Thursday, April 15, 2021
Home देश-समाज 'माझ्या कक्कानी कसाबला पकड़ला' - बलिदानी ओंबले के भतीजे का वो गीत... जिसे सुन...

‘माझ्या कक्कानी कसाबला पकड़ला’ – बलिदानी ओंबले के भतीजे का वो गीत… जिसे सुन पुलिस में भर्ती हुए 13 युवा

तुकाराम ओंबले के पहले तक उनके गाँव से कोई व्यक्ति पुलिस का हिस्सा नहीं बना था पर उनके बलिदान के बाद 13 युवा पुलिस में भर्ती हुए। उनका भताजी जब अपने स्कूल में "माझ्या कक्कानी कसाबला पकड़ला" गाता है तो...

मुंबई पर हुए आतंकी हमलों को एक दशक से अधिक का समय बीत चुका है। इतना समय बहुत होता है। इतने समय में बहुत कुछ बदलता है, कहानियों से लेकर किरदार सब कुछ! लेकिन किरदारों की ज़मीन में बहुत से ऐसे किस्से होते हैं, जिनके बिना एक काली रात की सुबह होती ही नहीं। 26/11 आतंकी हमले में उस किरदार का नाम है तुकाराम ओंबले। वही नाम, जिसने सरहद पार से आए हुए आतंकी अजमल कसाब के ताबूत में सबसे बड़ी कील ठोंकी।

निहत्थे पकड़ा एके-47 का बैरल

इस नाम की जड़ें बहादुरी की मिट्टी में बहुत गहरी हैं। 27 नवंबर की रात जब ओंबले का गिरगाँव चौपाटी पर अजमल कसाब से सामना हुआ तब ओंबले पूरी तरह निहत्थे थे। यह जानने के बादजूद कि सामने वाले के हाथों में एके-47 है, ओंबले बिना परवाह किए उस पर टूट पड़े। अपने हाथों से उसकी एके-47 का बैरल पकड़ लिया। ट्रिगर दबा और पल भर में कई गोलियाँ चलीं और ओंबले मौके पर बलिदानी हो गए। इसके पहले अजमल कसाब और उसके साथी छत्रपती शिवाजी टर्मिनल पर गोलीबारी कर चुके थे।

लेकिन इस बलिदान ने बहुत गाढ़ी लकीर खींची। लोगों के लिए मिट्टी में मिलने की सबसे गाढ़ी लकीर! ओंबले के पहले तक उनके गाँव से कोई व्यक्ति पुलिस का हिस्सा नहीं बना था पर उनके शहीद होने के बाद 13 युवा पुलिस में भर्ती हुए। मुंबई से 284 किलोमीटर दूर, महज़ 250 परिवारों का गाँव, केदाम्बे। इस गाँव के लिए देश के लिहाज़ से तीन तिथियाँ सबसे अहम हैं – पहली 15 अगस्त, दूसरी 26 जनवरी और तीसरी 26 नवंबर।

बच्चों के चहेते और युवाओं के लिए नज़ीर

तुकाराम ओंबले ऐसे व्यक्ति थे, जो मृत्यु के पहले तक गाँव के बच्चों के चहेते बने रहे और मृत्यु के बाद युवाओं के लिए नज़ीर बने। यही कारण था कि उनकी मृत्यु के बाद लगभग 13 युवाओं ने पुलिस में शामिल होने का फैसला लिया। उनके गाँव के सरकारी विद्यालय में जब बहादुरी का ज़िक्र छिड़ता है, पढ़ाने वाले ओंबले का नाम सामने रख देते हैं।

उनके परिवार वाले आज भी बड़ी शान से बतौर ‘हवलदार’ उनका परिचय देते हैं। ओंबले बचपन में कटहल और आम बेचते थे और बाकी समय में गाय-भैंस चराते थे। उनके मौसा सेना में गाड़ी चलाते थे और तभी से उन्हें सेना वालों और पुलिसकर्मियों की वर्दी से लगाव हुआ। साल 1979 में पुलिस की नौकरी का हिस्सा बनने के लिए ओंबले ने बृहनमुंबई के विद्युत विभाग की नौकरी तक छोड़ दी थी।

मेरे चाचा ने कसाब को पकड़ा

इंडियन एक्सप्रेस द्वारा प्रकाशित किताब ‘26/11 स्टोरीज़ ऑफ़ स्ट्रेंथ’ के मुताबिक़ तुकाराम ओंबले के चचेरे भाई रामचन्द्र ओंबले का एक बेटा है स्वानन्द ओंबले। जब ओंबले मुंबई में शहीद हुए थे, तब उसकी उम्र साल भर भी नहीं थी। अपने विद्यालय में गाना गाते हुए वह बड़ी दमदारी के साथ कहता है – ‘माझ्या कक्कानी कसाबला पकड़ला’ यानी मेरे चाचा ने ही कसाब को पकड़ा था। बल्कि उस कक्षा में जब भी पूछा जाता है कि तुकाराम ओंबले कौन थे? सभी बच्चे एक साथ जवाब देते हैं – ‘पुलिस’। 

तुकाराम ओंबले की बेटी वैशाली अक्सर समाचार समूहों को दिए जाने वाले साक्षात्कारों में कहती हैं कि हमें पता है कि हमारे पिता जी नहीं लौटेंगे। फिर भी हम उम्मीद करते हैं कि ऐसा हो कि वह एक दिन वापस आएँ। दुनिया में होने वाली किसी भी आतंकी घटना के बारे में सुन कर बिलकुल अच्छा नहीं लगता है। ऐसी घटनाओं में भी किसी के परिवार का सदस्य अपनी जान जोखिम में डालता है और सब उसकी सलामती की दुआ करते हैं। उन्होंने जितना कुछ किया अपने देश के लिए किया और देश के लोगों के लिए किया।

दूसरों के लिए रुक जाते ज़्यादा देर

तुकाराम ओंबले के सहकर्मी हवलदार संजय चौधरी ने एक समाचार समूह से बात करते हुए कहा था, “इस बात में कोई शक नहीं है कि ओंबले हम सभी से अलग थे। जहाँ हर पुलिसकर्मी ड्यूटी खत्म पर जल्द से जल्द घर की राह देखता था, वहाँ ओंबले अपनी ड्यूटी से ज़्यादा रुक जाते थे। ओंबले अक्सर नाइट शिफ्ट में देर तक रुक जाते थे, जिससे दूसरे पुलिसकर्मियों को कोई असुविधा न हो। इसके बाद अगले दिन सुबह समय से आ भी जाते थे और हमें अपनी ज़िंदगी में इस तरह के पुलिसकर्मी कम ही नज़र आए। जिन्हें लोगों के साथ-साथ अपने साथ ड्यूटी करने वालों की भी उतनी ही परवाह थी।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आरोग्य सेतु’ डाउनलोड करने की शर्त पर उमर खालिद को जमानत, पर जेल से बाहर ​नहीं निकल पाएगा दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों का...

दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में उमर खालिद को जमानत मिल गई है। लेकिन फिलहाल वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएगा। जाने क्यों?

कोरोना से जंग में मुकेश अंबानी ने गुजरात की रिफाइनरी का खोला दरवाजा, फ्री में महाराष्ट्र को दे रहे ऑक्सीजन

मुकेश अंबानी ने अपनी रिफाइनरी की ऑक्सीजन की सप्लाई अस्पतालों को मुफ्त में शुरू की है। महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

कोरोना पर कुंभ और दूसरे राज्यों को कोसा, खुद रोड शो कर जुटाई भीड़: संजय राउत भी निकले ‘नॉटी’

संजय राउत ने महाराष्ट्र में कोरोना के भयावह हालात के लिए दूसरे राज्यों को कोसा था। कुंभ पर निशाना साधा था। अब वे खुद रोड शो कर भीड़ जुटाते पकड़े गए हैं।

‘वीडियो और तस्वीरों ने कोर्ट की अंतरात्मा को हिला दिया है…’: दिल्ली दंगों में पिस्टल लहराने वाले शाहरुख को जमानत नहीं

दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली दंगों के आरोपित शाहरुख पठान को जमानत देने से इनकार कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,218FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe