभीर खतरे की कोई सूचना नहीं है, लेकिन एहतियातन ये कदम उठाया गया है। सुरक्षा अधिकारियों का कहना है कि पाँचों न्यायधीशों के आवास पर सुरक्षा ड्रिल के तहत अतिरिक्त जवानों को तैनात किया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार एक अधिकारी ने इस मामले पर जानकारी देते हुए बताया कि सुरक्षा को सिर्फ इसलिए बढ़ाया गया है ताकि किसी भी तरह की अप्रिय घटना से निपटा जा सके। एहतियात के तौर पर सुरक्षा बढ़ाई गई है। जजों को किसी भी तरह का कोई खतरा नहीं है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोकसभा चुनाव 2024: पहले चरण में 60+ प्रतिशत मतदान, हिंसा के बीच सबसे अधिक 77.57% बंगाल में वोटिंग, 1625 प्रत्याशियों की किस्मत EVM में...

पहले चरण के मतदान में राज्यों के हिसाब से 102 सीटों पर शाम 7 बजे तक कुल 60.03% मतदान हुआ। इसमें उत्तर प्रदेश में 57.61 प्रतिशत, उत्तराखंड में 53.64 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

कौन थी वो राष्ट्रभक्त तिकड़ी, जो अंग्रेज कलक्टर ‘पंडित जैक्सन’ का वध कर फाँसी पर झूल गई: नासिक का वो केस, जिसने सावरकर भाइयों...

अनंत लक्ष्मण कन्हेरे, कृष्णाजी गोपाल कर्वे और विनायक नारायण देशपांडे को आज ही की तारीख यानी 19 अप्रैल 1910 को फाँसी पर लटका दिया गया था। इन तीनों ही क्रांतिकारियों की उम्र उस समय 18 से 20 वर्ष के बीच थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe