Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजउद्धव ठाकरे सरकार ने महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संकट के बीच राज्य में सेना...

उद्धव ठाकरे सरकार ने महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संकट के बीच राज्य में सेना के हस्तक्षेप से किया इनकार: रिपोर्ट

मुंबई के विभिन्न उपनगरों जैसे वर्ली, धारावी, अंधेरी, जोगेश्वरी, बायकुला, पवई, डोंगरी, ग्रांट रोड, सांताक्रूज, चेंबूर, गोवंडी, मलाड, दादर और कांदिवली से बड़ी संख्या में संक्रमित लोगों का पता चला है। जिसकी वजह से यहाँ पर कम्युनिटी ट्रांसमिशन की आशंकाएँ बढ़ गई है।

पूरे विश्व के साथ-साथ भारत में भी कोरोना का कहर जारी है। भारत में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है। यहाँ पर कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। जिसकी वजह से यहाँ पर सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली को भारी नुकसान होने का खतरा है। इसके बावजूद राज्य में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महागठबंधन सरकार ने कोरोना के प्रसार पर काबू पाने के लिए देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में केंद्र सरकार के सशस्त्र बलों को तैनात करने के कदम से इनकार कर दिया है।

देश के सबसे बड़े और काफी घनी आबादी वाले शहरों में से एक, मुंबई में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या धड़ल्ले से बढ़ रही है। मुंबई के विभिन्न उपनगरों जैसे वर्ली, धारावी, अंधेरी, जोगेश्वरी, बायकुला, पवई, डोंगरी, ग्रांट रोड, सांताक्रूज, चेंबूर, गोवंडी, मलाड, दादर और कांदिवली से बड़ी संख्या में संक्रमित लोगों का पता चला है। जिसकी वजह से यहाँ पर कम्युनिटी ट्रांसमिशन की आशंकाएँ बढ़ गई है।

सकाल ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि राज्य सरकार द्वारा लॉकडाउन को प्रभावी रूप से लागू करने और लोगों को प्रतिबंधों का उल्लंघन करने से रोकने में असफल होने के बाद केंद्र ने शहर को नियंत्रित करने और वायरस के बढ़ते प्रसार पर लगाम लगाने के लिए सेना भेजने की योजना बनाई थी।

शहर में अनियंत्रित रूप से बढ़ रहे कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या के बावजूद मुंबई में लोग लॉकडाउन के आदेशों का उल्लंघन कर रहे हैं, सड़कों पर जोर-जबरदस्ती कर रहे हैं। इसलिए केंद्र सरकार ने मुंबई में सेना को तैनात करने की योजना बनाई थी। विशेषकर धारावी, रे रोड, मानखुर्द, मोहम्मद अली रोड और ठाणे के भिवंडी जैसे क्षेत्रों में।

हालाँकि, इस महामारी के बीच उद्धव ठाकरे सरकार द्वारा सेना के हस्तक्षेप से इनकार करने के बाद इस योजना को निरस्त कर दिया गया। जानकारी के मुताबिक, महाराष्ट्र सरकार को यह गलतफहमी हो गई कि अगर भारतीय सेना को मुंबई की बागडोर संभालने की अनुमति दी जाती है, तो वो राज्य और स्थानीय प्रशासन में निहित शक्तियों को प्रभावी रूप से खो देगी। साथ ही केंद्र सरकार संघीय सशस्त्र बलों की उपस्थिति के साथ शहर पर हावी हो जाएगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि इसी डर की वजह से महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई में सेना के हस्तक्षेप से इनकार कर दिया।

भारत में कोरोना वायरस के संकट से सबसे अधिक प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है। राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के लगभग 2064 मामले दर्ज किए गए हैं, जिनमें से आधे से अधिक अकेले मुंबई शहर से रिपोर्ट किए गए हैं। बीएमसी द्वारा कल 16 घातक मामलों के साथ 217 कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -