Thursday, September 23, 2021
Homeदेश-समाज'धर्म के खिलाफ नफरत नहीं करेंगे बर्दाश्त': स्वरा भास्कर पर असम में FIR, तालिबानी...

‘धर्म के खिलाफ नफरत नहीं करेंगे बर्दाश्त’: स्वरा भास्कर पर असम में FIR, तालिबानी ‘प्रेम’ में ‘हिंदुत्व’ के लिए उगला था जहर

ये एफआईआर असम के हाथीगाँव थाने में हुई है। इस मामले पर हिंदू आईटी सेल के रिक्रूटमेंट हेड सांतनु साकिया द्वारा तहरीर दी गई थी। पुलिस ने केस को धारा 67 ए और 295 ए के तहत दर्ज किया है।

तालिबानियों के आतंक की तुलना ‘हिंदुत्व’ से किए जाने पर बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर के ख़िलाफ़ अब हिंदू आईटी सेल ने एफआईआर दर्ज करवाई है। ये एफआईआर असम के हाथीगाँव (Hatigaon) थाने में हुई है। इस मामले पर समूह के रिक्रूटमेंट हेड सांतनु साकिया (Santanu Sakia) द्वारा तहरीर दी गई थी।

असम में हुई एफआईआर की कॉपी

इस मामले में शिकायत मिलने के कुछ घंटे के बाद पुलिस ने एफआईआर कर ली। जानकारी के मुताबिक, स्वरा भास्कर के ख़िलाफ़ धारा 67 ए और 295 ए के तहत केस दर्ज हुआ है। असम के अलावा हिंदू आईटी सेल की ओर से इस मामले पर एक एफआईआर गुजरात में भी दर्ज हुई है।

गुजरात से हुई शिकायत

हिंदू आईटी सेल के सोशल मीडिया कॉर्डिनेटर अक्षित सिंह बताते हैं कि समूह कानूनी तरीके से धर्म के लिए काम करता है। अभी तक इस समूह ने तकरीबन 500 शिकायतें करवाई हैं और इनमें 24 में एफआईआर भी हुई है। इस प्लेटफॉर्म के फाउंडर विकास पांडे और रमेश सोलंकी हैं। स्वरा भास्कर मामले में हिंदू आईटी सेल का पक्ष साफ है कि वो अपने धर्म के विरुद्ध किसी भी प्रकार की नफरत को बर्दाश्त नहीं करेंगे।

बता दें कि अफगानिस्तान में तालिबानियों के कब्जे के बाद स्वरा भास्कर ने अपने ट्वीट में लिखा था, “हम तालिबान के आतंक पर हैरानी और दुःख जताते हुए ‘हिंदुत्व आतंकवाद’ की तारीफ नहीं कर सकते। ऐसा भी नहीं हो सकता कि हम तालिबान के आतंक पर चुप बैठें और ‘हिंदुत्व आतंकवाद’ पर आक्रोश जताएँ। हमारे मानवीय व नैतिक मूल्य इस पर आधारित नहीं होने चाहिए कि अत्याचारी कौन है और पीड़ित कौन है।”

उल्लेखनीय है कि इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट में प्रैक्टिस करने वाले वकील आशुतोष दुबे ने भी स्वरा भास्कर के खिलाफ मुंबई पुलिस और पालघर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने कहा था कि वह जल्द ही स्थानीय पुलिस स्टेशन में भी अभिनेत्री के खिलाफ शिकायत दर्ज कराएँगे। उनके ट्वीट पर पालघर पुलिस ने जवाब देते हुए मामले की जाँच करने और उचित कार्रवाई करने की बात कही थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

100 मलयाली ISIS में हुए शामिल- 94 मुस्लिम, 5 कन्वर्टेड: ‘नारकोटिक्स जिहाद’ पर घिरे केरल के CM ने बताया

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने बुधवार को खुलासा किया कि 2019 तक केरल से ISIS में शामिल होने वाले 100 मलयालियों में से लगभग 94 मुस्लिम थे।

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा मेनस्ट्रीम मीडिया: जिस तस्वीर पर NDTV को पड़ी गाली, वह HT ने किस ‘दहशत’ में हटाई

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा हुआ मेन स्ट्रीम मीडिया! ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि हिंदुस्तान टाइम्स ने ऐसा एक बार फिर खुद को साबित किया। जब कोरोना से सम्बंधित तमिलनाडु की एक खबर में वही तस्वीर लगाकर हटा बैठा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,886FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe